Asianet News Hindi

Budget 2021 : बिटकॉइन समेत सभी वर्चुअल करंसी पर लगेगी पाबंदी, बजट सेशन में आएगा बिल

First Published Jan 30, 2021, 3:16 PM IST
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp

बिजनेस डेस्क। 1 फरवरी को वित्त मंत्री निर्मला सीताररमण (Nirmala Sitharaman) बजट पेश करेंगी। जानकारी के मुताबिक, बजट सेशन (Budget Session) के दौरान सभी तरह की क्रिप्टोकरंसी (Cryptocurrencies) पर प्रतिबंध लगाने के लिए लोकसभा में विधेयक (Bill to Ban Cryptocurrencies) लाया जाएगा। इससे बिटकॉइन (Bitcoin) जैसी सभी तरह की वर्चुअल करंसी अवैध करार दी जाएगी और इसमें निवेश करना संभव नहीं रह जाएगा। वहीं, रिजर्व बैंक ऑफ इंडिया ( RBI) द्वारा जारी किए जाने वाले ऑफिशियल डिजिटल करंसी (Official Digital Currency) की शुरुआत करने के लिए बिल लाया जाएगा। (फाइल फोटो)
 

बजट सत्र (Budget Session) के तय शेड्यूल के मुताबिक, इसमें द क्रिप्टोकरंसी एंड रेग्युलेशन ऑफ ऑफिशियल डिजिटल करंसी बिल, 2021 (The Cryptocurrency and Regulation of Official Digital Currency Bill 2021) को लाया जाएगा। इस बिल पर विचार-विमर्श कर इसे पारित करवाया जाएगा। (फाइल फोटो)

बजट सत्र (Budget Session) के तय शेड्यूल के मुताबिक, इसमें द क्रिप्टोकरंसी एंड रेग्युलेशन ऑफ ऑफिशियल डिजिटल करंसी बिल, 2021 (The Cryptocurrency and Regulation of Official Digital Currency Bill 2021) को लाया जाएगा। इस बिल पर विचार-विमर्श कर इसे पारित करवाया जाएगा। (फाइल फोटो)

लोकसभा द्वारा जारी बुलेटिन के मुताबिक, इस विधेयक का मकसद रिजर्व बैंक ऑफ इंडिया के ऑफिशियल डिजिटल करंसी के लिए एक फ्रेमवर्क को तैयार करना है। इसके अलावा, इस विधेयक के पास हो जाने पर देश में प्रचलित सभी क्रिप्टोकरंसी पर रोक लगा दी जाएगी। (फाइल फोटो)

लोकसभा द्वारा जारी बुलेटिन के मुताबिक, इस विधेयक का मकसद रिजर्व बैंक ऑफ इंडिया के ऑफिशियल डिजिटल करंसी के लिए एक फ्रेमवर्क को तैयार करना है। इसके अलावा, इस विधेयक के पास हो जाने पर देश में प्रचलित सभी क्रिप्टोकरंसी पर रोक लगा दी जाएगी। (फाइल फोटो)

भारत में क्रिप्टोकरंसी को लेकर अभी तक कोई निर्धारित गाइडलाइन नहीं है। रिजर्व बैंक ऑफ इंडिया (RBI) ने 2018 में क्रिप्टोकरंसी को लेकर एक सर्कुलर जारी किया था। इस सर्कुलर के जरिए रिजर्व बैंक ने क्रिप्टोकरंसी से जुड़ी किसी भी तरह के लेन-देन पर रोक लगा दी थी। इसके बाद यह मामला सुप्रीम कोर्ट में गया था। (फाइल फोटो)

भारत में क्रिप्टोकरंसी को लेकर अभी तक कोई निर्धारित गाइडलाइन नहीं है। रिजर्व बैंक ऑफ इंडिया (RBI) ने 2018 में क्रिप्टोकरंसी को लेकर एक सर्कुलर जारी किया था। इस सर्कुलर के जरिए रिजर्व बैंक ने क्रिप्टोकरंसी से जुड़ी किसी भी तरह के लेन-देन पर रोक लगा दी थी। इसके बाद यह मामला सुप्रीम कोर्ट में गया था। (फाइल फोटो)

सुप्रीम कोर्ट ने मार्च 2020 में रिजर्व बैंक ऑफ इंडिया द्वारा क्रिप्टोकरंसी पर लगाए गए प्रतिबंध को खत्म करने का आदेश जारी किया था। इसके बाद भारत में बिटकॉइन में निवेश शुरू हो गया। यह अलग बात है कि क्रिप्टोकरंसी में निवेश करने वालों को ऐसा अपने रिस्क पर करना होता है। इसकी वजह यह है कि देश में क्रिप्टोकरंसी से जुड़ी कोई रेग्युलेटरी अथॉरिटी नहीं है। (फाइल फोटो)

सुप्रीम कोर्ट ने मार्च 2020 में रिजर्व बैंक ऑफ इंडिया द्वारा क्रिप्टोकरंसी पर लगाए गए प्रतिबंध को खत्म करने का आदेश जारी किया था। इसके बाद भारत में बिटकॉइन में निवेश शुरू हो गया। यह अलग बात है कि क्रिप्टोकरंसी में निवेश करने वालों को ऐसा अपने रिस्क पर करना होता है। इसकी वजह यह है कि देश में क्रिप्टोकरंसी से जुड़ी कोई रेग्युलेटरी अथॉरिटी नहीं है। (फाइल फोटो)

बिटकॉइन (Bitcoin) एक तरह की वर्चुअल करंसी है। हाल के दिनों में इसकी कीमत में काफी बढ़ोत्तरी हुई है। इस वजह से काफी लोग इसमें निवेश करने लगे हैं। कुछ समय पहले इसकी कीमत में कमी आई थी, लेकिन इसमें निवेश पर फिर भी बहुत ज्यादा मुनाफा है। इसका डॉलर या रुपए की तरह किसी भी तरह के लेन-देन के लिए इस्तेमाल किया जा सकता है। दुनिया भर में  इसका इस्तेमाल तेजी से बढ़ रहा है। (फाइल फोटो)

बिटकॉइन (Bitcoin) एक तरह की वर्चुअल करंसी है। हाल के दिनों में इसकी कीमत में काफी बढ़ोत्तरी हुई है। इस वजह से काफी लोग इसमें निवेश करने लगे हैं। कुछ समय पहले इसकी कीमत में कमी आई थी, लेकिन इसमें निवेश पर फिर भी बहुत ज्यादा मुनाफा है। इसका डॉलर या रुपए की तरह किसी भी तरह के लेन-देन के लिए इस्तेमाल किया जा सकता है। दुनिया भर में इसका इस्तेमाल तेजी से बढ़ रहा है। (फाइल फोटो)

अमेरिकी कंपनी पेपाल (PayPal) ने अपने प्लेटफॉर्म पर बिटकॉइन के जरिए लेन-देन को मंजूरी दे दी है। पेपाल (PayPal) के जरिए किसी भी तरह के ट्रांजैक्शन के लिए बिटकॉइन में भुगतान किया जा सकता है। इससे तेजी से इस वर्चुअल करंसी में ट्रांजैक्शन के साथ इन्वेस्टमेंट भी बढ़ा है। (फाइल फोटो)

अमेरिकी कंपनी पेपाल (PayPal) ने अपने प्लेटफॉर्म पर बिटकॉइन के जरिए लेन-देन को मंजूरी दे दी है। पेपाल (PayPal) के जरिए किसी भी तरह के ट्रांजैक्शन के लिए बिटकॉइन में भुगतान किया जा सकता है। इससे तेजी से इस वर्चुअल करंसी में ट्रांजैक्शन के साथ इन्वेस्टमेंट भी बढ़ा है। (फाइल फोटो)

Follow Us:
Download App:
  • android
  • ios