Asianet News Hindi

ये हैं IPS शिवदीप लांडे, महाराष्ट्र सरकार ने ATS में दी बड़ी जिम्मेदारी; संघर्षों के बाद बने थे अफसर

First Published Sep 18, 2020, 11:58 AM IST
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp

पटना (Bihar) । आईपीएस ऑफिसर शिवदीप वामन राव लांडे (Shivdeep Vaman Rao Lande) को महाराष्ट्र सरकार में एंटी टेरेरिस्ट स्क्वॉड (Anti Terrorist Squad ) का डीआईजी बनाया है। बिहार कैडर से 2006 बैच के इस आईपीएस ऑफिसर ने संघर्ष करते हुए स्कॉलरशिप की मदद से इंजीनियरिंग की पढ़ाई पूरी करने के बाद यूपीएससी (UPSC) की परीक्षा पास की थी। वह पटना सिटी एसपी (Patna City SP) की तैनाती के दौरान अपनी अनोखी कार्यशैली की वजह से पूरे देश में मशहूर हो गए थे। बता दें कि इस समय वह हैदराबाद (Hyderabad) में एक महीने की ट्रेनिंग ले रहे हैं। खबर है कि नौ अक्टूबर को ट्रेनिंग खत्म होने के बाद वह नए पद पर योगदान देंगे।


शिवदीप वामनराव लांडे का जन्म महाराष्ट्र के अकोला जिले के परसा गांव में हुआ था। इनके पिता एक गरीब किसान थे। दो भाइयों में बड़े हैं। बताते हैं कि उनकी परवरिश बेहद मुश्किल हालातों में हुई थी। परिवार की आर्थिक हालत तो खराब थी ही कोई पढ़ा लिखा न होने से उन्हें रास्ता दिखाने वाले लोग भी नहीं थे। (ट्विटर)


शिवदीप वामनराव लांडे का जन्म महाराष्ट्र के अकोला जिले के परसा गांव में हुआ था। इनके पिता एक गरीब किसान थे। दो भाइयों में बड़े हैं। बताते हैं कि उनकी परवरिश बेहद मुश्किल हालातों में हुई थी। परिवार की आर्थिक हालत तो खराब थी ही कोई पढ़ा लिखा न होने से उन्हें रास्ता दिखाने वाले लोग भी नहीं थे। (ट्विटर)

शिवदीप पढ़ने में बहुत तेज थे। स्कॉलरशिप की मदद से शिववदीप लांडे ने इंजीनियरिंग की पढ़ाई पूरी करने के बाद मुंबई में रहकर यूपीएससी की तैयारी की, जिसके बाद उनका यूपीएससी में चयन हुआ था। वह बिहार कैडर के आईपीएस चुने गए थे।(ट्विटर)

शिवदीप पढ़ने में बहुत तेज थे। स्कॉलरशिप की मदद से शिववदीप लांडे ने इंजीनियरिंग की पढ़ाई पूरी करने के बाद मुंबई में रहकर यूपीएससी की तैयारी की, जिसके बाद उनका यूपीएससी में चयन हुआ था। वह बिहार कैडर के आईपीएस चुने गए थे।(ट्विटर)


शिवदीप लांडे को (आईपीएस) के परीवीक्षाधीन अधिकारी के रूप में नक्सल प्रभावित जिले मुंगेर से 2010 में कैरियर की शुरुआत की थी। वह मुंगेर में ही अपर पुलिस अधीक्षक बने थे। इसके बाद पटना के सिटी एसपी के रूप में उन्होंने राजधानी क्षेत्र में काम किया था।(ट्विटर)


शिवदीप लांडे को (आईपीएस) के परीवीक्षाधीन अधिकारी के रूप में नक्सल प्रभावित जिले मुंगेर से 2010 में कैरियर की शुरुआत की थी। वह मुंगेर में ही अपर पुलिस अधीक्षक बने थे। इसके बाद पटना के सिटी एसपी के रूप में उन्होंने राजधानी क्षेत्र में काम किया था।(ट्विटर)


शिवदीप वामन राव लांडे जब नारकोटिक्स डिपार्टमेंट में एसपी के पद पर तैनात थे तब उन्होंने नशे के सौदागरों के खिलाफ मुहिम चलाया था।  इस दौरान करोड़ों का मादक पदार्थ पकड़कर एक रिकॉर्ड भी बनाया था।(ट्विटर)


शिवदीप वामन राव लांडे जब नारकोटिक्स डिपार्टमेंट में एसपी के पद पर तैनात थे तब उन्होंने नशे के सौदागरों के खिलाफ मुहिम चलाया था।  इस दौरान करोड़ों का मादक पदार्थ पकड़कर एक रिकॉर्ड भी बनाया था।(ट्विटर)

शिवदीप लांडे को राजधानी पटना का एसपी बनाया गया था। अपनी अनोखी कार्यशैली की वजह से शिवदीप पूरे देश में मशहूर हो गए थे। हालांकि नवंबर 2011 में उनका तबादला अररिया एसपी के रूप में कर दिया था। जिसका लोगों ने काफी विरोध किया था।(ट्विटर)
 

शिवदीप लांडे को राजधानी पटना का एसपी बनाया गया था। अपनी अनोखी कार्यशैली की वजह से शिवदीप पूरे देश में मशहूर हो गए थे। हालांकि नवंबर 2011 में उनका तबादला अररिया एसपी के रूप में कर दिया था। जिसका लोगों ने काफी विरोध किया था।(ट्विटर)
 


युवाओं और छात्रों ने राज्य सरकार के खिलाफ प्रदर्शन किया था। युवाओं में विशेष लोकप्रिय लांडे के प्रशंसकों ने उनके नाम पर सोशल नेटवर्किंग साइट फेसबुक पर अकाउंट खोल रखा है। फेसबुक पर उनके हजारों फॉलोवर हैं।(ट्विटर)


युवाओं और छात्रों ने राज्य सरकार के खिलाफ प्रदर्शन किया था। युवाओं में विशेष लोकप्रिय लांडे के प्रशंसकों ने उनके नाम पर सोशल नेटवर्किंग साइट फेसबुक पर अकाउंट खोल रखा है। फेसबुक पर उनके हजारों फॉलोवर हैं।(ट्विटर)

शिवदीप अक्सर मुंबई अपने फ्रेंड्स से मिलने आते थे। उनके कामो की चर्चा बिहार समेत पूरे महाराष्ट्र में हो रही थी। एक फ्रेंड के घर पर आयोजित पार्टी में शिवदीप और ममता की पहली मुलाकात हुई। यह मुलाकात आगे चलकर पहले प्यार और फिर शादी में बदल गई। दोनों का बचपन भी साधारण रहा। पत्नी के पिता शिवतारे ने कंस्ट्रक्शन बिजनेस से जुड़ने के बाद तरक्की की। बाद में वे नेता व मंत्री बने। ममता की स्कूलिंग मुंबई में हुई है।

शिवदीप अक्सर मुंबई अपने फ्रेंड्स से मिलने आते थे। उनके कामो की चर्चा बिहार समेत पूरे महाराष्ट्र में हो रही थी। एक फ्रेंड के घर पर आयोजित पार्टी में शिवदीप और ममता की पहली मुलाकात हुई। यह मुलाकात आगे चलकर पहले प्यार और फिर शादी में बदल गई। दोनों का बचपन भी साधारण रहा। पत्नी के पिता शिवतारे ने कंस्ट्रक्शन बिजनेस से जुड़ने के बाद तरक्की की। बाद में वे नेता व मंत्री बने। ममता की स्कूलिंग मुंबई में हुई है।


बताया जाता है कि शिवदीप लांडे अपनी ड्यूटी पर जितना सख्त नजर आते हैं, वह उतने ही विनम्र हैं। वह अपनी सैलरी का 60 फीसदी हिस्सा एनजीओ को दान कर देते हैं। इसके अलावा कई सामाजिक कार्यों में भी वह सहयोग करते हैं। उन्होंने कई गरीब लड़कियों की सामूहिक शादी भी करवाई है। लड़कियों की सुरक्षा के लिए काम किया है।(ट्विटर)


बताया जाता है कि शिवदीप लांडे अपनी ड्यूटी पर जितना सख्त नजर आते हैं, वह उतने ही विनम्र हैं। वह अपनी सैलरी का 60 फीसदी हिस्सा एनजीओ को दान कर देते हैं। इसके अलावा कई सामाजिक कार्यों में भी वह सहयोग करते हैं। उन्होंने कई गरीब लड़कियों की सामूहिक शादी भी करवाई है। लड़कियों की सुरक्षा के लिए काम किया है।(ट्विटर)

Follow Us:
Download App:
  • android
  • ios