स्पोर्ट डेस्क. अमेरिका में अश्‍वेत नागरिक की पुलिस कस्‍टडी में मौत (#BlackLifeMatters) के बाद से गर्माए ब्‍लैक बनाम वाइट के मुद्दे पर वेस्टइंडीज के टेस्ट टीम के कप्तान जेसन होल्डर (Jason Holder) ने प्रतिक्रिया दी। होल्डर भी क्रिकेट में रंगभेद के मामले से नाराज हैं। उन्होंने इसके लिए सजा देने की मांग की है।

28 साल के होल्डर से पहले वेस्टइंडीज के दो पूर्व कप्तान डैरेन सैमी और क्रिस गेल रंगभेद के खिलाफ अपनी आवाज उठा चुके हैं। रंगभेद के कारण एक पाकिस्तान के पूर्व कप्तान सरफराज अहमद पर चार मैच का प्रतिबंध लग चुका है। उन्होंने दक्षिण अफ्रीका के ऑलराउंडर एंडिले फेहलुकवायो को खिलाफ टिप्पणी की थी।

होल्‍डर ने कहा कि नस्लवाद के अपराध की भी उसी तरह सजा मिलनी चाहिए जिस तरह डोपिंग और मैच फिक्सिंग की मिलती है। 

 

(जेसन होल्डर)

बीबीसी स्पोर्ट से बातचीत में होल्डर ने कहा, ‘‘मुझे नहीं लगता है कि डोपिंग और भ्रष्टाचार का जुर्माना रंगभेद से अलग होना चाहिए। अगर हम ऐसे मुद्दे अपने खेल में देखते हैं तो उसे भी एक समान तरीके से निपटाना चाहिए।’’ 

इंटरनेशनल क्रिकेट काउंसिल (ICC) के नस्लवाद-रोधी कोड के तहत नियमों का तीन बार उल्लंघन करने से किसी खिलाड़ी पर आजीवन प्रतिबंध लग सकता है। इस महीने की शुरुआत में सैमी और गेल ने कहा कि उन्होंने नस्लभेदी टिप्पणियों का अनुभव किया है। दोनों ने ब्लैक लाइव्स मैटर्स अभियान को अपना समर्थन दिया था।

 

(डैरेन सैमी)

होल्डर ने कहा कि सीरीज से पहले डोपिंग और भ्रष्टाचार के साथ ही नस्लवाद को लेकर खिलाड़ियों को जानकारी देना चाहिए। “सीरीज से पहले डोपिंग रोधी और भ्रष्टाचार रोधी बैठक के साथ ही शायद हमें नस्लवाद रोधी बैठक भी करनी चाहिए। मेरा संदेश साफ है कि इसे लेकर लोगों को ज्यादा से ज्यादा शिक्षित किया जाना चाहिए। मैंने खुद कोई नस्लीय टिप्पणी नहीं सुनी लेकिन दूसरों को लेकर सुनी और देखी हैं। यह ऐसी चीज है जिसके साथ आप खड़े नहीं हो सकते।”

इंग्लैंड और वेस्टइंडीज की टीम अगले महीने से शुरू होने वाले तीन टेस्ट की सीरीज से पहले एक साथ रंगभेद के खिलाफ प्रदर्शन करेगी। हाल ही में कई फुटबॉल मुकाबलों में खिलाड़ी मैच शुरू होने से पहले ऐसा कर रहे हैं। वे घुटनों के बल बैठकर मुठ्ठी बांधकर एक हाथ ऊपर की ओर उठाते हैं।