Asianet News HindiAsianet News Hindi

अब तक 1 करोड़ से ज्यादा फास्टैग जारी, रोज मिल रहा 46 करोड़ रुपये का टोल

भारतीय राष्ट्रीय राजमार्ग प्राधिकरण (एनएचएआई) के एक अधिकारी ने मीडिया को बताया,"विभिन्न बिक्री केंद्रों (पीओएस) के जरिये करीब 1.10 करोड़ फास्टैग जारी किए गए हैं
 

Till now more than 1 crore fastags continue daily toll of Rs 46 crore kpm
Author
New Delhi, First Published Dec 24, 2019, 8:20 PM IST
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp

नई दिल्ली: राष्ट्रीय राजमार्गों पर इलेक्ट्रॉनिक रूप से पथ कर (टोल) संग्रह शुरू होने के साथ अब तक 1.10 करोड़ फास्टैग जारी किए गए हैं। भारतीय राष्ट्रीय राजमार्ग प्राधिकरण (एनएचएआई) के एक अधिकारी ने मीडिया को बताया,"विभिन्न बिक्री केंद्रों (पीओएस) के जरिये करीब 1.10 करोड़ फास्टैग जारी किए गए हैं। राजमार्ग प्राधिकरण रोज करीब डेढ़ से दो लाख फास्टैग की बिक्री देख रहा है। यह इस बात का स्पष्ट संकेत है कि लोग इस डिजिटल व्यवस्था को स्वीकार कर रहे हैं।

अधिकारी ने कहा कि इसके परिणामस्वरूप, दैनिक इलेक्ट्रॉनिक पथ कर संग्रह करीब 46 करोड़ रुपये पर पहुंच गया है। एनएचएआई ने यात्रा को सुगम बनाने के लिए 15 दिसंबर से देशभर के अपने 523 टोल प्लाजा पर आरएफआईडी आधारित फास्टैग से पथ कर संग्रह शुरू किया है।

टोल लेनदेन की संख्या करीब 24 लाख

अधिकारी ने कहा, "फास्टैग व्यवस्था शुरू होने के आठ दिन के भीतर ही फास्टैग से रोजाना आधार पर टोल लेनदेन की संख्या करीब 24 लाख पर पहुंच गई है।" उन्होंने कहा कि राजमार्ग प्राधिकरण इस व्यवस्था के शुरू होने के बाद से यात्रियों द्वारा उठाई जा रही समस्याओं को सुलझाने के लिए कड़ी मेहनत कर रहा है। अब तक उठाए गए सभी मुद्दों पर एनएचएआई के अधिकारी काम कर रहे हैं।

बता दें कि फास्टैग रिचार्ज होने वाला प्रीपेड टैग है जिसका टोल पर अपने आप बिना रुके ऑनलाइन भुगतान हो जाएगा।

(यह खबर समाचार एजेंसी भाषा की है, एशियानेट हिंदी टीम ने सिर्फ हेडलाइन में बदलाव किया है।)

(फाइल फोटो)

Follow Us:
Download App:
  • android
  • ios