Asianet News Hindi

आखिर गर्मियों में कैसे लग जाती है गाड़ियों में आग, जानें इससे बचने के लिए क्या कर सकते हैं उपाय

First Published Apr 8, 2021, 3:49 PM IST
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp

ऑटो डेस्क. देश के कई हिस्सो में गर्मी ने अभी से अपने तेवर दिखाने शुरू कर दिए हैं। गर्मी का मौसम आते ही अक्सर गाड़ियों में आग लग जाती है। इस मौसम में लोगों को अपनी गाड़ियों का ध्यान भी ज्यादा रखना पड़ता है। क्योंकि, ऐसे ही मौसम में गाड़ियों में आग लगने का खतरा ज्यादा होता है। ज्यादातर ये खतरा CNG से चलने वाली कारों में होता है। ऐसे में आज हम आपको अहम टिप्स बताने जा रहे हैं, जिनकी मदद से कार में आग लगने की घटना से बचा जा सकता है...

शॉर्ट सर्किट हो सकता है कारण

कार में आग लगने का सबसे महत्वपूर्ण कारण शॉट सर्किट भी हो सकता है। कभी-कभार हम कार के खराब हो जाने के बाद उसे किसी अनट्रेंड मकेनिक को सौंप देते हैं तो वो कार तो सही कर देता है मगर वायरिंग को कई बार खुले छोड़ देते हैं, जिसकी वजह से शॉर्ट सर्किट के चलते आग लग जाती है।

शॉर्ट सर्किट हो सकता है कारण

कार में आग लगने का सबसे महत्वपूर्ण कारण शॉट सर्किट भी हो सकता है। कभी-कभार हम कार के खराब हो जाने के बाद उसे किसी अनट्रेंड मकेनिक को सौंप देते हैं तो वो कार तो सही कर देता है मगर वायरिंग को कई बार खुले छोड़ देते हैं, जिसकी वजह से शॉर्ट सर्किट के चलते आग लग जाती है।

सिर्फ ऑथराइज्ड सेंटर्स से ही लगवाएं CNG किट

हमेशा कार में सीएनजी किट सिर्फ ऑथराइज्ड सेंटर्स से लगवाने चाहिए, क्योंकि अनट्रेंड मेकेनिक सीएनजी किट को अच्छी तरह से फिट नहीं करता और इससे लीकेज के कारण आग लगने का खतरा बढ़ जाता है। 

सिर्फ ऑथराइज्ड सेंटर्स से ही लगवाएं CNG किट

हमेशा कार में सीएनजी किट सिर्फ ऑथराइज्ड सेंटर्स से लगवाने चाहिए, क्योंकि अनट्रेंड मेकेनिक सीएनजी किट को अच्छी तरह से फिट नहीं करता और इससे लीकेज के कारण आग लगने का खतरा बढ़ जाता है। 

गर्मियों में अपनी गाड़ी को धूप से बचाएं

तेज धूप और गर्मी के कारण भी कार में आग लग जाती है। कार में लगे तार गर्मी के कारण अक्सर गर्म होकर आपस में चिपकने लगते हैं, जिसकी वजह से स्पार्किंग से शॉर्ट सर्किट होने का खतरा बढ़ जाता है। इसलिए, हमेशा सर्विस कराते वक्त वायरिंग को अच्छे से चेक करवाना चाहिए।

गर्मियों में अपनी गाड़ी को धूप से बचाएं

तेज धूप और गर्मी के कारण भी कार में आग लग जाती है। कार में लगे तार गर्मी के कारण अक्सर गर्म होकर आपस में चिपकने लगते हैं, जिसकी वजह से स्पार्किंग से शॉर्ट सर्किट होने का खतरा बढ़ जाता है। इसलिए, हमेशा सर्विस कराते वक्त वायरिंग को अच्छे से चेक करवाना चाहिए।

गाड़ी में आग लगने के बाद ना खोले कार का बोनट

कार में आग लगने के बाद कार में मौजूद लोग कार्बन मोनोऑक्साइड गैस का शिकार हो सकते हैं, ये गैस बहुत ही खतरनाक होती है। कार में अगर आग लगी है तो भूलकर भी बोनट ना खोलें, इससे आग भड़क भी सकती है और कोई बड़ा हादसा हो सकता है।

गाड़ी में आग लगने के बाद ना खोले कार का बोनट

कार में आग लगने के बाद कार में मौजूद लोग कार्बन मोनोऑक्साइड गैस का शिकार हो सकते हैं, ये गैस बहुत ही खतरनाक होती है। कार में अगर आग लगी है तो भूलकर भी बोनट ना खोलें, इससे आग भड़क भी सकती है और कोई बड़ा हादसा हो सकता है।

कार में आग लगने के बाद उससे बना कर रखें 100 फीट की दूरी

कार में अगर आग लगी है तो इससे कम से कम 100 फीट की दूरी होनी बनाए रखना चाहिए। कार में आग लगने पर इससे कई तरह की गैसें निकलती हैं। यही नहीं आग लगने पर कार में ब्लास्ट भी हो सकता है।

कार में आग लगने के बाद उससे बना कर रखें 100 फीट की दूरी

कार में अगर आग लगी है तो इससे कम से कम 100 फीट की दूरी होनी बनाए रखना चाहिए। कार में आग लगने पर इससे कई तरह की गैसें निकलती हैं। यही नहीं आग लगने पर कार में ब्लास्ट भी हो सकता है।

Follow Us:
Download App:
  • android
  • ios