Asianet News Hindi

Post Office की स्कीम्स में किया है निवेश, तो जानें किस सर्विस का कितना लगता है चार्ज

First Published Mar 11, 2021, 6:55 PM IST
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp

बिजनेस डेस्क। पोस्ट ऑफिस (Post Office) की सेविंग्स स्कीम्स में लोग काफी पहले से निवेश करते रहे हैं। पोस्ट ऑफिस में निवेश करना सुविधाजनक होता है। इसमें कम राशि से भी सेविंग अकाउंट खोला जा सकता है। इसके अलावा, पोस्ट ऑफिस की बचत योजनाओं में निवेश करने पर बैंकों की तुलना में ज्यादा मुनाफा मिलता है। साथ ही, पैसे के सुरक्षित होने की गारंटी भी मिलती है। इसकी वजह यह है कि पोस्ट ऑफिस में जमा धन पर सरकार की सॉवरेन गारंटी मिलती है। अगर कोई बैक डिफॉल्ट कर जाता है या दिवालिया हो जाता है, तो सिर्फ 5 लाख रुपए ही सु​रक्षित होते हैं और वापस मिल सकते हैं, भले ही चाहे ​जमा कितनी भी क्यों न हो। वहीं, पोस्ट ऑफिस में पूरी जमा राशि सुरक्षित होती है। पोस्ट ऑफिस में जमा योजनाओं में अलग-अलग कामों के लिए सर्विस चार्ज भी लगता है। 
(फाइल फोटो)
 

पोस्ट ऑफिस में निवेश के लिए कई स्मॉल सेविंग्स स्कीम्स हैं। इनमें पोस्ट ऑफिस सेविंग्स अकाउंट, नेशनल सेविंग्स रिकरिंग डिपॉजिट अकाउंट, नेशनल सेविंग्स टाइम डिपॉजिट अकाउंट, मंथली इनकम स्कीम, सीनियर सिटिजन सेविंग्स स्कीम, पब्लिक प्रोविडेंट फंड, नेशनल सेविंग्स सर्टिफिकेट, किसान विकास पत्र, सुकन्या समृद्धि योजना मुख्य तौर पर शामिल हैं। इन सभी स्कीम्स के फीचर्स अलग-अलग हैं। (फाइल फोटो)

पोस्ट ऑफिस में निवेश के लिए कई स्मॉल सेविंग्स स्कीम्स हैं। इनमें पोस्ट ऑफिस सेविंग्स अकाउंट, नेशनल सेविंग्स रिकरिंग डिपॉजिट अकाउंट, नेशनल सेविंग्स टाइम डिपॉजिट अकाउंट, मंथली इनकम स्कीम, सीनियर सिटिजन सेविंग्स स्कीम, पब्लिक प्रोविडेंट फंड, नेशनल सेविंग्स सर्टिफिकेट, किसान विकास पत्र, सुकन्या समृद्धि योजना मुख्य तौर पर शामिल हैं। इन सभी स्कीम्स के फीचर्स अलग-अलग हैं। (फाइल फोटो)

पोस्ट ऑफिस की ज्यादातर स्कीम्स में इनकम टैक्स एक्ट के सेक्शन 80C के तहत 1.5 लाख रुपए तक की लिमिट पर टैक्स में छूट मिलती है। पोस्ट ऑफिस सेविंग्स स्कीम में अकाउंट खुलवाने के बाद अलग-अलग कामों के लिए सर्विस चार्ज भी लिया जाता है। बता दें कि पोस्ट ऑफिस में बहुत कम अमाउंट से भी खाता खोला जा सकता है। (फाइल फोटो)

पोस्ट ऑफिस की ज्यादातर स्कीम्स में इनकम टैक्स एक्ट के सेक्शन 80C के तहत 1.5 लाख रुपए तक की लिमिट पर टैक्स में छूट मिलती है। पोस्ट ऑफिस सेविंग्स स्कीम में अकाउंट खुलवाने के बाद अलग-अलग कामों के लिए सर्विस चार्ज भी लिया जाता है। बता दें कि पोस्ट ऑफिस में बहुत कम अमाउंट से भी खाता खोला जा सकता है। (फाइल फोटो)

पोस्ट ऑफिस के किसी भी अकाउंट का पासबुक अगर खो जाता है, तो डुप्लीकेट पास बुक जारी कराने के लिए 50 रुपए की फीस देनी पड़ती है। वहीं, अकाउंट स्टेटमेंट और डिपॉजिट रसीद को जारी करने के लिए 20 रुपए लिए जाते हैं। सर्टिफिकेट के खो जाने या खराब हो जाने पर पासबुक जारी करने के लिए 10 रुपए प्रति पासबुक रजिस्ट्रेशन फीस भी ली जाती है। (फाइल फोटो)

पोस्ट ऑफिस के किसी भी अकाउंट का पासबुक अगर खो जाता है, तो डुप्लीकेट पास बुक जारी कराने के लिए 50 रुपए की फीस देनी पड़ती है। वहीं, अकाउंट स्टेटमेंट और डिपॉजिट रसीद को जारी करने के लिए 20 रुपए लिए जाते हैं। सर्टिफिकेट के खो जाने या खराब हो जाने पर पासबुक जारी करने के लिए 10 रुपए प्रति पासबुक रजिस्ट्रेशन फीस भी ली जाती है। (फाइल फोटो)

अगर आप किसी जमा योजना में किया गया नॉमिनेशन कैंसिल कराना या बदलना चाहते हैं, तो इसके लिए 50 रुपए फीस के तौर पर देने पड़ते हैं। वहीं, अकाउंट को किसी दूसरे पोस्ट ऑफस में ट्रांसफर कराने के लिए 100 रुपए चार्ज लगता है। (फाइल फोटो)

अगर आप किसी जमा योजना में किया गया नॉमिनेशन कैंसिल कराना या बदलना चाहते हैं, तो इसके लिए 50 रुपए फीस के तौर पर देने पड़ते हैं। वहीं, अकाउंट को किसी दूसरे पोस्ट ऑफस में ट्रांसफर कराने के लिए 100 रुपए चार्ज लगता है। (फाइल फोटो)

पोस्ट ऑफिस ने बैंकिंग सुविधा की भी शुरुआत की है। इंडिया पोस्ट पेमेंट्स बैंक के सेविंग्स अकाउंट में चेक बुक जारी करने के लिए एक कैलेंडर ईयर में 10 चेक तक कोई फीस नहीं ली जाती है। लेकिन इसके बाद 2 रुपए प्रति चेक शुल्क देना होता है। (फाइल फोटो)

पोस्ट ऑफिस ने बैंकिंग सुविधा की भी शुरुआत की है। इंडिया पोस्ट पेमेंट्स बैंक के सेविंग्स अकाउंट में चेक बुक जारी करने के लिए एक कैलेंडर ईयर में 10 चेक तक कोई फीस नहीं ली जाती है। लेकिन इसके बाद 2 रुपए प्रति चेक शुल्क देना होता है। (फाइल फोटो)

पोस्ट ऑफिस के चेक के बाउंस होने पर जुर्माना देना पड़ता है। यह जुर्माना 100 रुपए का होता है। इसके अलावा, पोस्ट ऑफिस के हर सर्विस चार्ज पर टैक्स का भुगतान भी करना होता है। (फाइल फोटो)

पोस्ट ऑफिस के चेक के बाउंस होने पर जुर्माना देना पड़ता है। यह जुर्माना 100 रुपए का होता है। इसके अलावा, पोस्ट ऑफिस के हर सर्विस चार्ज पर टैक्स का भुगतान भी करना होता है। (फाइल फोटो)

Follow Us:
Download App:
  • android
  • ios