करियर डेस्क. IAS Interview Questions: दोस्तों, इस लॉकडाउन UPSC, SSC, Railway NTPC और Delhi University Exam जैसी जरूरी परीक्षाओं की तैयारी करने वाले छात्र काफी निराश हैं। सरकारी नौकरी (Sarkari Naukari) की तैयारी करने वाले बच्चों को एग्जाम और ज्वाइनिंग के लिए अधिक इंतजार करना पड़ेगा। लॉकडाउन के कारण कहीं वैकेंसी रद्द कर दी गईं तो कहीं एग्जाम टाल दिए गए। लेकिन निराश न हों और तैयारी में जुटे रहें। 

संघ सेवा आयोग (UPSC) सिविल सर्विसेज परीक्षाएं (Civil Services Exam 2020) की तैयारी करने वाले छात्र पढ़ते रहें। करेंट अफयर्स के साथ हम यूपीएससी इंटरव्यू (UPSC Personality Test Schedule 2019) से लेकर प्रारंभिक एग्जाम  (UPSC Prelims Exam 2020) तक की अपडेट जानकारी दे रहे हैं। ऐसे में परीक्षा के लिए यूपीएससी कैंडिडेट्स (UPSC Candidates) अपनी तैयारी को और बेहतर बना सकते हैं।

इन 10 आईएस इंटरव्यू  के सवालों के जवाब खोज आप खुद का मॉक टेस्ट कर सकते हैं। 

 

 

जवाब: तो मां होगी, क्योंकि डॉक्टर शर्मा से लिंग का पता नहीं चलता।

 

जवाब: See-o-double-you (मतलब सी-ओ-डब्ल्यू = cow)

 

जवाब: मेहंदी।

 

जवाब: पैसे को आईने के सामने रख दो।

 

जवाब. प्रधानमंत्री की सुरक्षा कोई बॉडी गार्ड नहीं बल्कि भारतीय विशेष समूह यानि SPG कमांडो करते हैं। इन कमांडो का काम प्रधानमंत्री और उनके पर परिवार वालों की रक्षा करना है। इनका वेतन 84, 236, से लेकर 2,44, 632  तक होता है। 

 

जवाब. दूध और चीनी डालकर बनाई गई चाय तीन कप से ज्यादा नहीं पीनी चाहिए। चाय को कप में डालने के दो तीन मिनट बाद पीना ही ठीक रहता है। आधिक चाय का सेवन आपको अनिद्रा (नींद न आना) खराब पाचन और वजन बढ़ने तक जैसा भारी नुकसान पहुंचा सकता है। ज्यादा चाय पीना शरीर के बाकी अंगों के साथ आंखों और ब्रेन पर अधिक बुरा असर डालता है। 

 

जवाब: टीपू सुल्तान की मौत उनके आखिरी युद्ध में हुई। 4 मई 1799 में मैसूर के टीपू सुल्तान की श्रीरंगपत्तनम की लड़ाई में मृत्यु हो गई थी।

 

जवाब. हंता वायरस चूहों से फैलता है, अगर कोई इंसान चूहे खाए या उनके मल मूत्र, लार के संपर्क में आने के बाद इससे संक्रमित हो सकता है। हंता वायरस कोरोना के जैसे एक व्यक्ति से दूसरे व्यक्ति में नहीं जाता है। वहीं इस वायरस का पता लगने में एक हफ्ते से दो महीने तक का समय लग सकता है। 

 

जवाब: मुर्गी का।

 

जवाब. बैक्टेरिया अच्छे और बुरे दोनों होते हैं लेकिन वायरस हमेशा बुरे ही होते हैं। बैक्टेरिया की पहचान आसानी से हो जाती है जबकि वायरस को पकड़ना मुश्किल होता है। बैक्टेरिया अन्य जीवो के अंदर पाए जाने जाने सूक्ष्म जीव होते हैं और वायरस जीवित कोशिका के संपर्क में आते ही जीवित होते हैं फैलते हैं।