करियर डेस्क. जाको राखे साइयां मार सके ना कोई मतलब जिसकी रक्षा भगवान करते है उसे कोई नहीं मार सकता है। ऐसा ही नजारा देखने के मिला मुंबई (Mumbai) के वांगणी रेलवे स्टेशन (Vangani Railway Station) पर। जहां एक पॉइंट्समैन ने अपनी जान की बाजी लगाकर रेलवे ट्रैक पर गिरे एक बच्चे की जान बचाई। ऐसे लोग समाज के लिए रोल मॉडल होते हैं। इस पॉइंट्समैन का नाम है मयूर शेल्खे  (Mayur Shelkhe)। जानते हैं क्या है पूरा घटनाक्रम।

 

 

दरअसल, वांगणी रेलवे स्टेशन (Vangani Railway Station) प्लेटफॉर्म पर अपनी मां के साथ चल रहा एक बच्चा अचानक रेलवे ट्रैक पर गिर पड़ा। जैसे ही बच्चा रेलवे ट्रेक पर गिरा उसी समय उसी ट्रैक पर ट्रेन आ रही थी।  ट्रेन को सामने से आता देख सेंट्रल रेलवे मुंबई डिविजन (Central Railway Mumbai Division) के पॉइंट्समैन (Railway Pointsman) मयूर शेल्खे  ने अपनी जान की परवाह किए बिना रेलवे ट्रैक पर दौड़कर उस बच्चे की जान बचाई।

वांगणी रेलवे स्टेशन पर मयूर शेल्के पाइंट्समैन के रूप में अपनी ड्यूटी कर रहे थे। तभी एक बच्चा अपनी मां के साथ प्लेटफार्म पर जा रहा था। इसी दौरान एक ट्रेन भी तेज रफ़्तार से उस प्लेटफॉर्म से लगे रेलवे ट्रैक की तरफ आ रही थी। अचानक वह बच्चा अपनी मां के हाथ को छोड़कर रेलवे ट्रैक पर गिर गया था।

सोशल मीडिया में वायरल हुआ वीडियो
घटना के बाद मयूर शेल्के सभी की नजरों में हीरो बन गए हैं। सोशल मीडिया में उनका वीडियो वायरल हो रहा है। इस घटना के बाद सेंट्रल रेलवे के सभी कर्मचारियों ने ऑफिस आने पर मयूर शेलके का ताली बजाकर स्वागत किया।

 

रेल मंत्री ने भी किया ट्वीट
रेल मंत्री पीयूष गोयल ने ट्वीट कर मयूर बधाई दी है। उन्होंने ट्वीट कर कहा- मुंबई के वंगानी रेलवे स्टेशन के रेलवे कर्मी मयूर शेल्के पर मुझे पर गर्व है। उन्होंने बहादुरी दिखाते हुए अपनी जान को जोखिम में डालकर एक बच्चे की जान बचाई है।