Asianet News Hindi

अब स्लीपर और जनरल कोच में भी लगेगा AC, यात्रियों के लिए नहीं बढ़ाया जाएगा किराया

First Published Sep 10, 2020, 1:28 PM IST
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp

बिजनेस डेस्क : इंडियन रेलवे यात्रियों के लिए बड़ी खुशखबरी लेकर आया है। कोरोना काल के बाद रेलवे यात्रियों के सफर को सेफ और सरल बनाना चाहता है, इसलिए स्लीपर और जनरल क्लास के कोचों को एसी डिब्बों में बदलने का काम शुरू हो चुका है। अब ट्रेनों में स्लीपर क्लास और जनरल क्लास कोच को एसी कोच में बदलकर पूरी ट्रेन एयर कंडीशन कर दी जाएगी। हालांकि लोगों को फिर भी कम कीमत पर सफर करने की सुविधा मिलेगी। रेलवे के अधिकारियों के अनुसार ट्रेनों को अपग्रेड किया जा रहा हैं। जिसका काम भी शुरू हो चुका है।

कोरोना काल के दौरान ट्रेनों का संचालन पूरी तरह से बंद था पर अब ट्रेनें चलने लगी हैं। ऐसे में यात्रियों की सुविधाओं और उनके सफर को सेफ बनाने के लिए रेलवे ने बड़ा फैसला किया है।

कोरोना काल के दौरान ट्रेनों का संचालन पूरी तरह से बंद था पर अब ट्रेनें चलने लगी हैं। ऐसे में यात्रियों की सुविधाओं और उनके सफर को सेफ बनाने के लिए रेलवे ने बड़ा फैसला किया है।

इंडियन रेलवे ने 3 टियर नॉन एसी स्लीपर क्लास और अना​रक्षित जनरल क्लास कोच को एसी कोच में तब्दील करने का फैसला किया है। जिससे पूरी ट्रेन एसी हो जाएगी। 

इंडियन रेलवे ने 3 टियर नॉन एसी स्लीपर क्लास और अना​रक्षित जनरल क्लास कोच को एसी कोच में तब्दील करने का फैसला किया है। जिससे पूरी ट्रेन एसी हो जाएगी। 

आप सोच रहे होंगे कि यदि पूरी ट्रेन एसी हो जाएगी तो इसका किराया भी बढ़ जाएगा। तो ऐसा नहीं है, रेलवे ने फैसला किया है कि लोगों को कम कीमत पर ही यात्रा की सुविधा मिलेगी।

आप सोच रहे होंगे कि यदि पूरी ट्रेन एसी हो जाएगी तो इसका किराया भी बढ़ जाएगा। तो ऐसा नहीं है, रेलवे ने फैसला किया है कि लोगों को कम कीमत पर ही यात्रा की सुविधा मिलेगी।

बता दें कि अपग्रेडेड कोच में 72 बर्थ के बजाय 83 बर्थ होंगी। इसके लिए कपूरथला की रेल कोच फैक्ट्री को अपग्रेडेड स्लीपर क्लास कोच के प्रोटोटाइप को तैयार करने का काम सौंपा गया है।

बता दें कि अपग्रेडेड कोच में 72 बर्थ के बजाय 83 बर्थ होंगी। इसके लिए कपूरथला की रेल कोच फैक्ट्री को अपग्रेडेड स्लीपर क्लास कोच के प्रोटोटाइप को तैयार करने का काम सौंपा गया है।

रेलवे के अनुसार पहले फेस में 230 ऐसी कोच बनाए जाएंगे। हर कोच की लागत लगभग ढाई से तीन करोड़ रुपये आएगी। बाद में इससे रेलवे को अच्छी कमाई की उम्मीद है।

रेलवे के अनुसार पहले फेस में 230 ऐसी कोच बनाए जाएंगे। हर कोच की लागत लगभग ढाई से तीन करोड़ रुपये आएगी। बाद में इससे रेलवे को अच्छी कमाई की उम्मीद है।

स्लीपर के साथ - साथ जनरल क्लास के 100 सीटर कोच को एसी डिब्बों में बदला जाएगा। अभी इनकी डिजाइन को फाइनल रूप दिया जा रहा है।

स्लीपर के साथ - साथ जनरल क्लास के 100 सीटर कोच को एसी डिब्बों में बदला जाएगा। अभी इनकी डिजाइन को फाइनल रूप दिया जा रहा है।

बता दें कि इससे पहले भी जब लालू प्रसाद यादव रेल मंत्री थे तब एसी कोच बनाने की तैयारी की गई थी। उस वक्त गरीब रथ एक्सप्रेस ट्रेन लॉन्च हुई थी। बाद में इस ट्रेन में यात्रियों को परेशानी हुई थी जिसके चलते ऐसी ट्रेनों को बंद कर दिया गया था।

बता दें कि इससे पहले भी जब लालू प्रसाद यादव रेल मंत्री थे तब एसी कोच बनाने की तैयारी की गई थी। उस वक्त गरीब रथ एक्सप्रेस ट्रेन लॉन्च हुई थी। बाद में इस ट्रेन में यात्रियों को परेशानी हुई थी जिसके चलते ऐसी ट्रेनों को बंद कर दिया गया था।

Follow Us:
Download App:
  • android
  • ios