Asianet News Hindi

अब मोबाइल वॉलेट के जरिए ATM से निकाले जा सकेंगे पैसे, जानें किस तरह मिलेगी यह सुविधा

First Published Apr 10, 2021, 5:23 PM IST
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp

बिजनेस डेस्क। डिजिटल पेमेंट (Digital Payment) को बढ़ावा देने के लिए रिजर्व बैंक ऑफ इंडिया (RBI) ने मोबाइल वॉलेट (Mobile Wallet) से एटीएम के जरिए पैसे निकालने और मर्चेंट पेमेंट की अनुमति दे दी है। अब मोबाइल वॉलेट से पेमेंट के साथ ही फंड ट्रांसफर और रिसीव भी किया जा सकेगा। यहां यह सवाल उठता है कि वॉलेट कंपनियों के पास अपने एटीएम नहीं हैं, तो ऐसे में वे किस तरह कैश निकाल सकेंगे या किसी मर्चेंट को पेमेंट कर सकेंगे। बता दें कि इसके लिए कुछ तरीके निकाले गए हैं, ताकि यूजर्स को किसी तरह की परेशानी या असुविधा नहीं हो। जानें इसके बारे में।
(फाइल फोटो)
 

पेमेंट कंपनी पेवर्ल्ड मनी (Payworld Money) के डायरेक्टर और सीओओ के मुताबिक, मोबाइल वॉलेट कंपनियां अब अपने कस्टमर्स को प्रीपेड कार्ड जारी करेंगी। इस कार्ड के जरिए एटीएम से पैसा निकाला जा सकता है और मर्चेंट स्टोर पर कार्ड स्वाइप कर पेमेंट किया जा सकता है। पेवर्ल्ड मनी के पास भी मोबाइल वॉलेट है। (फाइल फोटो)

पेमेंट कंपनी पेवर्ल्ड मनी (Payworld Money) के डायरेक्टर और सीओओ के मुताबिक, मोबाइल वॉलेट कंपनियां अब अपने कस्टमर्स को प्रीपेड कार्ड जारी करेंगी। इस कार्ड के जरिए एटीएम से पैसा निकाला जा सकता है और मर्चेंट स्टोर पर कार्ड स्वाइप कर पेमेंट किया जा सकता है। पेवर्ल्ड मनी के पास भी मोबाइल वॉलेट है। (फाइल फोटो)

बता दें कि साल 2018 में रिजर्व बैंक ऑफ इंडिया (RBI) ने मोबाइल वॉलेट को लेकर गाइडलाइन्स जारी किए थे। तब मोबाइल वॉलेट को यूपीआई (UPI) के जरिए मनी ट्रांसफर करने व रुपे (RuPay) और वीजा नेटवर्क पर प्रीपेड कार्ड जारी करने की अनुमति दी गई थी। अब मॉनिटिरी पॉलिसी में प्रीपेड पेमेंट इंस्ट्रूमेंट (PPI) को इंटरऑपरेबल होना अनिवार्य कर दिया गया है। (फाइल फोटो)

बता दें कि साल 2018 में रिजर्व बैंक ऑफ इंडिया (RBI) ने मोबाइल वॉलेट को लेकर गाइडलाइन्स जारी किए थे। तब मोबाइल वॉलेट को यूपीआई (UPI) के जरिए मनी ट्रांसफर करने व रुपे (RuPay) और वीजा नेटवर्क पर प्रीपेड कार्ड जारी करने की अनुमति दी गई थी। अब मॉनिटिरी पॉलिसी में प्रीपेड पेमेंट इंस्ट्रूमेंट (PPI) को इंटरऑपरेबल होना अनिवार्य कर दिया गया है। (फाइल फोटो)

अब नए नियम के मुताबिक, इंटरऑपरेबिलिटी 3 फेज में होगी। सबसे पहले वॉलेट यूपीआई में शामिल होंगे। फिर वॉलेट से यूपीआई के जरिए बैंक अकाउंट में मनी ट्रांसफर की सुविधा मिलेगी। अंतिम फेज में पीपीआई को कार्ड जारी करने की अनुमति दी जाएगी। (फाइल फोटो)

अब नए नियम के मुताबिक, इंटरऑपरेबिलिटी 3 फेज में होगी। सबसे पहले वॉलेट यूपीआई में शामिल होंगे। फिर वॉलेट से यूपीआई के जरिए बैंक अकाउंट में मनी ट्रांसफर की सुविधा मिलेगी। अंतिम फेज में पीपीआई को कार्ड जारी करने की अनुमति दी जाएगी। (फाइल फोटो)

फिलहाल, वॉलेट का यूज करने वाले लोग आधार इनेबल्ड पेमेंट सिसटम (AEPS) का इस्तेमाल नहीं कर पाते हैं। इसकी वजह यह है कि ज्यादातर लोगों ने वॉलेट को आधार से लिंक नहीं करा रखा है। जब वे वॉलेट को आधार से लिंक करा लेंगे, तो उन्हें यह सुविधा भी मिलने लगेगी। (फाइल फोटो)

फिलहाल, वॉलेट का यूज करने वाले लोग आधार इनेबल्ड पेमेंट सिसटम (AEPS) का इस्तेमाल नहीं कर पाते हैं। इसकी वजह यह है कि ज्यादातर लोगों ने वॉलेट को आधार से लिंक नहीं करा रखा है। जब वे वॉलेट को आधार से लिंक करा लेंगे, तो उन्हें यह सुविधा भी मिलने लगेगी। (फाइल फोटो)

बता दें कि मोबाइल वॉलेट से यह सुविधा उन लोगों को ही मिलेगी, जिन्होंने केवाईसी (KYC) की सभी प्रक्रिया पूरी कर ली है और उसके मानदंडों पर खरे उतरते हैं। पीपीआई का बैंक अकाउंट की तरह इस्तेमाल करने के लिए केवाईसी जरूरी है। इसमें ऐड्रेस प्रूफ का वेरिफिकेशन सबसे अहम है। यह वेरिफिकेशन पूरा होने के बाद ही पैसे निकालने की सुविधा मिल सकेगी। (फाइल फोटो)

बता दें कि मोबाइल वॉलेट से यह सुविधा उन लोगों को ही मिलेगी, जिन्होंने केवाईसी (KYC) की सभी प्रक्रिया पूरी कर ली है और उसके मानदंडों पर खरे उतरते हैं। पीपीआई का बैंक अकाउंट की तरह इस्तेमाल करने के लिए केवाईसी जरूरी है। इसमें ऐड्रेस प्रूफ का वेरिफिकेशन सबसे अहम है। यह वेरिफिकेशन पूरा होने के बाद ही पैसे निकालने की सुविधा मिल सकेगी। (फाइल फोटो)

मोबाइल वॉलेट एक डिजिटल पर्स की तरह है, जिसमें पैसे डिजिटल मनी के रूप में जमा रहते हैं। जरूरत पड़ने पर आप इससे पैसे खर्च कर सकते हैं यानी लेन-देन और पेमेंट कर सकते हैं। इसमें अपनी जरूरत और सुविधा के मुताबिक पैसे रखे जा सकते हैं। इसे सुरक्षा के लिहाज से सबसे बेहतर माना गया है, क्योंकि इसे चुराया नहीं जा सकता। (फाइल फोटो)

मोबाइल वॉलेट एक डिजिटल पर्स की तरह है, जिसमें पैसे डिजिटल मनी के रूप में जमा रहते हैं। जरूरत पड़ने पर आप इससे पैसे खर्च कर सकते हैं यानी लेन-देन और पेमेंट कर सकते हैं। इसमें अपनी जरूरत और सुविधा के मुताबिक पैसे रखे जा सकते हैं। इसे सुरक्षा के लिहाज से सबसे बेहतर माना गया है, क्योंकि इसे चुराया नहीं जा सकता। (फाइल फोटो)

Follow Us:
Download App:
  • android
  • ios