स्पोर्ट्स डेस्क। दिग्गज पाकिस्तानी क्रिकेटर शाहिद अफरीदी ने प्रधानमंत्री इमरान खान पर निशाना साधा है। अफरीदी समय-समय पर भारत के खिलाफ भी आग उगलते रहते हैं। अफरीदी ने कहा है कि इमरान सरकार में को-ऑर्डिनेशन की कमी है। कोरोनावायरस महामारी के दौरान जहां सरकार को गरीबों की मदद करनी चाहिए थी, वहां इमरान के मंत्री छुट्टियां मना रहे थे। अफरीदी भी पिछले दिनों कोरोनावायरस से संक्रमित हो गए थे, लेकिन अब वे ठीक हो गए हैं।

पहले थे इमरान के साथ
पिछले साल तक शाहिद अफरीदी प्रधानमंत्री इमरान खान के साथ नजर आते थे और उनका समर्थन करते थे, लेकिन अब उनका रुख बदल गया है। ऐसी खबरें आई थीं कि कोरोनावायरस महामारी के दौरान अफरीदी अपने फाउंडेशन के जरिए गरीबों की मदद कर रहे थे। अफरीदी ने कहा कि जब मैं देश के पिछड़े इलाकों में गरीबों की मदद करने में लगा था, तब मैंने देखा कि सरकार के कुछ मंत्री और सांसद उसी इलाके में छुट्टियां मना रहे हैं। 

पाए गए थे कोरोना पॉजिटिव
शाहिद अफरीदी 13 जून को कोरोना पॉजिटिव पाए गए थे। उन्होंने सोमवार को एक इंटरव्यू में कहा कि कोरोना पॉजिटव होने के बावजूद वे क्वारंटीन में नहीं गए। 3 दिन कमरे में बंद रहने के बाद वे बाहर आए और ट्रेनिंग शुरू की। शाहिद ने कहा कि इस बीमारी में सोशल डिस्टेंसिंग सबसे जरूरी है। उन्होंने यह भी कहा कि पाकिस्तान में स्मार्ट लॉकडाउन की बात कही गई, जो उनकी समझ में नहीं आई।

इमरान सरकर पर साधा निशाना
अफरीदी ने इमरान सरकार पर निशाना साधते हुए कहा कि कुर्सी पर बैठे नेता गरीबों की मदद नहीं कर रहे। सरकार की नीयत में खोट है। सरकार गरीबों की मदद के लिए एहसास प्रोग्राम चला रही है, लेकिन लोगों को राशन-पानी नहीं मिल रहा। शाहिद ने कहा कि मैं क्वेटा के आसपास लोगों की मदद के लिए गया था और वहां राशन बांटा। शाहिद ने यह भी कहा कि वहां मैंने देखा कि मिनिस्टर और सांसद छुट्टियां मनाने के लिए गए थे। उन्हें आम लोगों की तकलीफ का कोई एहसास नहीं था। शाहिद अफरीदी ने कहा कि एनजीओ सिर्फ शहरों में काम करते हैं और उनका मकसद मीडिया की नजरों में आना होता है। शाहिद का कहना था कि फिलहाल वे राजनीति में नहीं आना चाहते।