सरकार 3 महीने में किसानों को देगी 20 हजार करोड़ रुपए की मदद, आज से अकाउंट में भेजे जाएंगे पैसे

First Published 1, Aug 2020, 12:38 PM

बिजनेस डेस्क। केंद्र सरकार की प्रधानमंत्री किसान सम्मान निधि योजना के तहत इस साल 30 नवंबर तक करीब 10 करोड़ 22 लाख रजिस्टर्ड किसानों को पैसा मिलेगा। बता दें कि पीएम किसान स्कीम की छठी किस्त का पैसा आज 1 अगस्त से किसानों के अकाउंट में भेजने की प्रक्रिया शुरू हो गई है। इस किस्त में करीब 10 करोड़ किसानों को 2-2 हजार रुपए की मदद मिलेगी। 1 अगस्त से 20 नवंबर के बीच यह पैसा इस स्कीम में रजिस्टर्ड किसानों के बैंक अकाउंट में भेज दिया जाएगा। 
 

<p><strong>10 करोड़, 22 लाख किसान हैं रजिस्टर्ड</strong><br />
प्रधानमंत्री किसान सम्मान निधि योजना 1 दिसंबर, 2018 को लागू की गई थी। इस स्कीम के तहत छोटे और सीमांत किसान परिवारों को हर साल 6000 रुपए की नकद सहायता दी जाती है। अब तक 10 करोड़, 22 लाख किसान इस योजना में रजिस्टर्ड हो चुके हैं। बता दें कि इस योजना की पांचवीं किस्त 1 अप्रैल, 2020 को जारी की गई थी। </p>

10 करोड़, 22 लाख किसान हैं रजिस्टर्ड
प्रधानमंत्री किसान सम्मान निधि योजना 1 दिसंबर, 2018 को लागू की गई थी। इस स्कीम के तहत छोटे और सीमांत किसान परिवारों को हर साल 6000 रुपए की नकद सहायता दी जाती है। अब तक 10 करोड़, 22 लाख किसान इस योजना में रजिस्टर्ड हो चुके हैं। बता दें कि इस योजना की पांचवीं किस्त 1 अप्रैल, 2020 को जारी की गई थी। 

<p><strong>सीधे किसानों के अकाउंट में भेजा जाता है पैसा</strong><br />
यह पूरी तरह से केंद्र सरकार की योजना है। इसमें राज्य सरकार की कोई हिस्सेदारी नहीं होती। इस स्कीम में 2000-2000 रुपए की 3 किस्त किसानों को दी जाती है। यह पैसा डायरेक्ट बेनिफिट (DBT) ट्रांसफर के तहत सीधे किसानों के अकाउंट में ही डाला जाता है। अब तक करीब 74 हजार करोड़ की मदद किसानों के अकाउंट में भेजी जा चुकी है।</p>

सीधे किसानों के अकाउंट में भेजा जाता है पैसा
यह पूरी तरह से केंद्र सरकार की योजना है। इसमें राज्य सरकार की कोई हिस्सेदारी नहीं होती। इस स्कीम में 2000-2000 रुपए की 3 किस्त किसानों को दी जाती है। यह पैसा डायरेक्ट बेनिफिट (DBT) ट्रांसफर के तहत सीधे किसानों के अकाउंट में ही डाला जाता है। अब तक करीब 74 हजार करोड़ की मदद किसानों के अकाउंट में भेजी जा चुकी है।

<p><strong>बिचौलिए नहीं कर सकते गड़बड़ी</strong><br />
पीएम किसान योजना की खास बात यह है कि डायरेक्ट किसानों के खाते में पैसा भेजने की वजह से बिचौलिए इसमें किसी तरह की कोई गड़बड़ी नहीं कर सकते। स्थानीय स्तर पर कोई नेता या अफसर किसानों के इस फंड में गड़बड़ी नहीं कर सकता। इसके पहले किसानों की मदद की जो योजनाएं बनती थीं, उनमें काफी भ्रष्टाचार और पैसे की बंदरबांट होती थी।</p>

बिचौलिए नहीं कर सकते गड़बड़ी
पीएम किसान योजना की खास बात यह है कि डायरेक्ट किसानों के खाते में पैसा भेजने की वजह से बिचौलिए इसमें किसी तरह की कोई गड़बड़ी नहीं कर सकते। स्थानीय स्तर पर कोई नेता या अफसर किसानों के इस फंड में गड़बड़ी नहीं कर सकता। इसके पहले किसानों की मदद की जो योजनाएं बनती थीं, उनमें काफी भ्रष्टाचार और पैसे की बंदरबांट होती थी।

<p><strong>मिल सकता है लोन</strong><br />
इस योजना से अब किसान क्रेडिट कार्ड स्कीम को भी जोड़ दिया गया है। इसलिए इस योजना में जो किसान रजिस्टर्ड हैं, वे क्रेडिट कार्ड के जरिए लोन की सुविधा भी हासिल कर सकते हैं। किसान क्रेडिट कार्ड स्कीम के जरिए 4 फीसदी ब्याज पर 3 लाख रुपए तक का लोन आसानी से मिल जाता है। </p>

मिल सकता है लोन
इस योजना से अब किसान क्रेडिट कार्ड स्कीम को भी जोड़ दिया गया है। इसलिए इस योजना में जो किसान रजिस्टर्ड हैं, वे क्रेडिट कार्ड के जरिए लोन की सुविधा भी हासिल कर सकते हैं। किसान क्रेडिट कार्ड स्कीम के जरिए 4 फीसदी ब्याज पर 3 लाख रुपए तक का लोन आसानी से मिल जाता है। 

<p><strong>अभी भी काफी किसानों को नहीं मिला पैसा</strong><br />
अभी भी देश में करीब 1.3 करोड़ किसान ऐसे हैं, जिन्होंने पीएम किसान योजना में रजिस्ट्रेशन कराने के लिए आवेदन तो दिया है, लेकिन आधार कार्ड या बैंक खाते में दिए गए मोबाइल नंबर में गड़बड़ी की वजह से उन्हें योजना का लाभ नहीं मिल सका है। </p>

अभी भी काफी किसानों को नहीं मिला पैसा
अभी भी देश में करीब 1.3 करोड़ किसान ऐसे हैं, जिन्होंने पीएम किसान योजना में रजिस्ट्रेशन कराने के लिए आवेदन तो दिया है, लेकिन आधार कार्ड या बैंक खाते में दिए गए मोबाइल नंबर में गड़बड़ी की वजह से उन्हें योजना का लाभ नहीं मिल सका है। 

<p><strong>खुद किसान कर सकते हैं नाम रजिस्टर</strong><br />
पीएम किसान योजना का ज्यादा से ज्यादा किसान लाभ उठा सकें, इसके लिए सरकार ने इस योजना में सेल्फ रजिस्ट्रेशन की सुविधा दी है। पहले इस योजना में रजिस्ट्रेशन कराने के लिए लेखपाल, कानूनगो और कृषि अधिकारी से संपर्क करना पड़ता था और कई प्रक्रियाएं पूरी करनी होती थीं। अब अगर किसान के पास रेवेन्यू रिकॉर्ड, आधार कार्ड, मोबाइल नंबर और बैंक अकाउंट नंबर हो तो वह पीएम किसान वेबसाइट पर जाकर फार्मर्स कॉर्नर में खुद अपना रजिस्ट्रेशन करा सकता है।<br />
 </p>

खुद किसान कर सकते हैं नाम रजिस्टर
पीएम किसान योजना का ज्यादा से ज्यादा किसान लाभ उठा सकें, इसके लिए सरकार ने इस योजना में सेल्फ रजिस्ट्रेशन की सुविधा दी है। पहले इस योजना में रजिस्ट्रेशन कराने के लिए लेखपाल, कानूनगो और कृषि अधिकारी से संपर्क करना पड़ता था और कई प्रक्रियाएं पूरी करनी होती थीं। अब अगर किसान के पास रेवेन्यू रिकॉर्ड, आधार कार्ड, मोबाइल नंबर और बैंक अकाउंट नंबर हो तो वह पीएम किसान वेबसाइट पर जाकर फार्मर्स कॉर्नर में खुद अपना रजिस्ट्रेशन करा सकता है।
 

<p><strong>स्टेटस जानने की सुविधा</strong><br />
पीएम किसान योजना में रजिस्ट्रेशन के लिए आपका आवेदन स्वीकार हुआ या नहीं, आपके अकाउंट में पैसा आया या नहीं और आया तो कितनी किस्त का, यह जानने के लिए अब किसी कार्यालय का चक्कर लगाने की जरूरत किसानों को नहीं है। वे खुद पीएम किसान पोर्टल <a href="https://pmkisan.gov.in/">https://pmkisan.gov.in/</a> पर जाकर यह जानकारी हासिल कर सकते हैं।  </p>

<p> </p>

स्टेटस जानने की सुविधा
पीएम किसान योजना में रजिस्ट्रेशन के लिए आपका आवेदन स्वीकार हुआ या नहीं, आपके अकाउंट में पैसा आया या नहीं और आया तो कितनी किस्त का, यह जानने के लिए अब किसी कार्यालय का चक्कर लगाने की जरूरत किसानों को नहीं है। वे खुद पीएम किसान पोर्टल https://pmkisan.gov.in/ पर जाकर यह जानकारी हासिल कर सकते हैं।  

 

loader