Asianet News Hindi

RIL 16 लाख करोड़ का मार्केट कैप पार करने वाली बनी पहली कंपनी, 6 महीने में निवेशकों को मिला 173 फीसदी रिटर्न

रिलायंस इंडस्ट्रीज (Reliance Industries) के शेयरों ने बुधवार को एक नया रिकॉर्ड कायम करते हुए इतिहास रच दिया। पहली बार आरआईएल ( RIL) का मार्केट कैप 16 लाख करोड़ के पार चला गया है। 

Reliance Industries market cap crosses 16 lakh crore first time stock, 135 percent return to investors in last 6 months MJA
Author
New Delhi, First Published Sep 16, 2020, 3:49 PM IST
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp

बिजनेस डेस्क। रिलायंस इंडस्ट्रीज (Reliance Industries) के शेयरों ने बुधवार को एक नया रिकॉर्ड कायम करते हुए इतिहास रच दिया। पहली बार आरआईएल (RIL) का मार्केट कैप 16 लाख करोड़ के पार चला गया है। बुधवार को कारोबार में आरआईएल के शेयरों में 1.5 फीसदी के करीब तेजी रही और यह 2369 के भाव पर पहुंच गया। यह शेयर के लिए 52 हफ्तों का हाई है। इस भाव के साथ ही कंपनी का मार्केट कैप 16 लाख करोड़ के पार चला गया। बता दें कि यह देश की पहली ऐसी कंपनी है, जिसका मार्केट कैप 10 लाख करोड़ से ज्यादा है। आरआईएल के शेयर में मार्च के लो के बाद से 173 फीसदी तेजी आ चुकी है।

6 महीने में 173 फीसदी रिटर्न
रिलायंस इंडस्ट्रीज के शेयर में पिछले 6 महीने से कम समय में 173 फीसदी से ज्यादा तेजी आई है। 23 मार्च को शेयर 867 रुपये के भाव पर था। वहीं, 16 सितंबर को यह 2369 रुपए के भाव पर पहुंच चुका है। लॉकडाउन के दौरान शेयर अपने 52 हफ्तों के लो पर चला गया था। उसके बाद से लगातार रिकवरी बनी हुई है। इसमें जियो के लिए कई ग्लोबल कंपनियों के साथ हुई बड़ी डील और उसके बाद फ्यूचर ग्रुप के साथ डील का योगदान रहा है।

जियो में 1.52 लाख करोड़ की डील
आरआईएल के आगे बढ़ने में रिलायंस जियो का बहुत बड़ा योगदान रहा है। जियो में मार्च के बाद से 1.52 लाख करोड़ का निवेश आया। जियो के लिए 14 ​ग्लोबल कंपनियों के साथ 15 डील में आरआईएल ने 1.52 लाख करोड़ रुपये जुटाए हैं। इनमें फेसबुक, सिल्वर लेक, विस्ता, जनरल अटलांटिक, केकेआर, मुबाडला, एडीएआई, टीपीजी, एल कैटरटॉन, पीआईएफ, इंटेल, क्वॉलकॉम और गूगल जैसे नाम हैं।

RIL का बेहतर वित्तीय प्रदर्शन
आरआईएल को पहली तिमाही में 13,248 करोड़ रुपए का मुनाफा हुआ है। यह सालाना आधार पर 30.6 फीसदी ज्यादा है। हालांकि, आरआईएल की आय घटकर 95,626 करोड़ रही। आरआईएल का रिफाइनिंग और पेट्रोकेमिकल्स से रेवेन्यू 46,642 करोड़ और 25,192 करोड़ रुपए रहा। रिटेल बिजनेस से रेवेन्यू 31,633 करोड़ और डिजिटल सर्विसेस से 21,302 करोड़ रुपए रहा। रिलायंस जियो का मुनाफा 183 फीसदी बढ़कर 2,520 करोड़ रुपए रहा है। 

फ्यूचर ग्रुप से डील
आरआईएल की सहायक कंपनी रिलायंस रिटेल वेंचर लिमिटेड (RRVL) फ्यूचर ग्रुप के रिटेल, होलसेल, लॉजिस्टिक्स और वेयरहाउसिंग बिजनेस का अधिग्रहण करेगी। इसके लिए RIL और फ्यूचर ग्रुप में 24713 करोड़ रुपए की डील हुई है। इस डील के बाद अब मुकेश अंबानी रिटेल क्षेत्र के बादशाह के तौर पर उभर सकते हैं। 

Follow Us:
Download App:
  • android
  • ios