Asianet News Hindi

सुशांत सिंह राजपूत की मौत के बाद उदास-हताश हैं धोनी, मैनेजर ने बताया कैसा है माही का हाल

First Published Jun 15, 2020, 11:57 AM IST
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp

स्पोर्ट्स डेस्क। सुशांत सिंह राजपूत के असमय निधन की घटना ने हर किसी को हैरान और उदास कर दिया है। सुशांत को पर्दे का धोनी भी कहा जाता है। दरअसल, भारत के दिग्गज विकेटकीपर बल्लेबाज महेंद्र सिंह धोनी की बायोपिक फिल्म "एमएस धोनी: द अनटोल्ड स्टोरी" में सुशांत ने माही का किरदार जीवंत कर दिया था। उन्हें पर्दे का धोनी भी कहा जाता था। फिल्म की वजह से दोनों के बीच एक गहरा रिश्ता भी बन गया था। मगर, एक्टर की असमय मृत्यु से धोनी बहुत उदास हैं। 

बायोपिक फिल्म की वजह से सुशांत ने धोनी संग उनके परिवार और करीबी दोस्तों के साथ काफी वक्त गुजारा था। दोनों के बॉन्डिंग की कई तस्वीरें इंटरनेट पर इसकी गवाही भी देती हैं। जाहिर सी बात है कि रविवार को सुशांत के बारे में खबर सुनकर धोनी का परिवार भी मायूस होगा। धोनी के मैनेजर ने अब इसका खुलासा किया। धोनी के मैनेजर आनंद पांडे ने सुशांत की मौत को लेकर एक टीवी चैनल से कहा कि हम अब भी नहीं समझ पा रहे कि क्या हुआ। मैं अपना दुख व्यक्त करने की स्थिति में नहीं हूं। माही भी बहुत उदास हैं। इससे पहले ट्विटर पर साक्षी धोनी के फैन पेज से सुशांत की फोटो साझा करते हुए लिखा, अब भी भरोसा नहीं हो रहा है कि सुशांत सिंह राजपूत इतनी जल्दी चले जाएंगे। 

बायोपिक फिल्म की वजह से सुशांत ने धोनी संग उनके परिवार और करीबी दोस्तों के साथ काफी वक्त गुजारा था। दोनों के बॉन्डिंग की कई तस्वीरें इंटरनेट पर इसकी गवाही भी देती हैं। जाहिर सी बात है कि रविवार को सुशांत के बारे में खबर सुनकर धोनी का परिवार भी मायूस होगा। धोनी के मैनेजर ने अब इसका खुलासा किया। धोनी के मैनेजर आनंद पांडे ने सुशांत की मौत को लेकर एक टीवी चैनल से कहा कि हम अब भी नहीं समझ पा रहे कि क्या हुआ। मैं अपना दुख व्यक्त करने की स्थिति में नहीं हूं। माही भी बहुत उदास हैं। इससे पहले ट्विटर पर साक्षी धोनी के फैन पेज से सुशांत की फोटो साझा करते हुए लिखा, अब भी भरोसा नहीं हो रहा है कि सुशांत सिंह राजपूत इतनी जल्दी चले जाएंगे। 

धोनी बायोपिक निर्माताओं के हवाले से यह खबर भी सामने आ रही है कि सुशांत की मौत के बाद अब धोनी पर दूसरी फिल्म नहीं बन सकती। क्योंकि बिना सुशांत के इसकी कल्पना भी नहीं की जा सकती। 

धोनी फैमिली से हुआ करीबी जुड़ाव
धोनी पर बायोपिक बनाने का आइडिया 2011 के वर्ल्ड कप के बाद आया था। इस पर काम 2013 में शुरू हुआ। जब धोनी की भूमिका निभाने के लिए सुशांत सिंह राजपूत का चुनाव किया गया तो वे धोनी और उनकी फैमिली के काफी करीब आ गए। 

धोनी बायोपिक निर्माताओं के हवाले से यह खबर भी सामने आ रही है कि सुशांत की मौत के बाद अब धोनी पर दूसरी फिल्म नहीं बन सकती। क्योंकि बिना सुशांत के इसकी कल्पना भी नहीं की जा सकती। 

धोनी फैमिली से हुआ करीबी जुड़ाव
धोनी पर बायोपिक बनाने का आइडिया 2011 के वर्ल्ड कप के बाद आया था। इस पर काम 2013 में शुरू हुआ। जब धोनी की भूमिका निभाने के लिए सुशांत सिंह राजपूत का चुनाव किया गया तो वे धोनी और उनकी फैमिली के काफी करीब आ गए। 

धोनी और सुशांत बन गए गहरे दोस्त
बायोपिक बनने के दौरान सुशांत और धोनी का अक्सर मिलना-जुलना होता था। एक साथ उनका काफी वक्त बीतता था। जाहिर है, इससे सुशांत और धोनी के बीच गहरी दोस्ती हो गई। खुद पर बन रही फिल्म के धोनी मुख्य कन्सल्टेंट थे।

धोनी और सुशांत बन गए गहरे दोस्त
बायोपिक बनने के दौरान सुशांत और धोनी का अक्सर मिलना-जुलना होता था। एक साथ उनका काफी वक्त बीतता था। जाहिर है, इससे सुशांत और धोनी के बीच गहरी दोस्ती हो गई। खुद पर बन रही फिल्म के धोनी मुख्य कन्सल्टेंट थे।

सब रखते थे सुशांत का ख्याल
बायोपिक बनने के दौरान सिर्फ धोनी से ही नहीं, बल्कि उनकी फैमिली के सभी लोगों से सुशांत सिंह राजपूत की नजदीकी बढ़ी। वे सबसे घुल-मिल गए। धोनी की वाइफ साक्षी भी सुशांत सिंह को काफी पंसद करती थीं और जब वे उनके घर आते थे, तो उनका काफी ख्याल रखती थीं।

सब रखते थे सुशांत का ख्याल
बायोपिक बनने के दौरान सिर्फ धोनी से ही नहीं, बल्कि उनकी फैमिली के सभी लोगों से सुशांत सिंह राजपूत की नजदीकी बढ़ी। वे सबसे घुल-मिल गए। धोनी की वाइफ साक्षी भी सुशांत सिंह को काफी पंसद करती थीं और जब वे उनके घर आते थे, तो उनका काफी ख्याल रखती थीं।

बन गया था घरेलू रिश्ता
इस बायोपिक बनने के दौरान धोनी और सुशांत सिंह इतने करीब आ गए कि उनके बीच घरेलू रिश्ता बन गया था। दोनों के बीच बहुत अच्छी बॉन्डिंग थी।

बन गया था घरेलू रिश्ता
इस बायोपिक बनने के दौरान धोनी और सुशांत सिंह इतने करीब आ गए कि उनके बीच घरेलू रिश्ता बन गया था। दोनों के बीच बहुत अच्छी बॉन्डिंग थी।

सुशांत भी बनना चाहते थे क्रिकेटर
महेंद्र सिंह धोनी और सुशांत सिंह राजपूत, दोनों ही साधारण परिवारों से आए थे और अपने करियर में सफलता हासिल की थी। यह भी एक वजह थी कि दोनों के बीच नजदीकी बढ़ती गई। सुशांत सिंह ने एक बार कहा था कि पहले वे भी क्रिकेटर बनना चाहते थे।

सुशांत भी बनना चाहते थे क्रिकेटर
महेंद्र सिंह धोनी और सुशांत सिंह राजपूत, दोनों ही साधारण परिवारों से आए थे और अपने करियर में सफलता हासिल की थी। यह भी एक वजह थी कि दोनों के बीच नजदीकी बढ़ती गई। सुशांत सिंह ने एक बार कहा था कि पहले वे भी क्रिकेटर बनना चाहते थे।

फिल्म में उनके रोल से धोनी थे प्रभावित
खुद पर बनी बायोपिक में सुशांत सिंह ने जैसी भूमिका निभाई थी, इससे महेंद्र सिंह धोनी बेहद प्रभावित थे। सुशांत ने उनकी भूमिका में जान डाल दी थी। हर किसी एक्टर के वश की यह बात नहीं थी कि वह माही को फिल्मी पर्दे पर जीवंत कर दे।
 

फिल्म में उनके रोल से धोनी थे प्रभावित
खुद पर बनी बायोपिक में सुशांत सिंह ने जैसी भूमिका निभाई थी, इससे महेंद्र सिंह धोनी बेहद प्रभावित थे। सुशांत ने उनकी भूमिका में जान डाल दी थी। हर किसी एक्टर के वश की यह बात नहीं थी कि वह माही को फिल्मी पर्दे पर जीवंत कर दे।
 

सुशांत सिंह ने की थी कड़ी मेहनत
महेंद्र सिंह धोनी जैसे क्रिकेटर का रोल निभाना आसान काम नहीं था। इस बायोपिक में धोनी के जन्म से लेकर उनके करियर के हर पड़ाव का संघर्ष दिखाया गया था। इसके लिए सुशांत सिंह को बहुत मेहनत करनी पड़ी थी। फिल्म में धोनी की भूमिका से न्याय करने के लिए उन्होंने क्रिकेट की कड़ी ट्रेनिंग ली थी।

सुशांत सिंह ने की थी कड़ी मेहनत
महेंद्र सिंह धोनी जैसे क्रिकेटर का रोल निभाना आसान काम नहीं था। इस बायोपिक में धोनी के जन्म से लेकर उनके करियर के हर पड़ाव का संघर्ष दिखाया गया था। इसके लिए सुशांत सिंह को बहुत मेहनत करनी पड़ी थी। फिल्म में धोनी की भूमिका से न्याय करने के लिए उन्होंने क्रिकेट की कड़ी ट्रेनिंग ली थी।

सचिन तेंदुलकर ने भी की थी प्रशंसा
बायोपिक में धोनी का रोल करने के लिए सुशांत सिंह ने जितनी कड़ी ट्रेनिंग ली थी, उसे देख कर सचिन तेंदुलकर ने भी उनकी प्रशंसा की थी। उनकी ट्रेनिंग को देख कर कोई भी कह सकता था कि सुशांत क्रिकेट में भी बेहतर परफॉर्मेंस कर सकते हैं।
 

सचिन तेंदुलकर ने भी की थी प्रशंसा
बायोपिक में धोनी का रोल करने के लिए सुशांत सिंह ने जितनी कड़ी ट्रेनिंग ली थी, उसे देख कर सचिन तेंदुलकर ने भी उनकी प्रशंसा की थी। उनकी ट्रेनिंग को देख कर कोई भी कह सकता था कि सुशांत क्रिकेट में भी बेहतर परफॉर्मेंस कर सकते हैं।
 

सीखी क्रिकेट की बारीकियां
धोनी की बायोपिक में काम करने की वजह से सुशांत सिंह को क्रिकेट की बारीकियां सीखने का मौका मिला। उन्होंने महीनों तक किरण मोरे की देख-रेख में बल्लेबाजी और विकेटकीपिंग की ट्रेनिंग ली। 
 

सीखी क्रिकेट की बारीकियां
धोनी की बायोपिक में काम करने की वजह से सुशांत सिंह को क्रिकेट की बारीकियां सीखने का मौका मिला। उन्होंने महीनों तक किरण मोरे की देख-रेख में बल्लेबाजी और विकेटकीपिंग की ट्रेनिंग ली। 
 

Follow Us:
Download App:
  • android
  • ios