Asianet News Hindi

बचपन में घर के ऊपर हेलीकॉप्टर उड़ता देख बनाया लक्षय, मां से कहा-मैं भी बनू्ंगी पायलट और रच दिया इतिहास

First Published Mar 8, 2021, 4:32 PM IST
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp

पटना ( Bihar) । भारत की बेटियां हर क्षेत्र में अपना झंडा बुलंद कर देश को गर्व महसूस करवा रही हैं। वह फिर चाहे राजनीति हो, खेल हो या सेना हर मोर्चे पर वह अपने आप को साबित कर रही हैं। ऐसी ही एक बिहार की बेटी हैं शिवांगी स्वरूप जो देश की पहली महिला पायलट बनकर एक इतिहास रच दी हैं। जिनके बारे में हम आपको बता रहे हैं।
 

बिहार के मुजफ्फरपुर की सब लेफ्टिनेंट शिवांगी स्वरूप ने नौसेना की पहली महिला पायलट बनने का गौरव हासिल किया है। प्रारंभिक प्रशिक्षण के बाद शिवांगी को पिछले साल जून में वाइस एडमिरल एके चावला ने औपचारिक तौर पर नौसेना में शामिल किया था।

बिहार के मुजफ्फरपुर की सब लेफ्टिनेंट शिवांगी स्वरूप ने नौसेना की पहली महिला पायलट बनने का गौरव हासिल किया है। प्रारंभिक प्रशिक्षण के बाद शिवांगी को पिछले साल जून में वाइस एडमिरल एके चावला ने औपचारिक तौर पर नौसेना में शामिल किया था।

शिवांगी के पिता सरकारी स्कूल में अध्यापक और मां गृहणी हैं। शिवांगी ने प्रारंभिक शिक्षा मुजफ्फरपुर के डीएवी पब्लिक स्कूल से हासिल की। इसके बाद सिक्किम मणिपाल प्रौद्योगिकी संस्थान से बीटेक किया।

शिवांगी के पिता सरकारी स्कूल में अध्यापक और मां गृहणी हैं। शिवांगी ने प्रारंभिक शिक्षा मुजफ्फरपुर के डीएवी पब्लिक स्कूल से हासिल की। इसके बाद सिक्किम मणिपाल प्रौद्योगिकी संस्थान से बीटेक किया।

24 वर्षीय शिवांगी ने 27 एनओसी कोर्स के तहत एसएसी (पायलट) परीक्षा उत्तीर्ण की और नेवी में कमीशन हासिल किया। निगरानी विमान डोर्नियर-228 को पिछले साल दिसंबर में उड़ाना शुरू किया। बता दें कि यह विमान हिंदुस्तान एयरोनाटिक्स लिमिटेड (एचएएल) द्वारा तैयार किया गया है।

24 वर्षीय शिवांगी ने 27 एनओसी कोर्स के तहत एसएसी (पायलट) परीक्षा उत्तीर्ण की और नेवी में कमीशन हासिल किया। निगरानी विमान डोर्नियर-228 को पिछले साल दिसंबर में उड़ाना शुरू किया। बता दें कि यह विमान हिंदुस्तान एयरोनाटिक्स लिमिटेड (एचएएल) द्वारा तैयार किया गया है।

मीडिया रिपोर्ट्स के मुताबिक शिवांगी ने बताया कि बचपन में उनके घर के नजदीक एक हेलीकॉप्टर को उतरते हुए देखा था, जिसके बाद ठान लिया कि वह पायलट बनेंगी।  वह इस दिन का लंबे समय से इंतजार कर रहीं थी और अंतत यह दिन उनके जीवन में आ ही गया।

मीडिया रिपोर्ट्स के मुताबिक शिवांगी ने बताया कि बचपन में उनके घर के नजदीक एक हेलीकॉप्टर को उतरते हुए देखा था, जिसके बाद ठान लिया कि वह पायलट बनेंगी।  वह इस दिन का लंबे समय से इंतजार कर रहीं थी और अंतत यह दिन उनके जीवन में आ ही गया।

Follow Us:
Download App:
  • android
  • ios