Asianet News Hindi

पत्नी के हाथों में छाले देखकर भावुक हुआ शंकर लुहार, देसी जुगाड़ से बना दी यह हैमर मशीन

First Published Oct 3, 2020, 12:18 PM IST
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp

कोरिया, छत्तीसगढ़. कहते हैं कि जहां चाह-वहां राह! जरूरी नहीं कि कोई उपयोगी चीज के निर्माण के लिए इंजीनियर बना जाए। अगर आपमें हुनर है और कुछ कर दिखाने का जुनून..तो आप कुछ भी बना सकते हैं। यह लुहार दम्पती इसी का उदाहरण है। कबाड़ की जुगाड़ (Desi Jugaad Science) से बनाई इनकी ऑटोमेटिक हैमर मशीन (Automatic hammer machine) सोशल मीडिया पर चर्चा का विषय बनी हुई है। पहले यह दम्पती परंपरागत तरीके से लोहा गर्म करके उसे पीटने और कुदाल, हंसिया आदि बनाने का काम करते थे। यह बेहद मेहनत का काम था। इसमें महिला गर्म लोहे पर भारी हथोड़ा मारकर उसे आकार देती थी। इससे उसके हाथों में छाले पड़ जाते थे। यह देखकर पति को बड़ा दुख हुआ। बस, फिर क्या था...दोनों ने मिलकर यह मशीन बना दी। पढ़िए आगे की कहानी..
 

यह हैं शंकर लुहार और उनकी पत्नी रीता। ये कोरिया जिले के पटना में रहते हैं। यह कपल परंपरागत तरीके से लोहे की उपयोगी चीजें बनाता है। पहले ये लोहे को गर्म करने से लेकर पीटकर उसे आकार देने का काम परंपरागत तरीके से करते थे। लेकिन अब इन्होंने 7 फीट ऊंची एक ऑटोमेटिक हैमर मशीन बना ली है। इससे कपल का काम सरल और सुविधाजनक हो गया है।
 

यह हैं शंकर लुहार और उनकी पत्नी रीता। ये कोरिया जिले के पटना में रहते हैं। यह कपल परंपरागत तरीके से लोहे की उपयोगी चीजें बनाता है। पहले ये लोहे को गर्म करने से लेकर पीटकर उसे आकार देने का काम परंपरागत तरीके से करते थे। लेकिन अब इन्होंने 7 फीट ऊंची एक ऑटोमेटिक हैमर मशीन बना ली है। इससे कपल का काम सरल और सुविधाजनक हो गया है।
 

शंकर बताते हैं कि गर्म लोहे पर भारी हथोड़ा मारने से उनकी पत्नी के हाथों में छाले पड़ जाते थे। यह देखकर उन्हें बड़ी तकलीफ हुई। इसके बाद उन्हें यह मशीन बनाने की ठानी।
 

शंकर बताते हैं कि गर्म लोहे पर भारी हथोड़ा मारने से उनकी पत्नी के हाथों में छाले पड़ जाते थे। यह देखकर उन्हें बड़ी तकलीफ हुई। इसके बाद उन्हें यह मशीन बनाने की ठानी।
 

शंकर के दो बेटे हैं। एक 12वीं में पढ़ता है और दूसरा 10वीं। पहले परंपरागत तरीके से काम करने में पूरे परिवार को जुटना पड़ता था। कमाई भी बमुश्किल 200-300 रुपए प्रति दिन हो पाती थी। लेकिन इस मशीन ने जिंदगी थोड़ी आसान बना दी है।
 

शंकर के दो बेटे हैं। एक 12वीं में पढ़ता है और दूसरा 10वीं। पहले परंपरागत तरीके से काम करने में पूरे परिवार को जुटना पड़ता था। कमाई भी बमुश्किल 200-300 रुपए प्रति दिन हो पाती थी। लेकिन इस मशीन ने जिंदगी थोड़ी आसान बना दी है।
 

दम्पती कृषि संबंधी उपकरण जैसे फावड़ा, कोड़ी, कुदाल, हंसिया, नागर लोहा अपनी छोटी सी कार्यशाला में बनाते हैं। हैमर मशीन के निर्माण से काम में गति आई है।
 

दम्पती कृषि संबंधी उपकरण जैसे फावड़ा, कोड़ी, कुदाल, हंसिया, नागर लोहा अपनी छोटी सी कार्यशाला में बनाते हैं। हैमर मशीन के निर्माण से काम में गति आई है।
 

इस हैमर मशीन के निर्माण में शंकर ने कबाड़ से गाड़ी का पट्टा, घिसा और फटा टायर आदि का इस्तेमाल किया। यह 2 एचपी मोटर से चलती है।

इस हैमर मशीन के निर्माण में शंकर ने कबाड़ से गाड़ी का पट्टा, घिसा और फटा टायर आदि का इस्तेमाल किया। यह 2 एचपी मोटर से चलती है।

Follow Us:
Download App:
  • android
  • ios