नई दिल्‍ली. पाकिस्तान को अंतर्राष्‍ट्रीय क्रिकेट स्तर पर सोमवार को एक बड़ा झटका लगा। जिसमें श्रीलंका के 10 खिलाड़ियों ने पाकिस्‍तान में होने वाले टूर्नामेंट में शामिल होने से साफ मना कर दिया है। दरअसल पाकिस्तान और श्रीलंका के बीच 27 सितंबर से 19 अक्‍टूबर के बीच तीन वनडे और तीन टी-20 मैच खेले जाने हैं। उससे पहले ही श्रीलंका के 10 प्‍लेयर्स ने पाकिस्‍तान जाने से मना कर दिया। जिसमें लसिथ मलिंगा, निरोशन डिकवेला, कुशल जनिथ परेरा, धनंजय डी सिल्‍वा, थिसारा परेरा, अकीला धनंजय, एंजेलो मैथ्‍यूज, सुरंग लकमल, दिनेश चांदीमल और डिमूथ करुनारत्‍ने शामिल हैं। 

इस मामले पर श्रीलंकाई क्रिकेट बोर्ड ने एक मीटिंग कर इन प्‍लेयर्स को सुरक्षा इंतजाम के बारे में विस्तार से बताया, साथ ही टूर्नामेंट में खेलने पर निर्णय की आजादी भी दी। जिसके बाद 10 श्रीलंकाई प्‍लेयर्स ने सीरीज से बाहर रहने का फैसला किया है।

मना करने की यह है वजह
दरअसल 10 साल पहले तीन मार्च, 2009 को लाहौर के गद्दाफी स्‍टेडियम में पाकिस्‍तान के खिलाफ टेस्‍ट मैच खेलने के लिए श्रीलंका की टीम होटल से जब बाहर निकली तो तालिबान और लश्‍कर-ए-झांगवी (LeJ) के आतंकियों ने उनकी बस पर हमला कर दिया। जिसमें आठ लोगों की मौत हुई थी और सात श्रीलंकाई प्‍लेयर्स और स्‍टाफ घायल हुए। इस हमले के बाद अंतर्राष्‍ट्रीय क्रिकेट टीमें पाकिस्‍तान जाने से कतराने लगीं। 

किसी बड़ी टीम ने नहीं किया पाक का दौरा
श्रीलंका टीम पर हमले के बाद से पाकिस्तान में कोई भी टीम सीरीज खेलने नहीं पहुंचीं। यहां तक की पाकिस्तान के साथ द्विपक्षीय सीरीज भी दुबई में खेली गईं। इसके 8 साल बाद पाकिस्तान में दोबारा क्रिकेट लौटा था। 2017 अक्टूबर में श्रीलंका पाकिस्तान गई थी। टीम ने लाहौर में एक टी-20 मैच भी खेला था। हालांकि, उस वक्त टीम के कप्तान थिसारा परेरा थे। लेकिन इस बार उन्होंने खुद जाने से इनकार कर दिया। इसके बाद जिम्बाब्वे और वेस्टइंडीज की टीमें जरूर पाकिस्तान में खेलने गई थीं।