Asianet News HindiAsianet News Hindi

बीएसएनएल-एमटीएनएल को घाटे से उबारने के लिए सात सदस्यीय मंत्री समूह गठित

सरकारी दूरसंचार कंपनियों बीएसएनएल और एमटीएनएल के पुनरुत्थान के लिये घोषित 69 हजार करोड़ रुपये की योजना को अमल में लाने और उस पर नजर रखने के लिये सात सदस्यीय मंत्री समूह का गठन किया गया है
 

seven minister group formed to Re surge the BSNL from loss  kpm
Author
New Delhi, First Published Dec 28, 2019, 7:20 PM IST
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp

नई दिल्ली: सरकारी दूरसंचार कंपनियों बीएसएनएल और एमटीएनएल के पुनरुत्थान के लिये घोषित 69 हजार करोड़ रुपये की योजना को अमल में लाने और उस पर नजर रखने के लिये सात सदस्यीय मंत्री समूह का गठन किया गया है। सूत्रों ने इसकी जानकारी दी।

आधिकारिक सूत्रों ने मीडिया को बताया कि भारत संचार निगम लिमिटेड (बीएसएनएल) और महानगर टेलीफोन निगम लिमिटेड (एमटीएनएल) को उबारने के लिये हाल में लिये गये निर्णयों पर सरलता और तेजी के साथ अमल करने के लिये उच्चस्तरीय समूह का गठन किया गया है। इन निर्णयों में 4जी स्पेक्ट्रम का आवंटन तथा संपत्तियों की बिक्री आदि शामिल है।

मंत्री समूह में ये मंत्री होंगे शामिल

सूत्रों के अनुसार, मंत्री समूह में रक्षा मंत्री राजनाथ सिंह, सूचना प्रौद्योगिकी एवं दूरसंचार मंत्री रविशंकर प्रसाद, गृह मंत्री अमित शाह, वित्त मंत्री निर्मला सीतारमण, वाणिज्य मंत्री पीयूष गोयल और पेट्रोलियम मंत्री धर्मेंद्र प्रधान शामिल हैं। उन्होंने कहा, ''पुनरुत्थान पैकेज में कारोबारी वहनीयता, कार्यबल, बांड जारी करना, संपत्तियों की बिक्री और 4जी आवंटन आदि जैसे महत्वपूर्ण कदम शामिल हैं। मंत्रीसमूह इन योजनाओं की निगरानी करेगा तथा क्रियान्वयन तेज करेगा।''

उल्लेखनीय है कि सरकार ने बीएसएनएल और एमटीएनएल के  के लिये इस साल अक्टूबर में 69 हजार करोड़ रुपये की योजना को मंजूरी दी थी। योजना में इन दोनों उपक्रमों का विलय करने, संपत्तियों की बिक्री करने और कर्मचारियों को स्वैच्छिक सेवानिवृति योजना (वीआरएस) देने जैसे कदमों की घोषणा की गई है।

प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी की अध्यक्षता में हुई बैठक

प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी की अध्यक्षता में हुई केन्द्रीय मंत्रिमंडल की बैठक में इस योजना को मंजूरी दी गई थी। एमटीएनएल दिल्ली और मुंबई में सेवायें देती है जबकि बीएसएनएल इन दोनों शहरों को छोड़कर पूरे देश में संचार सेवायें उपलब्ध कराती है।

पुनरुत्थान योजना के तहत कर्मचारियों की वीआरएस योजना के तहत अब तक दोनों कंपनियों के करीब 92,700 कर्मचारी इसके लिये आवेदन कर चुके हैं। इससे कंपनियों के वेतन बिल में 8,800 करोड़ रुपये सालाना की बचत होगी। ये कंपनियां अगले तीन साल में अपनी संपत्तियों की बिक्री से 37,500 करोड़ रुपये प्राप्त करेंगी ऐसी योजना है।

बता दें कि बीएसएनएल और एमटीएनएल पिछले आठ- नौ साल से घाटे में चल रही हैं।

(यह खबर समाचार एजेंसी भाषा की है, एशियानेट हिंदी टीम ने सिर्फ हेडलाइन में बदलाव किया है।)

(प्रतीकात्मक फोटो)

Follow Us:
Download App:
  • android
  • ios