स्पोर्ट्स डेस्क.  इंग्लैंड दौरे पर जाने वाली पाकिस्तानी क्रिकेट टीम अगले तीन महीने तक बायो सेक्योर स्थान पर रहेगी। इसकी शुरुआत जून के पहले हफ्ते में लाहौर में अभ्यास से होगी और यह अगस्त में इंग्लैंड के दौरे की समाप्ति तक बरकरार रहेगा। एक रिपोर्ट के अनुसार टेस्ट और सीमित ओवरों के विशेषज्ञ क्रिकेटर जून के पहले सप्ताह में नेशनल क्रिकेट अकादमी में अभ्यास शुरू करेंगे और इस दौरान बगल में स्थित गद्दाफी स्टेडियम में रहेंगे। खिलाड़ियों के लिये रहने, खाने और ठहरने की व्यवस्था एनसीए और गद्दाफी स्टेडियम में की जाएगी। पाकिस्तान को इंग्लैंड में तीन टेस्ट और तीन T-20 अंतरराष्ट्रीय मैच खेलने हैं। पाकिस्तान और इंग्लैंड के बीच पहला टेस्ट 5 अगस्त को खेला जाएगा और पाकिस्तानी टीम टेस्ट मैच से 14 दिन पहले इंग्लैंड पहुंचेगी। 

असहज महसूस करने पर दौरे से हटने का विकल्प 
पाकिस्तान क्रिकेट बोर्ड के सीईओ वसीम खान ने कहा कि अगर कोई खिलाड़ी असहज महसूस करता है तो उसके पास दौरे से हटने का विकल्प रहेगा। उन्होंने कहा, ‘ऐसा लगता है कि पाकिस्तान क्रिकेट टीम को तीन महीने तक कड़े जैव सुरक्षित वातावरण में रहना होगा। ' खान ने कहा, ‘खिलाड़ियों को अगर तब भी लगता है कि वे व्यवस्थाओं से संतुष्ट नहीं हैं तो उनके पास अपना नाम वापस लेने का विकल्प रहेगा। विस्तृत जानकारी आगे उपलब्ध करायी जाएगी। ’

इंग्लैंड में भी की जा रही तैयारी 
बताया जा रहा है कि दौरे के सभी मैच साउथैंप्टन और मैनचेस्टर में खेले जाएंगे। दरअसल इन दोनों मैदानों में ही होटल बना हुआ है जिससे खिलाड़ियों के लिए आसानी रहेगी और वो कोरोना वायरस से सुरक्षित भी रहेंगे। खबरों के मुताबिक सभी खिलाड़ी 14 दिनों तक क्वारंटीन रहेंगे और खिलाड़ी आपस में ही वॉर्मअप मैच खेलेंगे। खिलाड़ियों का लगातार परीक्षण होगा और उनसे मिलने की किसी को इजाजत नहीं होगी।