नई दिल्ली। विधानसभा चुनाव में प्रचंड बहुमत के साथ जीत दर्ज करने वाली आम आदमी पार्टी सरकार के शपथ ग्रहण समारोह में वीआईपी मेहमानों का जमावड़ा नहीं लगेगा। समारोह के लिए दूसरे राज्यों के मुख्यमंत्रियों को न्योता नहीं भेजा गया है। 

पार्टी के वरिष्ठ विधायक गोपाल राय ने बताया, "अरविंद केजरीवाल दिल्ली की जनता के बीच मुख्यमंत्री पद की शपथ लेंगे। केजरीवाल के शपथ ग्रहण समारोह में किसी मुख्यमंत्री या अन्य राज्यों के नेताओं को आमंत्रित नहीं किया जाएगा।" केजरीवाल सरकार का शपथ ग्रहण समारोह 16 फरवरी को इस बार रामलीला मैदान में होगा। 

दिल्ली में तीसरी बार केजरीवाल की सरकार 
केजरीवाला लगातार तीसरी बार दिल्ली में सरकार बनाने जा रहे हैं। आप ने विधानसभा चुनाव में 70 में से 62 सीटों पर जीत हासिल कर प्रचंड बहुमत हासिल किया है। 

पेश किया सरकार बनाने का दावा 
केजरीवाल ने पार्टी के विधायक दल का नेता चुने जाने के बाद दिल्ली के उपराज्यपाल अनिल बैजल को पत्र लिखकर सरकार बनाने का दावा पेश किया है। सरकार बनाने के लिए दावा पेश किया जाना औपचारिक प्रक्रिया है। केजरीवाल को आज ही पार्टी के विधायक दल का नेता चुना गया।

दलाई लामा ने दी बधाई 
उधर, दिल्ली में जीत के बड़ा तिब्बत के आध्यात्मिक नेता दलाई लामा ने भी अरविंद केजरीवाल को बधाई दी है। उन्होंने कहा कि राष्ट्रीय राजधानी के लोगों को उनके नेतृत्व का लाभ मिलता रहेगा। केजरीवाल को तमाम विशिष्ट लोगों की ओर से लगातार शुभकामनाएं मिल रही हैं। 

(पीटीआई/भाषा इनपुट के साथ एशियानेट हिन्दी न्यूज डेस्क।)