बिजनेस डेस्क। रिजर्व बैंक ऑफ इंडिया (RBI) की मॉनेटरी पॉलिसी कमेटी (MPC) एक अहम फैसला लिया है। इस फैसले के मुताबिक, अब डिजिटल पेमेंट्स बैंक (Digital Payments Banks) में कस्टमर 2 लाख रुपए तक डिपॉजिट कर सकेंगे। पहले यह लिमिट 1 लाख रुपए तक ही थी। इसके अलावा 7 अप्रैल को अपनी मीटिंग के फैसले में मॉनेटरी पॉलिसी कमेटी ने प्रमुख नीतिगत दरों को 4 फीसदी पर बरकरार रखा है। बता दें कि डिपॉजिट लिमिट बढ़ाए जाने से पेटीएम पेमेंट्स बैंक, एयरटेल पेमेंट्स बैंक और इंडिया पोस्ट पेमेंट्स बैंक समेत दूसरे डिजिटल पेमेंट्स बैंकों को काफी प्रोत्साहन मिला है। ये बैंक लंबे समय से डिपॉजिट लिमिट बढ़ाने की मांग कर रहे थे। 

वॉलेट से पैसे ट्रांसफर की मिलेगी सुविधा
रिजर्व बैंक के गवर्नर शक्तिकांत दास (Shaktikanta Das) ने कहा कि पेमेंट वॉलेट के अपग्रेडेशन की योजना पर भी काम चल रहा है। इससे यूजर्स को एक वॉलेट से दूसरे वॉलेट में पैसे ट्रांसफर करने की सुविधा मिलेगी। फिलहाल, गूगल पे या पेटीएम के वॉलेट से एक-दूसरे के वॉलेट में पैसे ट्रांसफर नहीं किए जा सकते हैं। 

कितनी हो सकती है खुदरा महंगाई दर
नए वित्त वर्ष की पहली पॉलिसी की घोषणा करते हुए रिजर्व बैंक के गर्वनर शक्तिकांत दास ने कहा कि वित्त वर्ष 2022 की पहली छमाही में रिटेल महंगाई 5 फीसदी के आसपास रह सकती है। पहले इसके 5.2 फीसदी पर रहने का अनुमान जाहिर किया गया था।

डीजीपी ग्रोथ का क्या है अनुमान
रिजर्व बैंक ऑफ इंडिया ने वित्त वर्ष 2022 के लिए जीडीपी ग्रोथ अनुमान 10.5 फीसदी पर बनाए रखा है। रिजर्व बैंक ने कहा कि दुनिया के स्तर पर अर्थव्यवस्था में धीरे-धीरे रिकवरी हो रही है। वहीं, कई तरह की आशंकाएं और अनिश्चितताएं अभी बनी हुई हैं।