FD की तरह सोना में पैसा लगाकर करें मोटी कमाई, मोदी सरकार दे रही 10 जुलाई तक का मौका

First Published 6, Jul 2020, 2:13 PM

बिजनेस डेस्क। कोरोना संकट के दौरान गोल्ड में निवेश सबसे सुरक्षित माना जा रहा है। भारत ही नहीं, बल्कि पूरी दुनिया में गोल्ड में निवेश के लिए आकर्षण बढ़ा है। इस साल गोल्ड की कीमतों में करीब 40 फीसदी तेजी आई है। ऐसे में, अगर आप सस्ते में सोना खरीदना चाहते हैं, तो मोदी सरकार की सॉवरेन गोल्ड बॉन्ड स्कीम में इसके लिए आपके पास मौका है। सरकारी गोल्ड बॉन्ड स्कीम 2021-21 सीरीज-4 का सब्सक्रिप्शन आज से ही खुलने जा रहा है। आप 10 जुलाई तक इस स्कीम में सोना खरीद सकते हैं। 
 

<p><strong>निवेश के लिए सबसे बेहतर</strong><br />
गोल्ड को निवेश के लिए सबसे सुरक्षित और बेहतर ऑप्शन बताया जा रहा है। शेयर मार्केट्स में भारी उथल-पुथल होने और एफडी के साथ दूसरी छोटी बचत योजनाओं में कम ब्याज मिलने की वजह से निवेशक एक बार फिर सोने की तरफ रुख कर रहे हैं। खास बात यह है कि सरकार की सॉवरेन गोल्ड स्कीम में सोना काफी सस्ता मिल रहा है। </p>

निवेश के लिए सबसे बेहतर
गोल्ड को निवेश के लिए सबसे सुरक्षित और बेहतर ऑप्शन बताया जा रहा है। शेयर मार्केट्स में भारी उथल-पुथल होने और एफडी के साथ दूसरी छोटी बचत योजनाओं में कम ब्याज मिलने की वजह से निवेशक एक बार फिर सोने की तरफ रुख कर रहे हैं। खास बात यह है कि सरकार की सॉवरेन गोल्ड स्कीम में सोना काफी सस्ता मिल रहा है। 

<p><strong>ऑनलाइन खरीदने पर 50 रुपए प्रति ग्राम की छूट</strong><br />
अगर कोई सॉवरेन गोल्ड स्कीम में ऑनलाइन गोल्ड बॉन्ड खरीदता है, तो उसे 50 रुपए प्रति ग्राम की छूट मिलेगी। पिछले चरण में अगर आप सोने में निवेश नहीं कर सके हों, तो इस वक्त मौका है। <br />
 </p>

ऑनलाइन खरीदने पर 50 रुपए प्रति ग्राम की छूट
अगर कोई सॉवरेन गोल्ड स्कीम में ऑनलाइन गोल्ड बॉन्ड खरीदता है, तो उसे 50 रुपए प्रति ग्राम की छूट मिलेगी। पिछले चरण में अगर आप सोने में निवेश नहीं कर सके हों, तो इस वक्त मौका है। 
 

<p><strong>आज से कर सकते हैं खरीद</strong><br />
इस स्कीम में सब्सक्रिप्शन आज से खुलेगा और 10 जुलाई को बंद हो जाएगा। इसका मतलब है कि 10 जुलाई तक आप सोने में निवेश कर सकते हैं। रिजर्व बैंक ऑफ इंडिया ने अप्रैल में यह घोषणा की थी कि सरकार अप्रैल, 2020 से , सितंबर 2020 तक 6 किस्तों में गोल्ड बॉन्ड जारी करेगी। </p>

आज से कर सकते हैं खरीद
इस स्कीम में सब्सक्रिप्शन आज से खुलेगा और 10 जुलाई को बंद हो जाएगा। इसका मतलब है कि 10 जुलाई तक आप सोने में निवेश कर सकते हैं। रिजर्व बैंक ऑफ इंडिया ने अप्रैल में यह घोषणा की थी कि सरकार अप्रैल, 2020 से , सितंबर 2020 तक 6 किस्तों में गोल्ड बॉन्ड जारी करेगी। 

<p><strong>इश्यू प्राइस 4,852 रुपए प्रति ग्राम</strong><br />
रिजर्व बैंक ऑफ इंडिया यह गोल्ड बॉन्ड सरकार की ओर से जारी करेगा। सरकारी गोल्ड बॉन्ड के लिए इश्यू प्राइस 4,852 रुपए प्रति ग्राम तय किया गया है। इसके पहले 8 से 12 जून के बीच इश्यू प्राइस 4,677 रुपए प्रति ग्राम था। </p>

इश्यू प्राइस 4,852 रुपए प्रति ग्राम
रिजर्व बैंक ऑफ इंडिया यह गोल्ड बॉन्ड सरकार की ओर से जारी करेगा। सरकारी गोल्ड बॉन्ड के लिए इश्यू प्राइस 4,852 रुपए प्रति ग्राम तय किया गया है। इसके पहले 8 से 12 जून के बीच इश्यू प्राइस 4,677 रुपए प्रति ग्राम था। 

<p><strong>डिजिटल प्रॉसेस में इश्यू प्राइस है कम</strong><br />
सॉवरेन गोल्ड बॉन्ड खरीदने के लिए ऑनलाइन आवेदन करने और डिजिटल भुगतान करने पर इश्यू प्राइस 4,802 रुपए होगा। सोने की कीमतों में इस साल अंत तक तेजी जारी रहने का अनुमान है। यही वजह है कि सरकार की इस स्कीम में निवेशकों ज्यादा रुचि दिखा सकते हैं। </p>

डिजिटल प्रॉसेस में इश्यू प्राइस है कम
सॉवरेन गोल्ड बॉन्ड खरीदने के लिए ऑनलाइन आवेदन करने और डिजिटल भुगतान करने पर इश्यू प्राइस 4,802 रुपए होगा। सोने की कीमतों में इस साल अंत तक तेजी जारी रहने का अनुमान है। यही वजह है कि सरकार की इस स्कीम में निवेशकों ज्यादा रुचि दिखा सकते हैं। 

<p><strong>कौन कर सकता है निवेश</strong><br />
सॉवरेन गोल्ड बॉन्ड में भारतीय नागरिक, हिंदू जॉइंट फैमिली, ट्रस्ट, यूनिवर्सिटी और चैरिटेबल संस्थाएं निवेश कर सकती हैं। इस बॉन्ड में कम से कम एक ग्राम के साथ निवेश किया जा सकता है। एक वित्त वर्ष में कोई भी व्यक्ति या हिंदू जॉइंट फैमिली इस स्कीम में 4 किलोग्राम गोल्ड का निवेश कर सकती है। वहीं, ट्रस्ट और दूसरी संस्थाएं एक वित्त वर्ष में 20 किलोग्राम तक गोल्ड का निवेश कर सकती हैं।<br />
 </p>

कौन कर सकता है निवेश
सॉवरेन गोल्ड बॉन्ड में भारतीय नागरिक, हिंदू जॉइंट फैमिली, ट्रस्ट, यूनिवर्सिटी और चैरिटेबल संस्थाएं निवेश कर सकती हैं। इस बॉन्ड में कम से कम एक ग्राम के साथ निवेश किया जा सकता है। एक वित्त वर्ष में कोई भी व्यक्ति या हिंदू जॉइंट फैमिली इस स्कीम में 4 किलोग्राम गोल्ड का निवेश कर सकती है। वहीं, ट्रस्ट और दूसरी संस्थाएं एक वित्त वर्ष में 20 किलोग्राम तक गोल्ड का निवेश कर सकती हैं।
 

<p><strong>क्या है बॉन्ड की अवधि</strong><br />
सॉवरेन गोल्ड बॉन्ड स्कीम की अवधि 8 साल की होती है। इस योजना की शुरुआत नवंबर, 2015 में हुई थी। इस योजना में निवेश पूरी तरह सुरक्षित होता है। इसमें रिटर्न भी काफी है। यही वजह है कि लोग गोल्ड बॉन्ड में पैसा लगाना ज्यादा पसंद करते हैं। </p>

क्या है बॉन्ड की अवधि
सॉवरेन गोल्ड बॉन्ड स्कीम की अवधि 8 साल की होती है। इस योजना की शुरुआत नवंबर, 2015 में हुई थी। इस योजना में निवेश पूरी तरह सुरक्षित होता है। इसमें रिटर्न भी काफी है। यही वजह है कि लोग गोल्ड बॉन्ड में पैसा लगाना ज्यादा पसंद करते हैं। 

<p><strong>बढ़ रही है सोने की मांग</strong><br />
पूरी दुनिया के स्तर पर सोने की मांग लगातार बढ़ती जा रही है। सोने की मांग में तेजी और डॉलर के मुकाबले रुपए के कमजोर होने से पिछले हफ्ते मुंबई के रिटेल मार्केट में सोने की कीमत प्रति 10 ग्राम 50 हजार के पर चली गई थी। सोने की कीमत 2018 के बीच से चढ़नी शुरू हुई हैं। इसके पहले कई वर्षों तक इसकी कीमत 30 से 32 हजार रुपए प्रति 10 ग्राम बनी हुई थी। पिछले 2 सालों में सोने की कीमत में 57 फीसदी उछाल आया है। रिटर्न के मामले में भी इसने दूसरे एसेट को पीछे छोड़ दिया है। सोने में करीब 17 फीसदी रिटर्न मिला है, जो सबसे ज्यादा है। <br />
 </p>

बढ़ रही है सोने की मांग
पूरी दुनिया के स्तर पर सोने की मांग लगातार बढ़ती जा रही है। सोने की मांग में तेजी और डॉलर के मुकाबले रुपए के कमजोर होने से पिछले हफ्ते मुंबई के रिटेल मार्केट में सोने की कीमत प्रति 10 ग्राम 50 हजार के पर चली गई थी। सोने की कीमत 2018 के बीच से चढ़नी शुरू हुई हैं। इसके पहले कई वर्षों तक इसकी कीमत 30 से 32 हजार रुपए प्रति 10 ग्राम बनी हुई थी। पिछले 2 सालों में सोने की कीमत में 57 फीसदी उछाल आया है। रिटर्न के मामले में भी इसने दूसरे एसेट को पीछे छोड़ दिया है। सोने में करीब 17 फीसदी रिटर्न मिला है, जो सबसे ज्यादा है। 
 

<p><strong>कितना चढ़ सकता है सोने का भाव</strong><br />
पिछले हफ्ते न्यूयॉर्क में सोने का भाव प्रति औंस 1800 डॉलर से कुछ ऊपर था। कोरोनावायरस महामारी की वजह से सोने की कीमतें बढ़ी हैं। बैंक ऑफ अमेरिका सिक्योरिटीज की हाल में आई एक रिपोर्ट में बताया गया है कि अगले कुछ वर्षों में स्टॉक्स और बॉन्ड्स में ज्यादा रिटर्न की उम्मीद नहीं रह गई है। इसलिए सोने की तरफ निवेशकों का रुझान बढ़ा है। रिपोर्ट के मुताबिक, 2021 के अंत तक सोने की कीमत 3000 डॉलर प्रति औंस तक जा सकती है। मौजूदा एक्सचेंज रेट के हिसाब से इंडियन करंसी में यह राशि 80 हजार रुपए प्रति ग्राम होगी।  </p>

कितना चढ़ सकता है सोने का भाव
पिछले हफ्ते न्यूयॉर्क में सोने का भाव प्रति औंस 1800 डॉलर से कुछ ऊपर था। कोरोनावायरस महामारी की वजह से सोने की कीमतें बढ़ी हैं। बैंक ऑफ अमेरिका सिक्योरिटीज की हाल में आई एक रिपोर्ट में बताया गया है कि अगले कुछ वर्षों में स्टॉक्स और बॉन्ड्स में ज्यादा रिटर्न की उम्मीद नहीं रह गई है। इसलिए सोने की तरफ निवेशकों का रुझान बढ़ा है। रिपोर्ट के मुताबिक, 2021 के अंत तक सोने की कीमत 3000 डॉलर प्रति औंस तक जा सकती है। मौजूदा एक्सचेंज रेट के हिसाब से इंडियन करंसी में यह राशि 80 हजार रुपए प्रति ग्राम होगी।  

loader