SBI में 18 सितंबर से बदल रहा है ATM से कैश निकालने का नियम, जानें क्या करना होगा

First Published 16, Sep 2020, 11:03 AM

बिजनेस डेस्क। हाल के दिनों में एटीएम ट्रांजैक्शन में धोखाधड़ी के मामले काफी बढ़े हैं। खासकर, लॉकडाउन के दौर में एटीएम फ्रॉड के मामलों मे तेजी आई। इसे देखते हुए देश के सबसे बड़े बैंक भारतीय स्‍टेट बैंक (State Bank of India) ने ATM में होने वाले अनऑथराइज्ड ट्रांजैक्शन्स में कमी लाने के मकसद से वन टाइम पासवर्ड (OTP) बेस्ड ATM विदड्रॉल सुविधा को 24×7 लागू करने का फैसला किया है। यह सुविधा देश भर के सभी एसबीआई एटीएम पर 18 सितंबर से लागू होगी।
(फाइल फोटो)
 

<p><strong>पहले रात 8 बजे से सुबह 8 तक थी व्यवस्था</strong><br />
इससे पहले स्टेट बैंक ऑफ इंडिया (SBI)ने 10 हजार रुपए से ज्यादा के लिए ओटीपी आधारित कैश विद्ड्रॉल सुविधा रात 8 बजे से सुबह 8 बजे तक शुरू किया था। यह 1 जनवरी से किया गया था। अब इसी सुविधा का विस्तार किया गया है।&nbsp;<br />
(फाइल फोटो)</p>

पहले रात 8 बजे से सुबह 8 तक थी व्यवस्था
इससे पहले स्टेट बैंक ऑफ इंडिया (SBI)ने 10 हजार रुपए से ज्यादा के लिए ओटीपी आधारित कैश विद्ड्रॉल सुविधा रात 8 बजे से सुबह 8 बजे तक शुरू किया था। यह 1 जनवरी से किया गया था। अब इसी सुविधा का विस्तार किया गया है। 
(फाइल फोटो)

<p><strong>अब ओटीपी से ही निकलेगा पैसा</strong><br />
अब किसी भी समय एसबीआई के एटीएम से 10 हजार या इससे ज्यादा रुपए निकालने पर ओटीपी की जरूरत पड़ेगी। इससे ट्रांजैक्शन सेफ रहेगा।<br />
(फाइल फोटो)</p>

अब ओटीपी से ही निकलेगा पैसा
अब किसी भी समय एसबीआई के एटीएम से 10 हजार या इससे ज्यादा रुपए निकालने पर ओटीपी की जरूरत पड़ेगी। इससे ट्रांजैक्शन सेफ रहेगा।
(फाइल फोटो)

<p><strong>क्या होगी प्रॉसेस</strong><br />
18 सितंबर से एसबीआई के सभी एटीएम पर यह व्यवस्था लागू हो जाएगी। इस दिन से अगर आप एसबीआई एटीएम से 10 हजार रुपए या इससे ज्यादा अमाउंट निकालने के लिए जाते हैं, तो एटीएम में डेबिड कार्ड डालने पर रजिस्टर्ड मोबाइल नंबर पर बैंक की तरफ से एक ओटीपी आएगा। इस ओटीपी को डेबिट कार्ड के पिन नंबर के साथ डालने पर ही एटीएम से पैसे निकलेंगे।<br />
(फाइल फोटो)<br />
&nbsp;</p>

क्या होगी प्रॉसेस
18 सितंबर से एसबीआई के सभी एटीएम पर यह व्यवस्था लागू हो जाएगी। इस दिन से अगर आप एसबीआई एटीएम से 10 हजार रुपए या इससे ज्यादा अमाउंट निकालने के लिए जाते हैं, तो एटीएम में डेबिड कार्ड डालने पर रजिस्टर्ड मोबाइल नंबर पर बैंक की तरफ से एक ओटीपी आएगा। इस ओटीपी को डेबिट कार्ड के पिन नंबर के साथ डालने पर ही एटीएम से पैसे निकलेंगे।
(फाइल फोटो)
 

<p><strong>एटीएम फ्रॉड पर लगेगी लगाम</strong><br />
एसबीआई का कहना है कि इस व्यवस्था को लागू करने के बाद एटीएम फ्रॉड पर लगाम लग जाएगी। ओटीपी आधारिच कैश विद्ड्रॉल व्यवस्था को 24 घंटे लागू करने से एसबीआई का डेबिट कार्ड रखने वाले धोखाधड़ी, अनधिकृत और फर्जी निकासी, कार्ड स्कीमिंग और कार्ड क्लोनिंग जैसे जोखिम से बच सकेंगे।&nbsp;<br />
(फाइल फोटो)</p>

एटीएम फ्रॉड पर लगेगी लगाम
एसबीआई का कहना है कि इस व्यवस्था को लागू करने के बाद एटीएम फ्रॉड पर लगाम लग जाएगी। ओटीपी आधारिच कैश विद्ड्रॉल व्यवस्था को 24 घंटे लागू करने से एसबीआई का डेबिट कार्ड रखने वाले धोखाधड़ी, अनधिकृत और फर्जी निकासी, कार्ड स्कीमिंग और कार्ड क्लोनिंग जैसे जोखिम से बच सकेंगे। 
(फाइल फोटो)

<p><strong>देशभर में 22 हजार से ज्यादा हैं ब्रांच</strong><br />
देश के सबसे बड़े सरकारी बैंक एसबीआई की देशभर में 22 हजार से ज्यादा ब्रांच हैं। एसबीाई के ब्रांच 30 से ज्यादा देशों में भी हैं।&nbsp;</p>

देशभर में 22 हजार से ज्यादा हैं ब्रांच
देश के सबसे बड़े सरकारी बैंक एसबीआई की देशभर में 22 हजार से ज्यादा ब्रांच हैं। एसबीाई के ब्रांच 30 से ज्यादा देशों में भी हैं। 

<p><strong>6.6 करोड़ ग्राहक इंटरनेट बैंकिंग का&nbsp;करते&nbsp;हैं इस्तेमाल&nbsp;</strong><br />
एसबीआई के 6.6 करोड़ ग्राहक इंटरनेट बैंकिंग का इस्तेमाल करते हैं, वहीं 1.5 करोड़ ग्राहक मोबाइल बैंकिंग का इस्तेमाल करते हैं। 30 सितंबर 2019 तक एसबीआई का डिपॉजिट बेस 30 लाख करोड़ रुपए से ज्यादा का था।<br />
(फाइल फोटो)</p>

6.6 करोड़ ग्राहक इंटरनेट बैंकिंग का करते हैं इस्तेमाल 
एसबीआई के 6.6 करोड़ ग्राहक इंटरनेट बैंकिंग का इस्तेमाल करते हैं, वहीं 1.5 करोड़ ग्राहक मोबाइल बैंकिंग का इस्तेमाल करते हैं। 30 सितंबर 2019 तक एसबीआई का डिपॉजिट बेस 30 लाख करोड़ रुपए से ज्यादा का था।
(फाइल फोटो)

loader