SBI दे रहा लखपति बनने का मौका, रुपये लगाकर एक झटके में कमा सकते हैं कई गुना मुनाफा

First Published 20, Feb 2020, 4:44 PM

बिजनेस डेस्क। देश के सबसे बड़े सरकारी बैंक भारतीय स्टेट बैंक को (SBI) की क्रेडिट कार्ड और पेमेंट सेवाओं को सेबी ने आईपीओ जारी करने की अनुमति दे दी है। आम लोगों के पास एसबीआई क्रेडिड कार्ड आईपीओ के जरिए बढ़िया पैसा बनाने का मौका है। 
 

एसबीआई क्रेडिट कार्ड और पेमेंट सेवाओं के आईपीओ की बिडिंग प्रोसेस अगले महीने 2 मार्च से शुरू होकर 5 मार्च को बंद होगी। बिजनेस टुडे के मुताबिक आईपीओ का प्राइस बैंड 745-775 रुपये के बीच रहने की उम्मीद है। एसबीआई क्रेडिट कार्ड और पेमेंट सेवाओं का आईपीओ इस साल का पहला आईपीओ है।

एसबीआई क्रेडिट कार्ड और पेमेंट सेवाओं के आईपीओ की बिडिंग प्रोसेस अगले महीने 2 मार्च से शुरू होकर 5 मार्च को बंद होगी। बिजनेस टुडे के मुताबिक आईपीओ का प्राइस बैंड 745-775 रुपये के बीच रहने की उम्मीद है। एसबीआई क्रेडिट कार्ड और पेमेंट सेवाओं का आईपीओ इस साल का पहला आईपीओ है।

आईपीओ के रूप में 130,526,798 शेयर मार्केट में पेश किए जाएंगे। इन शेयर्स में से करीब 37,293,371 शेयर एसबीआई जबकि 93,233,427 शेयर कार्लाइन ग्रुप बिक्री के लिए पेश करेगा। रिपोर्ट्स के मुताबिक आईपीओ का आकार 6,000 करोड़ रुपये से ज्यादा रहने की उम्मीद है।

आईपीओ के रूप में 130,526,798 शेयर मार्केट में पेश किए जाएंगे। इन शेयर्स में से करीब 37,293,371 शेयर एसबीआई जबकि 93,233,427 शेयर कार्लाइन ग्रुप बिक्री के लिए पेश करेगा। रिपोर्ट्स के मुताबिक आईपीओ का आकार 6,000 करोड़ रुपये से ज्यादा रहने की उम्मीद है।

एचडीएफ़सी के बाद एसबीआई कार्ड और भुगतान सेवाओं की मार्केट में 18 प्रतिशत हिस्सेदारी है। मार्केट में सबसे ज्यादा 27 प्रतिशत हिस्सेदारी एचडीएफ़सी की है। सितंबर के अंत तक कंपनी (एसबीआई) के पास 94 लाख आउट स्टैंडिंग कार्ड थे। ड्राफ्ट प्रॉस्पेक्टस के मुताबिक कंपनी को उम्मीद है कि प्रति वर्ष 25 प्रतिशत की ग्रोथ रेट से क्रेडिट कार्ड की संख्या और बढ़ेगी।

एचडीएफ़सी के बाद एसबीआई कार्ड और भुगतान सेवाओं की मार्केट में 18 प्रतिशत हिस्सेदारी है। मार्केट में सबसे ज्यादा 27 प्रतिशत हिस्सेदारी एचडीएफ़सी की है। सितंबर के अंत तक कंपनी (एसबीआई) के पास 94 लाख आउट स्टैंडिंग कार्ड थे। ड्राफ्ट प्रॉस्पेक्टस के मुताबिक कंपनी को उम्मीद है कि प्रति वर्ष 25 प्रतिशत की ग्रोथ रेट से क्रेडिट कार्ड की संख्या और बढ़ेगी।

पिछले साल पिछले साल आईआरसीटीसी का आईपीओ आया था। तब 10 रुपये अंकित मूल्य के शेयर का बेस प्राइस 315 से 320 रुपये तय हुआ था। आईआरसीटीसी के आईपीओ को मार्केट में जबरदस्त रेस्पोंस मिला था। आईआरसीटीसी का आईपीओ बीएसई में 644 रुपये पर लिस्ट‍ हुआ था। और आईआरसीटीसी के एक शेयर का भाव 1600 रुपये से ऊपर चला गया।

पिछले साल पिछले साल आईआरसीटीसी का आईपीओ आया था। तब 10 रुपये अंकित मूल्य के शेयर का बेस प्राइस 315 से 320 रुपये तय हुआ था। आईआरसीटीसी के आईपीओ को मार्केट में जबरदस्त रेस्पोंस मिला था। आईआरसीटीसी का आईपीओ बीएसई में 644 रुपये पर लिस्ट‍ हुआ था। और आईआरसीटीसी के एक शेयर का भाव 1600 रुपये से ऊपर चला गया।

पिछली बार जिसे भी आईआरसीटीसी के शेयर मिले थे उन्होंने लागत के मुक़ाबले कई गुना ज्यादा मुनाफा कमाया था। एसबीआई कार्ड के आईपीओ में निवेश करने वाले भी मार्केट लिस्टिंग के बाद लागत के मुक़ाबले कई गुना ज्यादा मुनाफा कमा सकते हैं।

पिछली बार जिसे भी आईआरसीटीसी के शेयर मिले थे उन्होंने लागत के मुक़ाबले कई गुना ज्यादा मुनाफा कमाया था। एसबीआई कार्ड के आईपीओ में निवेश करने वाले भी मार्केट लिस्टिंग के बाद लागत के मुक़ाबले कई गुना ज्यादा मुनाफा कमा सकते हैं।

क्या है आईपीओ, कौन खरीद सकता है:- आसान भाषा में कहें तो जब कोई कंपनी पहली बार लोगों और संस्थाओं को कंपनी का हिस्सा खरीदने के लिए आमंत्रित करे उसी प्रक्रिया यानी माध्यम को आईपीओ कहते हैं। अगर आपके पास पैन नंबर, बैंक खाता और डीमैट अकाउंट है किसी आईपीओ में इन्वेस्ट कर सकते हैं।

क्या है आईपीओ, कौन खरीद सकता है:- आसान भाषा में कहें तो जब कोई कंपनी पहली बार लोगों और संस्थाओं को कंपनी का हिस्सा खरीदने के लिए आमंत्रित करे उसी प्रक्रिया यानी माध्यम को आईपीओ कहते हैं। अगर आपके पास पैन नंबर, बैंक खाता और डीमैट अकाउंट है किसी आईपीओ में इन्वेस्ट कर सकते हैं।

आईपीओ कितना और कैसे खरीद सकते हैं:- कोई अधिकतम दो लाख रुपए तक निवेश कर सकता है यानि आईपीओ के लिए बोली लगा सकता है। आईपीओ में अलग अलग लॉट होते हैं। एक लॉट में 10, 20 या इससे ज्यादा शेयर हो सकते हैं। मान लीजिए कि एक लॉट में 10 शेयर हैं तो कम से कम 10 शेयर की बोली लगानी होगी। इन्वेस्टर्स कई लॉट में बिडिंग यानी बोली लगाते हैं। ऐसे में एक इन्वेस्टर्स को कम से कम एक लॉट मिल जाती है। शेयर आवंटित करने के लिए लकी ड्रा का भी इस्तेमाल होता है।

आईपीओ कितना और कैसे खरीद सकते हैं:- कोई अधिकतम दो लाख रुपए तक निवेश कर सकता है यानि आईपीओ के लिए बोली लगा सकता है। आईपीओ में अलग अलग लॉट होते हैं। एक लॉट में 10, 20 या इससे ज्यादा शेयर हो सकते हैं। मान लीजिए कि एक लॉट में 10 शेयर हैं तो कम से कम 10 शेयर की बोली लगानी होगी। इन्वेस्टर्स कई लॉट में बिडिंग यानी बोली लगाते हैं। ऐसे में एक इन्वेस्टर्स को कम से कम एक लॉट मिल जाती है। शेयर आवंटित करने के लिए लकी ड्रा का भी इस्तेमाल होता है।

loader