Asianet News HindiAsianet News Hindi

टिकट मांग रहे कांग्रेस नेता के बेटे ने भरत सिंह पर किया स्याही फेंकने का प्रयास, जानिए क्या हुआ उसके साथ

Gujarat Assembly Election 2022: गुजरात कांग्रेस के वरिष्ठ नेता भरतसिंह सोलंकी पर पार्टी के ही एक नेता के बेटे ने स्याही फेंकने का प्रयास किया। सोलंकी ने कहा भाजपा के 27 वर्ष के शासन में एक भी सरकारी स्कूल का निर्माण नही हुआ। 

Gujarat Assembly Election 2022 congress leader son spray ink on bharat singh solanki apa
Author
First Published Nov 6, 2022, 6:31 PM IST

अहमदाबाद। Gujarat Assembly Election 2022: गुजरात विधानसभा चुनाव में आरोपों-प्रत्यारोपों का दौर शुरू हो गया है। विभिन्न पार्टियों के नेता राजनीतक व निजी दोनों तरह के हमले कर रहे हैं। कहीं जुबानी जंग हो रही है, तो कुछ लोग हिंसक रूख भी अख्तियार कर रहे हैं। रविवार, 6 नवंबर को ऐसा ही नजारा कांग्रेस नेता भरत सिंह सोलंकी के साथ देखने को मिला। 

गुजरात प्रदेश कांग्रेस कार्यालय पर टिकट की मांग कर रहे कांग्रेस नेता के बेटे ने पूर्व केंद्रीय मंत्री एवं कांग्रेस के वरिष्ठ नेता भरतसिंह सोलंकी पर स्याही फेंकने का प्रयास किया। पुलिस ने आरोपी युवक को गिरफ्तार कर लिया है। भरतसिंह सोलंकी रविवार को प्रदेश कार्यालय पर मौजूद थे। उस समय एलिसब्रिज विधानसभा क्षेत्र से टिकट की मांग कर रहे रश्मिकांत सुथार के बेटे रोमीन सुथार वहां पहुंच गए। रोमीन ने सोलंकी पर स्याही फेंकने का प्रयास किया। हालांकि, इस घटना के बाद पुलिस ने उसे हिरासत में ले लिया। 

भाजपा सरकार ने स्कूल खोलने के बजाय बंद किए 

चुनाव की घोषणा होते ही राज्य में कांग्रेस एक्शन मोड में है। प्रदेश पदाधिकारियों के साथ बैठकों का दौर शुरू हो गया है। वहीं प्रदेश कार्यालय में आयोजित पत्रकार परिषद में कांग्रेस ने आरोप लगाया है कि भाजपा के शासनकाल में गत 27 वर्ष से राज्य में एक भी सरकारी स्कूल का निर्माण नहीं हुआ हैं। स्कूलों का निर्माण करने के बजाय भाजपा सरकार ने इन्हें बंद कर दिया है। शिक्षा के निजीकरण से अब शिक्षा बहुत महंगी हो गयी हैं। शिक्षा ग्रहण करना अब आम आदमी के बस का नहीं हैं। 

मेडिकल कॉलेज नहीं खुले, प्रति व्यक्ति कर्ज में वृद्धि हुई 

राज्य में चिकित्सा सुविधा का उल्लेख करते हुए उन्होंने कहा कि गुजरात में सभी मेडिकल कॉलेज कांग्रेस शासन की देन है। भाजपा के शासन में एक भी मेडिकल कॉलेज नहीं बने। उन्होंने कहा कि एक ओर शिक्षा को व्यापार बना दिया गया है। वहीं भाजपा के शासन में राज्य पर कर्ज बढ़ गया है। राज्य सरकार कर्ज की अदायगी के लिए भी कर्ज ले रही हैं। राज्य में प्रति व्यक्ति कर्ज में भी वृद्धि हुई है। 

यह भी पढ़ें- 

काम नहीं आई जादूगरी! गहलोत के बाद कांग्रेस ने पायलट को दी गुजरात में बड़ी जिम्मेदारी, जानिए 4 दिन क्या करेंगे

पंजाब की तर्ज पर गुजरात में भी प्रयोग! जनता बताएगी कौन हो 'आप' का मुख्यमंत्री पद का चेहरा

बहुत हुआ.. इस बार चुनाव आयोग Corona पर भी पड़ेगा भारी, जानिए क्या लिया गजब फैसला

Follow Us:
Download App:
  • android
  • ios