Asianet News Hindi

कौन है बहन और उनका हसबैंड, जो हो गए हैं नीरव मोदी के खिलाफ

भगोड़े हीरा कारोबारी नीरव मोदी (Nirav Modi) की परेशानी बढ़ती जा रही है। प्रवर्तन निदेशालय (ED) की ओर से दायर 2 मामलों में अब नीरव मोदी की छोटी बहन और जीजा ने गवाही देने का फैसला किया है और कोर्ट से माफी मांगी है। 

 

Sister of Nirav Modi amd her husband opt for pardon, to testify against him MJA
Author
New Delhi, First Published Jan 6, 2021, 5:33 PM IST
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp

बिजनेस डेस्क। भगोड़े हीरा कारोबारी नीरव मोदी (Nirav Modi) की परेशानी बढ़ती जा रही है। प्रवर्तन निदेशालय (ED) की ओर से दायर 2 मामलों में अब नीरव मोदी की छोटी बहन और जीजा ने गवाही देने का फैसला किया है और कोर्ट से माफी मांगी है। मुंबई स्थित स्पेशल कोर्ट ने गवाही देने के बदले उनकी माफी वाली एप्लिकेशन को स्वीकार कर लिया है। 

कौन हैं नीरव मोदी की बहन और जीजा
नीरव मोदी की बहन पूर्वी मेहता (Purvi Mehta) बेल्जियम की नागरिक हैं, वहीं उसके जीजा मयंक मेहता (Maiank Mehta) ब्रिटेन के नागरिक हैं। इन्होंने पिछले महीने दिसंबर 2020 में ही कोर्ट में एक एप्लिकेशन दिया था। इसमें इन्होंने कहा था कि वे खुद को नीरव मोदी से दूर रखना चाहते हैं और उसके व्यवसाय से जुड़े कुछ महत्वपूर्ण सबूत भी दे सकते हैं। 

क्या कहा दोनों ने 
नीरव मोदी की बहन और उसके जीजा ने कोर्ट में दायर एप्लिकेशन में कहा है कि नीरव मोदी की आपराधिक गतिविधियों से उनकी प्रोफेशनल लाइफ पर बहुत ज्यादा खराब असर पड़ा है। उन्होंने कहा कि वे एनफोर्समेंट डायरोक्टोरेट (ED) की ओर से दायर किए गए मनी लॉन्ड्रिंग के दोनों केसों में गवाह बनना चाहते हैं। उन्होंने यह भी कहा कि वे कुछ ऐसे खुलासे भी कर सकते हैं, जो नीरव मोदी और बाकी आरोपियों के खिलाफ अहम सबूत हो सकते हैं। 

नीरव मोदी पर क्या हैं आरोप
नीरव मोदी पर पंजाब नेशनल बैंक (PNB) से फर्जी अंडरटेकिंग के जरिए 6498.20 करोड़ रुपए के घोटाले के मामले में सीबीआई (CBI) और ईडी (ED) ने जांच शुरू कर रखी है। सीबीआई ने पूर्वी मेहता और मयंक मेहता को आरोपी नहीं बनाया है, लेकिन एनफोर्समेंट डायरोक्टोरेट  ने इन दोनों के नाम केस में जोड़े हैं। दोनों के गवाह बनने को लेकर फिलहाल प्रवर्तन निदेशालय ने कोई आपत्ति नहीं जताई है। 

पूर्वी और मयंक ने क्या कहा एप्लिकेशन में
पूर्वी और मयंक ने अपने एप्लिकेशन में कहा है कि वे कोविड-19 महामारी की वजह से भारत नहीं आ सके, क्योंकि अंतरराष्ट्रीय यात्राओं पर प्रतिबंध लगा हुआ था। उन्होंने कहा कि वे वीडियो कॉन्फ्रेंसिंग के जरिए मैजिस्ट्रेट के सामने बयान दे सकते हैं। इसके पहले अक्टूबर 2020 में भी प्रवर्तन निदेशालय को दिए गए बयान में इन्होंने जांच में पूरा सहयोग करने की बात कही थी। नीरव मोदी की बहन और जीजा के इस एप्लिकेशन पर मुंबई के स्पेशल कोर्ट ने कहा है कि आरोपी इस समय विदेश में हैं और उन्हें कोर्ट में मौजूद होने के लिए अभियोजन पक्ष को जल्द से जल्द भारत लाने की सुविधा देनी चाहिए। 

मनी लॉन्ड्रिंग के लिए इस्तेमाल होते रहे खाते
बता दें कि पूर्वी मेहता के नाम से जुड़ी संस्थाओं और बैंक खातों को भारत और विदेश में मनी लॉन्ड्रिंग के लिए इस्तेमाल किया जाता रहा है। पूर्वी मेहता के खिलाफ इंटरपोल ने एक रेड कॉर्नर नोटिस भी जारी किया था। वहीं, न्यूयॉर्क और लंदन में उनकी प्रॉपर्टीज को प्रवर्तन निदेशालय ने अटैच कर लिया था। 

Follow Us:
Download App:
  • android
  • ios