Asianet News Hindi

चन्द्रयान-2 की लैंडिग से पहले बढ़ा इन कंपनियों का शेयर, यह रही खास वजह

चंद्रयान 2 का लैंडर विक्रम कुछ ही घंटो में चांद्रमां सतह पर सॉफ्ट लैंडिंग करेगा। अगर लैंडर विक्रम चंद्रमां की दक्षिणी ध्रुव सतह पर उतरने में सफल रहा तो, इस हिस्से में उतरने वाला भारत पहला देश होगा और चांद पर उतरने वाला चौथा देश होगा।

The share of these companies increased before Chandrayaan-2's landing, this is the main reason
Author
New Delhi, First Published Sep 6, 2019, 4:49 PM IST
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp

नई दिल्ली. चंद्रयान 2 का लैंडर विक्रम कुछ ही घंटो में चांद्रमा सतह पर सॉफ्ट लैंडिंग करेगा। अगर लैंडर विक्रम चंद्रमा की दक्षिणी ध्रुव सतह पर उतरने में सफल रहा तो, इस हिस्से में उतरने वाला भारत पहला देश होगा और चांद पर उतरने वाला चौथा देश होगा।

विश्व में यह न केवल इसरो को एक बढ़ती अंतरिक्ष एजेंसी के रूप में प्रस्तुत करेगा बल्कि भविष्य में अंतरिक्ष प्रोजेक्ट्स के लिए घरेलू लोगों और निजी खिलाड़ियों के लिए अवसरों को भी खोलेगा।

इन शेयरों में दिखी तेजी
चंद्रयान 2 के निर्माण में घरेलू कंपनिय लक्ष्मी मशीन वर्क्स ने महत्वपूर्ण हिस्सों का निर्माण किया। जिसके कारण शुक्रवार व्यापारियों की नजर बाजार की चाल पर रही। लक्ष्मी मशीन वर्क्स ने 1.95 प्रतिशत बढ़त के साथ 3647 पर कारोबार किया। यह शेयर साल के 36 प्रतिशत निचली दर पर रहा। वहीं L&T ने 0.8 प्रतिशत की बढ़त के साथ 1330 पर बंद हुआ। जो साल के 7 प्रतिशत निचले स्तर पर था। वहीं HAL ने 0.70 प्रतिशत की बढ़त के साथ 665.95 पर कारोबर किया। लेकिन साल के 17 फीसदी निचले स्तर पर था। 

इन कंपनियों का रहा योगदान
इन शेयरों में भी दिखी हलचल- गोदरेज की सहायक कंपनी गोदरेज एरोस्पेस इसके अलावा अनंत टेक्नोलॉजीज, एमटीएआर टेक्नोलॉजीज, आईनॉक्स टेक्नोलॉजीज, सेंटम अवासराला और कर्नाटक हाइब्रिड माइक्रोडिवाइस ने लैंडर और रोवर को बनाने में योगदान दिया है। 

7 सितंबर को तड़के 1:55 पर लैंडिंग के बाद, रोवर प्रज्ञान एक साल तक अपने मिशन को जारी रखेगा।  

Follow Us:
Download App:
  • android
  • ios