Asianet News Hindi

Post Office की है ये बेस्ट स्कीम, 5 लाख जमा करने पर बैंकों की FD के मुकाबले मिलेगा 50 हजार ज्यादा

First Published Oct 7, 2020, 11:01 AM IST
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp

बिजनेस डेस्क। कोरोना महामारी और लॉकडाउन के दौरान ज्यादातर लोगों की आमदनी कम हो गई है। इसके साथ ही, लोग अपनी बचत को लेकर भी परेशान हैं। कोई भी वहीं निवेश करना चाहता है, जहां जमा राशि की सुरक्षा के साथ-साथ उस पर ज्यादा से ज्यादा रिटर्न मिल सके। बचत और निवेश को लेकर सबसे ज्याद चिंता सीनियर सिटिजन्स को होती है, क्योंकि वे बहुत रिस्क नहीं ले सकते। इसलिए वे निवेश के लिए सुरक्षित विकल्प का चुनाव करना चाहते हैं। सुरक्षित निवेश के साथ ही अच्छे रिटर्न के लिए पोस्ट ऑफिस की सीनियर सिटिजन सेविंग स्कीम (SCSS) बेहतर मानी जा रही है। इस स्कीम की खास बात यह है कि इसमें बैकों की फिक्स्ड डिपॉजिट (FD) से ज्यादा रिटर्न मिल रहा है।
(फाइल फोटो)
 

स्कीम के फायदे
सीनियर सिटिजन्स के लिए शुरू की गई इस योजना में 5 साल के लिए 5 लाख रुपए का निवेश करने पर करीब 6,85,00 रुपए का रिटर्न मिलता है। इस तरह निवेशक को महज 5 साल में 5 लाख रुपए के निवेश पर 1,85,000 रुपए का फायदा होता है।
(फाइल फोटो)

स्कीम के फायदे
सीनियर सिटिजन्स के लिए शुरू की गई इस योजना में 5 साल के लिए 5 लाख रुपए का निवेश करने पर करीब 6,85,00 रुपए का रिटर्न मिलता है। इस तरह निवेशक को महज 5 साल में 5 लाख रुपए के निवेश पर 1,85,000 रुपए का फायदा होता है।
(फाइल फोटो)

फिक्स्ड डिपॉजिट की तुलना में कितना लाभ
स्टेट बैंक ऑफ इंडिया (SBI) फिक्स्ड डिपॉजिट (FD) पर 5.75 फीसदी की दर से  ब्याज दे रहा है। इस तरह देखा जाए तो फिक्स्ड डिपॉजिट पर  सीनियर सिटिजन सेविंग स्कीम (SCSS) की तुलना में कम रिटर्न मिलेगा। जहां तक टैक्स की बात है, तो फिक्स्ड डिपॉजिट पर सालाना ब्याज पर टीडीएस कटता है, लेकिन सीनियर सिटिजन सेविंग स्कीम में निवेश पर इनकम टैक्स एक्ट के सेक्शन 80C के तहत छूट मिलती है।  
(फाइल फोटो)
 

फिक्स्ड डिपॉजिट की तुलना में कितना लाभ
स्टेट बैंक ऑफ इंडिया (SBI) फिक्स्ड डिपॉजिट (FD) पर 5.75 फीसदी की दर से  ब्याज दे रहा है। इस तरह देखा जाए तो फिक्स्ड डिपॉजिट पर  सीनियर सिटिजन सेविंग स्कीम (SCSS) की तुलना में कम रिटर्न मिलेगा। जहां तक टैक्स की बात है, तो फिक्स्ड डिपॉजिट पर सालाना ब्याज पर टीडीएस कटता है, लेकिन सीनियर सिटिजन सेविंग स्कीम में निवेश पर इनकम टैक्स एक्ट के सेक्शन 80C के तहत छूट मिलती है।  
(फाइल फोटो)
 

कौन कर सकता है निवेश
सीनियर सिटिजन स्कीम में 60 वर्ष से ज्यादा उम्र के भारतीय नागरिक ही अकाउंट खुलवा सकते हैं। हालांकि, जिन लोगों ने वॉलियन्टरी रिटायरमेंट स्कीम के तहत सेवा निवृति ले ली है, वे लोग इस स्कीम में 60 वर्ष की उम्र के पहले खाता खुलवा सकते हैं। इसके अलावा, इस स्कीम के तहत पति और पत्नी साथ में जॉइंट अकाउंट रख सकते हैं, लेकिन उनका निवेश 15 लाख से ज्यादा नहीं होना चाहिए।
(फाइल फोटो)

कौन कर सकता है निवेश
सीनियर सिटिजन स्कीम में 60 वर्ष से ज्यादा उम्र के भारतीय नागरिक ही अकाउंट खुलवा सकते हैं। हालांकि, जिन लोगों ने वॉलियन्टरी रिटायरमेंट स्कीम के तहत सेवा निवृति ले ली है, वे लोग इस स्कीम में 60 वर्ष की उम्र के पहले खाता खुलवा सकते हैं। इसके अलावा, इस स्कीम के तहत पति और पत्नी साथ में जॉइंट अकाउंट रख सकते हैं, लेकिन उनका निवेश 15 लाख से ज्यादा नहीं होना चाहिए।
(फाइल फोटो)

कितना कर सकते हैं निवेश 
इस स्कीम में अकाउंट खुलवाने के लिए न्यूनतम 1000 रुपए का निवेश करना होता है। अधिकतम निवेश 15 लाख रुपए किया जा सकता है। हालांकि, निवेश की जाने वाली राशि रिटायरमेंट बेनिफिट्स के अमाउंट से ज्यादा नहीं होनी चाहिए। 1 लाख रुपए से ज्यादा के निवेश पर चेक से भुगतान करना होगा। 
(फाइल फोटो)
 

कितना कर सकते हैं निवेश 
इस स्कीम में अकाउंट खुलवाने के लिए न्यूनतम 1000 रुपए का निवेश करना होता है। अधिकतम निवेश 15 लाख रुपए किया जा सकता है। हालांकि, निवेश की जाने वाली राशि रिटायरमेंट बेनिफिट्स के अमाउंट से ज्यादा नहीं होनी चाहिए। 1 लाख रुपए से ज्यादा के निवेश पर चेक से भुगतान करना होगा। 
(फाइल फोटो)
 

मेच्योरिटी 
इस स्कीम का मेच्योरिटी पीरियड 5 साल का है। लेकिन मेच्योरिटी के बाद भी इसे 3 साल के लिए बढ़ाया जा सकता है। मेच्योरिटी पीरियड से पहले  अकाउंट बंद करने पर कुछ चार्ज देना पड़ता है। निवेश के एक साल बाद खाता बंद करने पर निवेश की राशि का 1.5 फीसदी शुल्क के रूप में देना होता है।
(फाइल फोटो)
 

मेच्योरिटी 
इस स्कीम का मेच्योरिटी पीरियड 5 साल का है। लेकिन मेच्योरिटी के बाद भी इसे 3 साल के लिए बढ़ाया जा सकता है। मेच्योरिटी पीरियड से पहले  अकाउंट बंद करने पर कुछ चार्ज देना पड़ता है। निवेश के एक साल बाद खाता बंद करने पर निवेश की राशि का 1.5 फीसदी शुल्क के रूप में देना होता है।
(फाइल फोटो)
 

Follow Us:
Download App:
  • android
  • ios