Asianet News Hindi

कंगना के स्टूडियो पहुंची BMC की टीम, एक्ट्रेस बोली-जिसे 15 साल की मेहनत से बनाया उसे तोड़ने की धमकियां दे रहे

First Published Sep 7, 2020, 5:33 PM IST
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp

मुंबई। कंगना रनोट और शिवसेना सांसद संजय राउत के बीच चल रहा विवाद थमने का नाम नहीं ले रहा है। कंगना ने सोमवार को ट्वीट करते हुए बताया कि उनके मुंबई स्थित स्टूडियो में बीएमसी (बृहन्नमुंबई महानगरपालिका) की टीम पहुंची। इस टीम ने धमकी दी है कि मैडम की करतूत का नतीजा सबको भुगतना होगा और वे कल आकर तोड़फोड़ करने की बात कहकर गए हैं।

कंगना ने लिखा, मेरे पास सभी कागजात हैं, बीएमसी की परमिशन है, जिसके मुताबिक मेरी संपत्ति में कुछ भी अवैध नहीं है। बीएमसी को नोटिस के साथ अवैध निर्माण को बताने वाला स्ट्रक्चर प्लान भेजना चाहिए। आज उन्होंने मेरे ऑफिस में छापा मारा और कल बिना किसी नोटिस के वो आकर मेरे पूरे स्ट्रक्चर को तोड़ देंगे।

कंगना ने लिखा, मेरे पास सभी कागजात हैं, बीएमसी की परमिशन है, जिसके मुताबिक मेरी संपत्ति में कुछ भी अवैध नहीं है। बीएमसी को नोटिस के साथ अवैध निर्माण को बताने वाला स्ट्रक्चर प्लान भेजना चाहिए। आज उन्होंने मेरे ऑफिस में छापा मारा और कल बिना किसी नोटिस के वो आकर मेरे पूरे स्ट्रक्चर को तोड़ देंगे।

कंगना ने अपने अगले ट्वीट में लिखा, उन्होंने जबरदस्ती मेरे पूरे ऑफिस का नाप लिया। साथ ही मेरे पड़ोसियों को भी परेशान किया। जब उन्होंने बीएमसी के अधिकारियों का विरोध किया तो कहा, वो जो मैडम है उसकी करतूत का परिणाम सबको भरना होगा। मुझे बताया गया है कि कल वो मेरी संपत्ति को तोड़ने आने वाले हैं।

कंगना ने अपने अगले ट्वीट में लिखा, उन्होंने जबरदस्ती मेरे पूरे ऑफिस का नाप लिया। साथ ही मेरे पड़ोसियों को भी परेशान किया। जब उन्होंने बीएमसी के अधिकारियों का विरोध किया तो कहा, वो जो मैडम है उसकी करतूत का परिणाम सबको भरना होगा। मुझे बताया गया है कि कल वो मेरी संपत्ति को तोड़ने आने वाले हैं।

एक और ट्वीट में कंगना ने लिखा, ये मुंबई में मणिकर्णिका फिल्म्स का ऑफिस है, जिसे मैंने पंद्रह साल मेहनत करके कमाया है, मेरा जिंदगी में एक ही सपना था मैं जब भी फिल्म निर्माता बनूं मेरा अपना खुद का ऑफिस हो, मगर लगता है ये सपना टूटने का वक्त आ गया है, आज वहां अचानक बीएमसी के कुछ लोग आए हैं।

एक और ट्वीट में कंगना ने लिखा, ये मुंबई में मणिकर्णिका फिल्म्स का ऑफिस है, जिसे मैंने पंद्रह साल मेहनत करके कमाया है, मेरा जिंदगी में एक ही सपना था मैं जब भी फिल्म निर्माता बनूं मेरा अपना खुद का ऑफिस हो, मगर लगता है ये सपना टूटने का वक्त आ गया है, आज वहां अचानक बीएमसी के कुछ लोग आए हैं।

बता दें कि कंगना रनोट और शिवसेना के बीच विवाद तब शुरू हुआ, जब कंगना ने कहा था कि उन्हें मूवी माफिया के गुंडों से ज्यादा डर मुंबई पुलिस से लगता है। मुंबई पुलिस से डर लगने की बात को लेकर शिवसेना सांसद संजय राउत ने पार्टी के मुखपत्र 'सामना' में लिखा था कि मुंबई में रहने के बावजूद वो शहर की पुलिस की आलोचना करती है, हम उनसे अनुरोध करते हैं कि वे मुंबई वापस ना लौटें। ये मुंबई पुलिस का अपमान है।
 

बता दें कि कंगना रनोट और शिवसेना के बीच विवाद तब शुरू हुआ, जब कंगना ने कहा था कि उन्हें मूवी माफिया के गुंडों से ज्यादा डर मुंबई पुलिस से लगता है। मुंबई पुलिस से डर लगने की बात को लेकर शिवसेना सांसद संजय राउत ने पार्टी के मुखपत्र 'सामना' में लिखा था कि मुंबई में रहने के बावजूद वो शहर की पुलिस की आलोचना करती है, हम उनसे अनुरोध करते हैं कि वे मुंबई वापस ना लौटें। ये मुंबई पुलिस का अपमान है।
 

संजय राउत के बयान के बाद 3 सितंबर को कंगना ने ट्वीट करते हुए जवाब दिया था कि संजय राउत ने मुझे खुली धमकी दी है और कहा है कि मुंबई वापस मत आना, मुंबई की गलियों में आजादी के नारे लगने के बाद अब खुली धमकियां, मुंबई क्यों पाकिस्तान के कब्जे वाले कश्मीर (पीओके) की तरह लग रही है?

संजय राउत के बयान के बाद 3 सितंबर को कंगना ने ट्वीट करते हुए जवाब दिया था कि संजय राउत ने मुझे खुली धमकी दी है और कहा है कि मुंबई वापस मत आना, मुंबई की गलियों में आजादी के नारे लगने के बाद अब खुली धमकियां, मुंबई क्यों पाकिस्तान के कब्जे वाले कश्मीर (पीओके) की तरह लग रही है?

इसके बाद कंगना ने अगले दिन ट्वीट करते हुए लिखा, लोग मुझे मुंबई वापस नहीं आने को लेकर धमका रहे हैं। इसलिए मैंने फैसला किया है कि मैं आने वाले सप्ताह में 9 सितंबर को मुंबई की यात्रा करूंगी। मैं वो वक्त भी बताऊंगी, जब मैं मुंबई हवाई अड्डे पर उतरूंगी, किसी के बाप में हिम्मत है तो रोक ले। 

इसके बाद कंगना ने अगले दिन ट्वीट करते हुए लिखा, लोग मुझे मुंबई वापस नहीं आने को लेकर धमका रहे हैं। इसलिए मैंने फैसला किया है कि मैं आने वाले सप्ताह में 9 सितंबर को मुंबई की यात्रा करूंगी। मैं वो वक्त भी बताऊंगी, जब मैं मुंबई हवाई अड्डे पर उतरूंगी, किसी के बाप में हिम्मत है तो रोक ले। 

इसके बाद संजय राउत ने कंगना को मेंटल केस बताते हुए उन्हें कुछ दिनों के लिए पीओके भेजने की बात कही थी। साथ ही राउत ने ये भी कहा था पीओके में रहने का खर्च हम दे देंगे। वो जिस थाली में खा रही हैं उसी में छेद कर रही हैं।
 

इसके बाद संजय राउत ने कंगना को मेंटल केस बताते हुए उन्हें कुछ दिनों के लिए पीओके भेजने की बात कही थी। साथ ही राउत ने ये भी कहा था पीओके में रहने का खर्च हम दे देंगे। वो जिस थाली में खा रही हैं उसी में छेद कर रही हैं।
 

इसके बाद कंगना ने महाराष्ट्र सरकार के खिलाफ ट्वीट करते हुए लिखा था कि महाराष्ट्र किसी के बाप का नहीं है। महाराष्ट्र उसी का है जिसने मराठी गौरव को प्रतिष्ठित किया है। और मैं डंके की चोट पे कहती हूं, हां मैं मराठा हूं, उखाड़ो मेरा क्या उखाड़ोगे? आप कौन होते हैं मुझे महाराष्ट्र प्रेम या नफ़रत का सर्टिफिकेट देने वाले? 
 

इसके बाद कंगना ने महाराष्ट्र सरकार के खिलाफ ट्वीट करते हुए लिखा था कि महाराष्ट्र किसी के बाप का नहीं है। महाराष्ट्र उसी का है जिसने मराठी गौरव को प्रतिष्ठित किया है। और मैं डंके की चोट पे कहती हूं, हां मैं मराठा हूं, उखाड़ो मेरा क्या उखाड़ोगे? आप कौन होते हैं मुझे महाराष्ट्र प्रेम या नफ़रत का सर्टिफिकेट देने वाले? 
 

एक न्यूज चैनल से बात करने के दौरान संजय राउत ने कंगना को हरामखोर लड़की कह दिया था। बता दें कि गृह मंत्रालय ने कंगना को Y श्रेणी की सुरक्षा दी है। सूत्रों के मुताबिक, गृह मंत्रालय ने हिमाचल सरकार की सिफारिश के बाद ये कदम उठाया है। बाद में कंगना ने ट्वीट करते हुए गृहमंत्री अमित शाह का धन्यवाद दिया है। 

एक न्यूज चैनल से बात करने के दौरान संजय राउत ने कंगना को हरामखोर लड़की कह दिया था। बता दें कि गृह मंत्रालय ने कंगना को Y श्रेणी की सुरक्षा दी है। सूत्रों के मुताबिक, गृह मंत्रालय ने हिमाचल सरकार की सिफारिश के बाद ये कदम उठाया है। बाद में कंगना ने ट्वीट करते हुए गृहमंत्री अमित शाह का धन्यवाद दिया है। 

Follow Us:
Download App:
  • android
  • ios