Asianet News Hindi

किस बात पर हार्दिक पंड्या बोले- विराट कोहली या रोहित शर्मा नहीं, अब मैं खुद लेता हूं अपने फैसले

First Published Jun 4, 2020, 1:58 PM IST
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp

स्पोर्ट्स डेस्क। भारत के स्टार हरफनमौला खिलाड़ी हार्दिक पंड्या ने अपने टेस्ट करियर को लेकर एक बड़ा बयान दिया है। उन्होंने कहा है कि विराट कोहली, रोहित शर्मा या रवि शास्त्री आपको क्रिकेट का ककहरा नहीं सिखाते। उन्होंने कहा कि इन लोगों ने मुझमें आत्मविश्वास पैदा किया और यही वजह है कि मैं अपने फैसले खुद लेने लगा। हार्दिक पंड्या 'क्रिकबज' से बातचीत कर रहे थे। पंड्या ने सितंबर 2018 से टेस्ट मैच नहीं खेला है। अब तक उन्होंने 11 टेस्ट खेले हैं। पिछले साल कमर के ऑपरेशन के बाद वे अब रिकवरी कर रहे हैं। उन्होंने 'क्रिकबज' से बातचीत के दौरान कहा कि कमर की सर्जरी के बाद फिलहाल टेस्ट क्रिकेट खेलना उनके लिए चुनौतीपूर्ण होगा। 
 

राहुल द्रविड़ ने किया सम्मान
हार्दिक पंड्या ने राहुल द्रविड़ के बारे में कहा कि उन्होंने मेरा सम्मान किया। उन्होंने मुझे किसी कसौटी पर कसने की कोशिश नहीं की। उन्होंने मुझे उसी रूप में स्वीकार किया, जैसा मैं हूं। पंड्या ने राहुल द्रविड़ की तारीफ करते हुए उनके प्रति काफी सम्मान जताया। 

राहुल द्रविड़ ने किया सम्मान
हार्दिक पंड्या ने राहुल द्रविड़ के बारे में कहा कि उन्होंने मेरा सम्मान किया। उन्होंने मुझे किसी कसौटी पर कसने की कोशिश नहीं की। उन्होंने मुझे उसी रूप में स्वीकार किया, जैसा मैं हूं। पंड्या ने राहुल द्रविड़ की तारीफ करते हुए उनके प्रति काफी सम्मान जताया। 

आक्रामक खिलाड़ी हैं पंड्या
पंड्या आक्रामक हरफनमौला खिलाड़ी हैं। सीमित ओवरों के मैच में वे अपनी जगह पक्की कर चुके हैं। उन्होंने कहा कि मैं खुद को बैकअप तेज गेंदबाज के रूप में देखता हूं। उन्होंने कहा कि अगर मैं सिर्फ टेस्ट क्रिकेटर होता तो खेल लेता, लेकिन मैं ऐसा नहीं कर सकता, क्योंकि सीमित ओवरों के मैच में मुझे अपनी उपयोगिता के बारे में मालूम है। 
 

आक्रामक खिलाड़ी हैं पंड्या
पंड्या आक्रामक हरफनमौला खिलाड़ी हैं। सीमित ओवरों के मैच में वे अपनी जगह पक्की कर चुके हैं। उन्होंने कहा कि मैं खुद को बैकअप तेज गेंदबाज के रूप में देखता हूं। उन्होंने कहा कि अगर मैं सिर्फ टेस्ट क्रिकेटर होता तो खेल लेता, लेकिन मैं ऐसा नहीं कर सकता, क्योंकि सीमित ओवरों के मैच में मुझे अपनी उपयोगिता के बारे में मालूम है। 
 

एशिया कप मैच में लगी थी चोट
पंड्या को 2018 में पाकिस्तान के खिलाफ एशिया मैच के दौरान चोट लगी थी। तब उन्हें मैदान से स्ट्रेचर से ले जाया गया था। उन्होंने कहा कि उस समय मुझे लगा था कि अब मेरा करियर खत्म हो गया, क्योंकि मैंने किसी को भी इस तरह मैदान से स्ट्रेचर पर ले जाते नहीं देखा था।

एशिया कप मैच में लगी थी चोट
पंड्या को 2018 में पाकिस्तान के खिलाफ एशिया मैच के दौरान चोट लगी थी। तब उन्हें मैदान से स्ट्रेचर से ले जाया गया था। उन्होंने कहा कि उस समय मुझे लगा था कि अब मेरा करियर खत्म हो गया, क्योंकि मैंने किसी को भी इस तरह मैदान से स्ट्रेचर पर ले जाते नहीं देखा था।

एशिया कप आखिरी टूर्नामेंट
पंड्या ने कहा कि एशिया कप वैसे भी आराम मिलने से पहले मेरा आखिरी टूर्नामेंट था। उसी में मुझे यह चोट लग गई। पहले मेरा दर्द कम नहीं हो पा रहा था, लेकिन जल्दी ही मेरा शरीर रिकवरी मोड में चला गया। उन्होंने कहा कि अब उन्हें किसी तरह की समस्या नहीं है और वे उस चोट से उबर चुके हैं।

एशिया कप आखिरी टूर्नामेंट
पंड्या ने कहा कि एशिया कप वैसे भी आराम मिलने से पहले मेरा आखिरी टूर्नामेंट था। उसी में मुझे यह चोट लग गई। पहले मेरा दर्द कम नहीं हो पा रहा था, लेकिन जल्दी ही मेरा शरीर रिकवरी मोड में चला गया। उन्होंने कहा कि अब उन्हें किसी तरह की समस्या नहीं है और वे उस चोट से उबर चुके हैं।

टीवी शो में घिरे विवादों में
पिछले साल पंड्या एक टीवी शो में महिला विरोधी बयान की वजह से विवादों में घिर गए थे। उन्होंने कहा कि इसके बाद उन्होंने सबक सीख लिया है। पंड्या का कहना था कि उस घटना के बाद मैं समझदार हो गया हूं।
 

टीवी शो में घिरे विवादों में
पिछले साल पंड्या एक टीवी शो में महिला विरोधी बयान की वजह से विवादों में घिर गए थे। उन्होंने कहा कि इसके बाद उन्होंने सबक सीख लिया है। पंड्या का कहना था कि उस घटना के बाद मैं समझदार हो गया हूं।
 

गलतियां की, लेकिन स्वीकार भी किया
हार्दिक पंड्या ने कहा कि जीवन में उन्होंने गलतियां तो की, लेकिन उन्हें स्वीकार भी किया। पंड्या का कहना था कि अगर ऐसा नहीं होता तो अब तक वे टीवी शो ही करते रहते। उन्होंने कहा कि अब ये उसके बारे में सोच कर  परेशान नहीं होते, क्योंकि हमने एक परिवार के रूप में उसे स्वीकार कर लिया। बावजूद उन्होंने कहा कि मुझे इस बात का सबसे ज्यादा दुख है कि मेरी गलती की सजा परिवार ने भुगती।

गलतियां की, लेकिन स्वीकार भी किया
हार्दिक पंड्या ने कहा कि जीवन में उन्होंने गलतियां तो की, लेकिन उन्हें स्वीकार भी किया। पंड्या का कहना था कि अगर ऐसा नहीं होता तो अब तक वे टीवी शो ही करते रहते। उन्होंने कहा कि अब ये उसके बारे में सोच कर  परेशान नहीं होते, क्योंकि हमने एक परिवार के रूप में उसे स्वीकार कर लिया। बावजूद उन्होंने कहा कि मुझे इस बात का सबसे ज्यादा दुख है कि मेरी गलती की सजा परिवार ने भुगती।

रिकी पोंटिंग से काफी सीखा
हार्दिक पंड्या ने कहा कि उनके करियर में एक ऐसा भी दौर था, जब दूसरों की बातों का उन पर बहुत ज्यादा असर होता था और वे विचलित हो जाते थे। उन्होंने कहा कि आईपीएल टीम मुंबई इंडियन्स के कोच रिकी पोंटिंग ने उन्हें एक बच्चे की तरह संभाला और उनसे मैंने काफी कुछ सीखा है। पंड्या ने भारतीय कप्तान विराट कोहली, कोच रवि शास्त्री और एनसीए निदेशक राहुल द्रविड़ के प्रति भी सम्मान जताया और उन्हें धन्यवाद दिया। 
 

रिकी पोंटिंग से काफी सीखा
हार्दिक पंड्या ने कहा कि उनके करियर में एक ऐसा भी दौर था, जब दूसरों की बातों का उन पर बहुत ज्यादा असर होता था और वे विचलित हो जाते थे। उन्होंने कहा कि आईपीएल टीम मुंबई इंडियन्स के कोच रिकी पोंटिंग ने उन्हें एक बच्चे की तरह संभाला और उनसे मैंने काफी कुछ सीखा है। पंड्या ने भारतीय कप्तान विराट कोहली, कोच रवि शास्त्री और एनसीए निदेशक राहुल द्रविड़ के प्रति भी सम्मान जताया और उन्हें धन्यवाद दिया। 
 

Follow Us:
Download App:
  • android
  • ios