Asianet News Hindi

IPL के चांटा विवाद पर बोले श्रीसंत- मैंने रो-रोकर कहा, हरभजन सिंह को सजा मत दो

इंडियन प्रीमियर लीग के पहले सीजन के इस मुकाबले में मुंबई इंडियंस को किंग्स इलेवन पंजाब के हाथों हार का सामना करना पड़ा था। श्रीसंत पंजाब का हिस्सा थे और हरभजन मुंबई इंडियंस की टीम की ओर से खेल रहे थे।

sreesanth i beg and cried not to punish harbhajan singh for 2008 slap case kpt
Author
New Delhi, First Published Jun 26, 2020, 7:12 PM IST
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp

नई दिल्ली. भारत के चोटी के स्पिनर्स में शुमार हरभजन सिंह के लिए साल 2008 काफी विवादों वाला रहा। पहले ऑस्ट्रेलिया दौरे पर ऐंड्रू सायमंड्स के साथ 'मंकीगेट' विवाद में उलझे और इंडियन प्रीमियर लीग के पहले सीजन में श्रीसंत को थप्पड़ मारकर फंसे।

इंडियन प्रीमियर लीग के पहले सीजन के इस मुकाबले में मुंबई इंडियंस को किंग्स इलेवन पंजाब के हाथों हार का सामना करना पड़ा था। श्रीसंत पंजाब का हिस्सा थे और हरभजन मुंबई इंडियंस की टीम की ओर से खेल रहे थे। हार के बाद श्रीसंत ने हरभजन सिंह को इस पर कुछ कहा जिसके बाद भज्जी ने गुस्से में श्रीसंत को चांटा जड़ दिया।

 

 

हरभजन सिंह को यह चांटा बहुत भारी पड़ा और उन्हें लीग के बाकी मैचों से बाहर कर दिया गया। उन्हें उनकी फीस 3.75 करोड़ रुपये भी नहीं मिली। श्रीसंत ने हाल ही में बताया कि उन्होंने आखिर हरभजन को क्या कहा था? श्रीसंत ने कहा कि उन्होंने हरभजन को 'पंजाब बॉम्बे को हराएंगे, पंजाब बॉम्बे को हराएंगे।' कहा था।

उन्होंने यह भी बताया कि वह बीसीसीआई द्वारा नियुक्त किए गए कमिश्नर सुधींद्र नानावती के सामने रोए थे और गिड़गिड़ाए थे कि वह हरभजन सिंह को सजा न दें।

श्रीसंत ने क्रिकेट एडिक्टर के साथ बातचीत में कहा, 'सचिन पाजी (सचिन तेंडुलकर) की वजह से सब कुछ निपट गया था। उन्होंने कहा तुम दोनों एक ही टीम में खेलते हो। मैं कहा सब ठीक है। मैं जाऊंगा और उनसे मिलूंगा। हम मिले और उसी रात को साथ डिनर किया लेकिन मीडिया इसे अलग ही स्तर पर ले गया।'

 

 

उन्होंने कहा, 'यहां तक कि नानावती सर के सामने भी, उनके पास इसकी वीडियो रिकॉर्डिंग होगी या नहीं जहां मैं उनके सामने रो रहा हूं और गिड़गिड़ा रहा हूं कि भज्जी पा को बैन न करें या कोई दूसरा ऐक्शन न लें, हम साथ खेलने वाले हैं। मैं उन्हें कोई नुकसान नहीं पहुंचाना चाहता क्योंकि वह एक मैच-विनर हैं। मैं भज्जी पा के साथ मैच जीतना चाहता हूं क्योंकि मैं उन्हें अपना बड़ा भाई मानता हूं... इसका एक वीडियो भी है... मुझे नहीं पता कि वह आपको यह देंगे या नहीं। आप नानावती सर से पूछ सकते हैं।'

उन्होंने कहा, 'लेकिन मेरे और भज्जी पा के रिश्ते अब बिलकुल सामान्य हैं। वह काफी बदल चुके हैं। उन्होंने एक पब्लिक वीडियो में भी कहा है, 'श्री तू कहीं भी हो यार माफ कर दे'... वह हमेशा मेरे बड़े भाई रहेंगे, वह वक्त अलग था लेकिन वह हमेशा लीजेंड रहेंगे।'

Follow Us:
Download App:
  • android
  • ios