Asianet News HindiAsianet News Hindi

वीरेंद्र सहवाग ने चार दिवसीय टेस्ट मैच के लिए मजे, कहा '4 दिन की चांदनी होती है, टेस्ट क्रिकेट नहीं'

भारतीय टीम के पूर्व सलामी बल्लेबाज वीरेन्द्र सहवाग ने टेस्ट मैच को पांच की जगह चार दिन का करने के प्रस्ताव पर अपने तरीके से किया कटाक्ष

Virender Sehwag funny comment for the four day Test cricket match kpm
Author
New Delhi, First Published Jan 13, 2020, 4:10 PM IST
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp

मुंबई: भारतीय टीम के पूर्व सलामी बल्लेबाज वीरेन्द्र सहवाग ने टेस्ट मैच को पांच की जगह चार दिन का करने के प्रस्ताव पर अपने तरीके से कटाक्ष करते हुए कहा कि जिस तरह से ‘मछली को अगर जल से निकाला जाए तो वह मर जाएगी’ उसी तरह टेस्ट में नयापन लाने का मतलब यह नहीं कि उसकी आत्मा से छेड़छाड़ की जाए।

बीसीसीआई पुरस्कार समारोह में रविवार को सहवाग ने यहां 'एमएके पटौदी स्मारक व्याख्यान' में हिन्दी मुहावरों का इस्तेमाल करते हुए कहा कि खेल के सबसे लंबे प्रारूप में नयापन लाना दिन-रात्रि टेस्ट मैच तक सीमित रखना चाहिए।

पांच दिन में बदलाव नहीं होना चाहिए

सहवाग ने अपने तरीके से कहा, ''चार दिन की चांदनी होती है, टेस्ट मैच नहीं...जल की मछली जल में अच्छी है, बाहर निकालों तो मर जाएगी।'' उन्होंने कहा, ''टेस्ट क्रिकेट को चंदा मामा के पास ले जा सकते हैं। हम दिन-रात्रि टेस्ट खेल रहे हैं, लोग शायद आफिस के बाद मैच को देखने के लिए आये। नयापन आना चाहिए लेकिन पांच दिन में बदलाव नहीं किया जाना चाहिए।''

(यह खबर समाचार एजेंसी भाषा की है, एशियानेट हिंदी टीम ने सिर्फ हेडलाइन में बदलाव किया है।)

(फाइल फोटो)

Follow Us:
Download App:
  • android
  • ios