Asianet News Hindi

नमो से कितना अलग है JDU का यह ऐप, 7 सितंबर से यहीं पर नीतीश कुमार शुरू करेंगे रैली

First Published Sep 3, 2020, 9:59 AM IST
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp

पटना (Bihar) । बिहार में विधानसभा चुनाव हाइटेक तरीके से होगा। नीतीश कुमार नमो ऐप नहीं, बल्कि सीधे ट्रम्प के फॉर्मूले पर मैदान में उतरने की तैयारी की है। इसके लिए जेडीयू ने अपना ऐप तैयार किया है, जिसके माध्यम से पहली बार मुख्यमंत्री नीतीश कुमार, 7 सितंबर को अपनी पहली वर्चुअल चुनावी रैली ‘निश्चय संवाद’ को इसी प्लेटफॉर्म से संबोधित करेंगे। पार्टी का दावा रहा कि देश के किसी भी राजनीतिक दल का यह अपनी तरह का पहला डिजिटल प्लेटफॉर्म है। इसके जरिये बड़ी वर्चुअल रैलियों से लेकर छोटी सार्वजनिक एवं प्राइवेट वीडियो मीटिंग की जा सकेगी। आइए जानते हैं नमो ऐप से कैसे अलग है जदयू का यह ऐप।


नमो ऐप में टू वे कम्यूनिकेशन नहीं है, जबकि जदयू के इस ऐप के जरिये वन-वे और टू-वे दोनों तरह से संवाद कर सकते हैं। यूं कहें कि नमो ऐप पर लोग भाषण तो सुन सकते हैं लेकिन अपनी बात नहीं कह सकते। वहीं, जदयू के इस ऐप पर टू-वे कम्यूनिकेशन भी हो सकता है और लोग अपनी बात नेताओं को कह सकते हैं।
 


नमो ऐप में टू वे कम्यूनिकेशन नहीं है, जबकि जदयू के इस ऐप के जरिये वन-वे और टू-वे दोनों तरह से संवाद कर सकते हैं। यूं कहें कि नमो ऐप पर लोग भाषण तो सुन सकते हैं लेकिन अपनी बात नहीं कह सकते। वहीं, जदयू के इस ऐप पर टू-वे कम्यूनिकेशन भी हो सकता है और लोग अपनी बात नेताओं को कह सकते हैं।
 


जदयू के ऐप में एडवांस टेक्नोलॉजी का इस्तेमाल किया गया है। इसमें कंटेंट डिलीवरी नेटवर्क (वीडियो लाइव करने के लिए सर्वर) के लिए वाउजर का इस्तेमाल होता है, जो फेसबुक और नेटफ्लिक्स जैसी कंपनियां इस्तेमाल करती हैं। नमो ऐप पर होने वाले लाइव स्ट्रीमिंग से ज्यादा अच्छी क्वालिटी जदयू के ऐप पर दिखेगी।
 


जदयू के ऐप में एडवांस टेक्नोलॉजी का इस्तेमाल किया गया है। इसमें कंटेंट डिलीवरी नेटवर्क (वीडियो लाइव करने के लिए सर्वर) के लिए वाउजर का इस्तेमाल होता है, जो फेसबुक और नेटफ्लिक्स जैसी कंपनियां इस्तेमाल करती हैं। नमो ऐप पर होने वाले लाइव स्ट्रीमिंग से ज्यादा अच्छी क्वालिटी जदयू के ऐप पर दिखेगी।
 


नमो ऐप में मैसेंजर मॉड्यूल नहीं है जबकि जदयू के ऐप में यह सुविधा है। मैसेंजर मॉड्यूल मतलब ऐप के जरिये लोगों तक मैसेज भेजने की सुविधा। जदयू के ऐप से लोगों को लाइव स्ट्रीमिंग का सीधा मैसेज भेजा जा सकता है जो नमो ऐप में नहीं है।


नमो ऐप में मैसेंजर मॉड्यूल नहीं है जबकि जदयू के ऐप में यह सुविधा है। मैसेंजर मॉड्यूल मतलब ऐप के जरिये लोगों तक मैसेज भेजने की सुविधा। जदयू के ऐप से लोगों को लाइव स्ट्रीमिंग का सीधा मैसेज भेजा जा सकता है जो नमो ऐप में नहीं है।

जदयू की ऐप टीम को लीड कर रहे भव प्रियरंजन ने बताया कि इसे और विस्तार करने की योजना है। भविष्य में इस ऐप पर 10 लाख से ज्यादा लोगों को जोड़ने की तैयारी चल रही है।
 

जदयू की ऐप टीम को लीड कर रहे भव प्रियरंजन ने बताया कि इसे और विस्तार करने की योजना है। भविष्य में इस ऐप पर 10 लाख से ज्यादा लोगों को जोड़ने की तैयारी चल रही है।
 


जियो के छोटे स्मार्टफोन पर भी यह ऐप खुल जाएगा और एक क्लिक करते ही 30 सेकेंड के अंदर जदयू के लाइव कार्यक्रम से जुड़ सकते हैं।


जियो के छोटे स्मार्टफोन पर भी यह ऐप खुल जाएगा और एक क्लिक करते ही 30 सेकेंड के अंदर जदयू के लाइव कार्यक्रम से जुड़ सकते हैं।


जूम कॉल, गूगल मीट की तरह इस प्लेटफॉर्म के जरिए भी टू वे वीडियो कॉन्फ्रेंस का आयोजन किया जा सकेगा। अभी एकसाथ 500 लोग दोतरफा वीडियो संवाद कर सकते हैं। यह संख्या बढ़ सकती है।


जूम कॉल, गूगल मीट की तरह इस प्लेटफॉर्म के जरिए भी टू वे वीडियो कॉन्फ्रेंस का आयोजन किया जा सकेगा। अभी एकसाथ 500 लोग दोतरफा वीडियो संवाद कर सकते हैं। यह संख्या बढ़ सकती है।


जदयू की ऐप टीम को लीड कर रहे भव प्रियरंजन ने बताया कि इसे और विस्तार करने की योजना है। भविष्य में इस ऐप पर 10 लाख से ज्यादा लोगों को जोड़ने की तैयारी चल रही है।


जदयू की ऐप टीम को लीड कर रहे भव प्रियरंजन ने बताया कि इसे और विस्तार करने की योजना है। भविष्य में इस ऐप पर 10 लाख से ज्यादा लोगों को जोड़ने की तैयारी चल रही है।


फेसबुक और नेटफ्लिक्स लाइव के लिए जिस कंटेंट डिलिवरी नेटवर्क का इस्तेमाल करती है, इस ऐप में उसी टेक्नोलॉजी का इस्तेमाल किया गया है, ताकि लाइव स्ट्रीमिंग में दिक्कत न आए।


फेसबुक और नेटफ्लिक्स लाइव के लिए जिस कंटेंट डिलिवरी नेटवर्क का इस्तेमाल करती है, इस ऐप में उसी टेक्नोलॉजी का इस्तेमाल किया गया है, ताकि लाइव स्ट्रीमिंग में दिक्कत न आए।


बताते चले कि जेडीयू के प्रदेश कार्यालय में ऊर्जा मंत्री बिजेंद्र प्रसाद यादव, जदयू संसदीय दल के नेता राजीव रंजन सिंह उर्फ ललन सिंह, जल संसाधन मंत्री संजय कुमार झा तथा भवन निर्माण मंत्री अशोक चौधरी ने इसे लांच किया। 
 


बताते चले कि जेडीयू के प्रदेश कार्यालय में ऊर्जा मंत्री बिजेंद्र प्रसाद यादव, जदयू संसदीय दल के नेता राजीव रंजन सिंह उर्फ ललन सिंह, जल संसाधन मंत्री संजय कुमार झा तथा भवन निर्माण मंत्री अशोक चौधरी ने इसे लांच किया। 
 

Follow Us:
Download App:
  • android
  • ios