3 महीने बाद जेल से छूटे कांग्रेस उम्मीदवार सुखपाल खैरा, बोले- इस नेता ने मनी लॉन्ड्रिंग के झूठे केस में फंसाया

| Jan 28 2022, 05:49 PM IST

3 महीने बाद जेल से छूटे कांग्रेस उम्मीदवार सुखपाल खैरा, बोले- इस नेता ने मनी लॉन्ड्रिंग के झूठे केस में फंसाया

सार

सुखपाल सिंह खैरा का कहना था कि AAP ने 2 करोड़ रुपए एकत्र किए थे, लेकिन सभी झूठे आरोप उनके खिलाफ लगाए गए थे। खैरा ने कहा कि उन्हें जेल जाने का कोई अफसोस नहीं है। लेकिन निर्दोष होने के बावजूद उन्हें ढाई महीने जेल में रखा गया है।

पटियाला। मनी लॉन्ड्रिंग केस में तीन महीने बाद कांग्रेस नेता सुखपाल सिंह खैरा जेल से छूट गए हैं। उनको कोर्ट से जमानत मिल गई है। खैरा को नवंबर 2021 में ईडी ने गिरफ्तार किया था। हाल ही में खैरा को भुलत्थ सीट से कांग्रेस ने उम्मीवार बनाया है। ईडी की हिरासत से खैरा को शुक्रवार को पटियाला सेंट्रल जेल से रिहा कर दिया गया। जेल से रिहा होते ही सुखपाल खैरा ने कहा कि दुश्मनों ने उन्हें चुनावी व्यवस्था से बेदखल करने की पूरी कोशिश की थी। लेकिन भगवान की मदद और पार्टी के समर्थन से उन्हें टिकट मिल गया। खैरा ने आरोप लगाया कि आम आदमी पार्टी के सचिव पंकज कुमार ने उनके खिलाफ झूठ बोला था।

खैरा का कहना था कि AAP ने 2 करोड़ रुपए एकत्र किए थे, लेकिन सभी झूठे आरोप उनके खिलाफ लगाए गए थे। खैरा ने कहा कि उन्हें जेल जाने का कोई अफसोस नहीं है। लेकिन निर्दोष होने के बावजूद उन्हें ढाई महीने जेल में रखा गया है। इसलिए आपराधिक न्याय प्रणाली को बदलने की जरूरत है।  क्योंकि उनके जैसे कई अन्य निर्दोष जेल भी बैठे हैं। खैरा ने कहा कि उनकी पार्टी में उनके कुछ दुश्मन हैं जो चुनाव नहीं लड़ने देना चाहते थे, लेकिन पार्टी और लोगों के प्यार के कारण लड़ रहे हैं।

Subscribe to get breaking news alerts

आप छोड़ी तो नई पार्टी बनाई, फिर कांग्रेस में आ गए
सुखपाल खैरा 2017 में आम आदमी पार्टी के टिकट पर चुनाव लड़े थे। भुलत्थ विधानसभा सीट से जीत हासिल की। AAP ने उन्हें विधानसभा में विपक्ष का नेता बनाया था। 2019 यानी कि दो साल के भीतर ही खैरा और आप  के संबंध इतने खराब हो गए कि वह पार्टी से अलग हो गए। तब उन्होंने खुद की पार्टी पंजाब एकता पार्टी बनाई। लेकिन बाद में वह कांग्रेस में शामिल हो गए थे। कांग्रेस में आने के बाद उन पर ईडी की रेड लगी। उन पर नशीले पदार्थ रखने, फर्जी पासपोर्ट और मनी लॉन्ड्रिंग के आरोप लगे थे। ईडी ने उन्हें हिरासत में ले लिया। इसी बीच, चुनाव में कांग्रेस ने उन्हें इसी सीट से टिकट दे दिया। 

जेल से बाहर निकले और हाथ हिलाकर किया अभिवादन
इसके बाद उन्होंने कोर्ट में जमानत की अर्जी लगाई। शुक्रवार को वह जेल से जमानत पर बाहर आ गए। उन्होंने कहा कि वह अब चुनाव प्रचार में जुट जाएंगे। अपने क्षेत्र की जनता का उन्हें बहुत प्यार मिल रहा है। निश्चित ही वह इस बार भी इस सीट से जीत हासिल करेंगे। जेल से बाहर आकर उन्होंने हाथ उठा कर अभिवादन किया। जेल से बाहर उन्हें लेने के लिए परिजन आए हुए थे। खैरा कुछ देर जेल के बाहर रूक का गाड़ी में बैठ कर निकल गए। इससे पहले खैरा ने ऐलान किया था कि अगर उन्हें जमानत नहीं मिली तो वे जेल से चुनावी ताल ठोकेंगे। गुरुवार को पंजाब और हरियाणा उच्च न्यायालय ने उन्हें नियमित जमानत दे दी। 

मनी लॉन्ड्रिंग केस में सुखपाल खैरा जेल में, कांग्रेस ने बना दिया कंडीडेट, अब विवाद बढ़ा तो केजरीवाल भी फंसेंगे

बिक्रम मजीठिया का सिद्धू पर हमला, मां को घर से निकालना पंजाब की संस्कृति नहीं, ये किसी भरोसे लायक नहीं

Sidhu Family Controversy: सिद्धू की बड़ी बहन के आरोपों पर पत्नी नवजोत कौर ने दिया स्पष्टीकरण, जानें क्या कहा?

बहन सुमन तूर का आरोप- सिद्धू ने पैसे के पीछे पूरा परिवार खत्म कर दिया, मां को घर से तक निकाला

‘सिद्धू मां-बाप-बहन के नहीं हुए तो जनता के क्या होंगे’, NRI बड़ी बहन सुमन तूर ने ऐसे 10 सवालों के मांगे जवाब?

Punjab Election 2022: चन्नी-सिद्धू के सामने राहुल गांधी ने कहा- कार्यकर्ता तय करेंगे कौन होगा CM उम्मीदवार

बिक्रम मजीठिया आज पहले मजीठा, फिर अमृतसर ईस्ट सीट पर नामांकन करेंगे, BJP ने मुकाबले को और रोचक बनाया

पंजाब चुनाव 2022 की हर बड़ी सीट का ग्राउंड रिपोर्ट, हर बड़े मुद्दे पर एक्सपर्ट एनालिसिस, बड़े नेता का इंटरव्यू, इलेक्शन बुलेटिन, हॉट सीट्स का हाल, कैंडिडेट की प्रोफाइल और उनकी लाइफ स्टाइल, बाहुबलियों का हाल...Asianetnews Hindi पर 360 डिग्री कवरेज के साथ पढ़ें पंजाब विधानसभा चुनाव का हर अपडेट।

 
Read more Articles on