स्पोर्ट्स डेस्क। हाल के सालों में नियंत्रण रेखा पर भारत और पाकिस्तान के बीच तनाव का असर दोनों देशों के द्विपक्षीय कूटनीतिक रिश्तों के साथ ही व्यापार और खेलों पर भी पड़ा है। पड़ोसी देश के धोखों की वजह से भारत ने पाकिस्तान के साथ सभी तरह के रिश्ते तोड़ रखे हैं। इसी के तहत लंबे समय से दोनों देशों के बीच क्रिकेट और दूसरे खेलों का आयोजन बंद है। सिर्फ अंतरराष्ट्रीय मुकाबलों में दोनों एक-दूसरे का सामना करते हैं। 

अब पाकिस्तान ने ऐसे ही एक अंतरराष्ट्रीय मुक़ाबले का हवाला देते हुए भारतीय क्रिकेट बोर्ड (बीसीसीआई) के सामने शर्तें रखी हैं। पाकिस्तान क्रिकेट बोर्ड (पीसीबी) ने आईसीसी से कहा कि वह बीसीसीआई से लिखित आश्वासन ले कि भारत में 2021 टी20 विश्वकप और 2023 में होने वाले 50 ओवरों के विश्वकप के लिए वीजा हासिल करने में उसे कोई दिक्कत नहीं होगी। बीसीसीआई ने भी पाकिस्तान बोर्ड को जवाब दिया है।  

पीसीबी ने क्या कहा?
खेल में पाकिस्तान की घटिया कूटनीति का मसाला डालते हुए पीसीबी के CEO वसीम खान ने एक इंटरव्यू में कहा, "भारत 2021 और 2023 में आईसीसी विश्वकप की मेजबानी कर रहा है। हमने पहले ही आईसीसी से बीसीसीआई की ओर से लिखित आश्वासन के लिए कहा है ताकि हमें वीजा और भारत में खेलने की मंजूरी को लेकर दिक्कतों का सामना नहीं करना पड़े।" पीसीबी ने आईसीसी के हवाले से बीसीसीआई को अपनी सरकार से आश्वासन हासिल करने को कहा है। शर्त पर बीसीसीआई ने कहा कि पीसीबी यह गारंटी दे कि आतंकी गतिविधियां नहीं होंगी।  

तो अब इस साल नहीं होगा विश्वकप 
हालांकि रिपोर्ट्स में अगले टी20 विश्वकप को लेकर ये चर्चा भी है कि अभी मेजबानी को लेकर आईसीसी ने कुछ तय नहीं किया है। आईसीसी वर्किंग कमेटी की मीटिंग में इस बात पर फैसला होगा कि 2021 के टी20 विश्वकप की मेजबानी भारत करेगा या ऑस्ट्रेलिया। हालांकि वसीम खान ने कहा कि 2020 में आस्ट्रेलिया में टी20 विश्वकप की संभावना नहीं है।