Asianet News Hindi

नए साल में आज से खरीदे सस्ता गोल्ड, निवेश सुरक्षित होने के साथ ही इसमें बढ़ता जा रहा है फायदा

First Published Jan 11, 2021, 11:30 AM IST
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp

बिजनेस डेस्क। नए साल 2021 के लिए सॉवरेन गोल्ड बॉन्ड की (Sovereign Gold Bond) पहली और वित्त वर्ष 2021 की 10वीं सीरीज आज 11 जनवरी से सब्सक्रिप्सन के लिए खुल रही है। यह सीरीज 15 जनवरी, 2021 तक निवेश के लिए खुली रहेगी। गोल्ड बॉन्ड के लिए इस बार सरकार ने इश्यू प्राइस 5104 रुपए प्रति ग्राम यानी 51040 रुपए प्रति 10 ग्राम तय किया है। वहीं, ऑनलाइन गोल्ड बॉन्ड खरीदने पर हर ग्राम पर 50 रुपए की छूट मिलेगी। जानें इसके बारे में विस्तार से।
(फाइल फोटो)
 

इस सॉवरेन गोल्ड बॉन्ड में ऑनलाइन इन्वेस्टर्स के लिए इश्यू प्राइस 5009 रुपए प्रति ग्राम यानी 50090 रुपए प्रति 10 ग्राम होगा। बता दें कि सरकार सॉवरेन गोल्ड बॉन्ड की यह सीरीज तब लेकर आई है, जब सोना इस साल अपने रिकॉर्ड हाई से करीब 7000 रुपए डिस्काउंट पर बिक रहा है। एक्सपर्ट्स का मानना है कि नए साल में सस्ता सोना खरीदने का यह एक अच्छा मौका है। (फाइल फोटो)

इस सॉवरेन गोल्ड बॉन्ड में ऑनलाइन इन्वेस्टर्स के लिए इश्यू प्राइस 5009 रुपए प्रति ग्राम यानी 50090 रुपए प्रति 10 ग्राम होगा। बता दें कि सरकार सॉवरेन गोल्ड बॉन्ड की यह सीरीज तब लेकर आई है, जब सोना इस साल अपने रिकॉर्ड हाई से करीब 7000 रुपए डिस्काउंट पर बिक रहा है। एक्सपर्ट्स का मानना है कि नए साल में सस्ता सोना खरीदने का यह एक अच्छा मौका है। (फाइल फोटो)

इन्वेस्टमेंट एक्सपर्ट्स का मानना है कि गोल्ड बॉन्ड में पैसा लगाना दूसरे ऑप्शन्स से बेहतर है। इसकी सबसे बड़ी खासियत यह है कि इसमें सोने की कीमत में बढ़ोत्तरी के अलावा भी 2.5 फीसदी की दर से एक्स्ट्रा ब्याज मिलता है। ऐसा फिजिकल गोल्ड में निवेश करने पर नहीं हो सकता। (फाइल फोटो)

इन्वेस्टमेंट एक्सपर्ट्स का मानना है कि गोल्ड बॉन्ड में पैसा लगाना दूसरे ऑप्शन्स से बेहतर है। इसकी सबसे बड़ी खासियत यह है कि इसमें सोने की कीमत में बढ़ोत्तरी के अलावा भी 2.5 फीसदी की दर से एक्स्ट्रा ब्याज मिलता है। ऐसा फिजिकल गोल्ड में निवेश करने पर नहीं हो सकता। (फाइल फोटो)

पिछले 2 साल में गोल्ड में निवेश पर 25 फीसदी और 28 फीसदी तक रिटर्न मिला है। मौजूदा दौर में एसेट अलोकेशन को देखते हुए एक्सपर्ट्स का मानना है कि निवेशकों के पोर्टफोलियो में 8 से 10 फीसदी गोल्ड होना चाहिए। फिलहाल, गोल्ड में तेजी आने के आसार हैं। (फाइल फोटो)

पिछले 2 साल में गोल्ड में निवेश पर 25 फीसदी और 28 फीसदी तक रिटर्न मिला है। मौजूदा दौर में एसेट अलोकेशन को देखते हुए एक्सपर्ट्स का मानना है कि निवेशकों के पोर्टफोलियो में 8 से 10 फीसदी गोल्ड होना चाहिए। फिलहाल, गोल्ड में तेजी आने के आसार हैं। (फाइल फोटो)

फाइनेंशियल एक्सपर्ट्स का मानना है कि गोल्ड बॉन्ड में पैसा लगाने का यह बेहतर समय है। गोल्ड अपने रिकॉर्ड हाई से करीब 7000 रुपए डिस्काउंट पर ट्रेड कर रहा है। मल्टी कमोडिटी एक्सचेंज (MCEx) पर सोना अगस्त में 56000 रुपए प्रति 10 ग्राम के स्तर को पार कर गया था। फिलहाल यह 48818 रुपए के करीब ट्रेड कर रहा है। (फाइल फोटो)

फाइनेंशियल एक्सपर्ट्स का मानना है कि गोल्ड बॉन्ड में पैसा लगाने का यह बेहतर समय है। गोल्ड अपने रिकॉर्ड हाई से करीब 7000 रुपए डिस्काउंट पर ट्रेड कर रहा है। मल्टी कमोडिटी एक्सचेंज (MCEx) पर सोना अगस्त में 56000 रुपए प्रति 10 ग्राम के स्तर को पार कर गया था। फिलहाल यह 48818 रुपए के करीब ट्रेड कर रहा है। (फाइल फोटो)

आर्थिक अनिश्चिचता की हालत में गोल्ड में निवेश सबसे सुरक्षित माना गया है। कोरोनावायरस महामारी की वजह से अभी दुनिया की तमाम बड़ी अर्थव्यवस्थाएं दबाव में हैं। ऐसे में, निवेशकों के लिए अपने पोर्टफोलियो में डिस्काउंट पर मिल रहे गोल्ड को शामिल करना बेहतर साबित हो सकता है। (फाइल फोटो)

आर्थिक अनिश्चिचता की हालत में गोल्ड में निवेश सबसे सुरक्षित माना गया है। कोरोनावायरस महामारी की वजह से अभी दुनिया की तमाम बड़ी अर्थव्यवस्थाएं दबाव में हैं। ऐसे में, निवेशकों के लिए अपने पोर्टफोलियो में डिस्काउंट पर मिल रहे गोल्ड को शामिल करना बेहतर साबित हो सकता है। (फाइल फोटो)

सॉवरेन गोल्ड बॉन्ड खरीदने लिए पैन कार्ड (PAN  Card) का होना जरूरी है। गोल्ड बॉन्ड को ऑनलाइन खरीदा जा सकता है। इसके अलावा इसकी बिक्री बैंकों, स्टॉक होल्डिंग कॉरपोरेशन ऑफ इंडिया लिमिटेड (SHCIL), चुनिंदा पोस्ट ऑफिस ब्रांच और एनएसई (NSE) और  बीएसई (BSE) जैसे स्टॉक एक्सचेंज के जरिए भी होगी। (फाइल फोटो)

सॉवरेन गोल्ड बॉन्ड खरीदने लिए पैन कार्ड (PAN Card) का होना जरूरी है। गोल्ड बॉन्ड को ऑनलाइन खरीदा जा सकता है। इसके अलावा इसकी बिक्री बैंकों, स्टॉक होल्डिंग कॉरपोरेशन ऑफ इंडिया लिमिटेड (SHCIL), चुनिंदा पोस्ट ऑफिस ब्रांच और एनएसई (NSE) और बीएसई (BSE) जैसे स्टॉक एक्सचेंज के जरिए भी होगी। (फाइल फोटो)

सॉवरेन गोल्ड बॉन्ड स्कीम में निवेश करने पर टैक्स में बचत की जा सकती है। सॉवरेन गोल्ड बॉन्ड स्कीम में एक वित्त वर्ष में एक व्यक्ति अधिकतम 400 ग्राम गोल्ड का बॉन्ड खरीद सकता है। वहीं, न्यूनतम निवेश 1 ग्राम का होना जरूरी है। गोल्ड बॉन्ड की मेच्योरिटी पर टैक्स नहीं लगता है। इसमें एक्सपेंस रेश्यो भी कुछ नहीं है। भारत सरकार द्वारा समर्थित योजना होने से इसमें डिफॉल्ट का रिस्क भी नहीं होता है। (फाइल फोटो)

सॉवरेन गोल्ड बॉन्ड स्कीम में निवेश करने पर टैक्स में बचत की जा सकती है। सॉवरेन गोल्ड बॉन्ड स्कीम में एक वित्त वर्ष में एक व्यक्ति अधिकतम 400 ग्राम गोल्ड का बॉन्ड खरीद सकता है। वहीं, न्यूनतम निवेश 1 ग्राम का होना जरूरी है। गोल्ड बॉन्ड की मेच्योरिटी पर टैक्स नहीं लगता है। इसमें एक्सपेंस रेश्यो भी कुछ नहीं है। भारत सरकार द्वारा समर्थित योजना होने से इसमें डिफॉल्ट का रिस्क भी नहीं होता है। (फाइल फोटो)

Follow Us:
Download App:
  • android
  • ios