Asianet News Hindi

इस खिलाड़ी ने खुद मजदूरी कर बनाई थी प्रैक्टिस के लिए क्रिकेट पिच, अब आईपीएल में इस तरह कर रहा कमाल

First Published Apr 27, 2021, 8:53 AM IST
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp

स्पोर्ट्स डेस्क : आईपीएल के 14वें सीजन (IPL 2021) का 21वां मैच पंजाब किंग्स और कोलकाता नाइट राइडर्स (Punjab Kings vs Kolkata Knight Riders) के बीच हुआ। जिसमें पंजाब के दिए गए 123 रनों के लक्ष्य का पीछा करते हुए कोलकाता ने 5 विकेट से जीत हासिल कर ली। हालांकि पंजाब के एक खिलाड़ी की फील्डिंग ने सभी का दिल जीत लिया। जी हां, हम बात कर रहे हैं, 20 साल के युवा गेंदबाज रवि बिश्नोई (Ravi Bishnoi) की, जिन्होंने सुनील नरेन (Sunil Narine) का ऐसा कैच पकड़ा जिसे देखकर हर कोई हैरान रह गए। इतना ही नहीं वह पंजाब के लिए सफल गेंदबाज भी साबित हुए। उन्होंने 4 ओवर में सबसे कम 19 रन केकेआर को दिए। इस खिलाड़ी की जितनी तारीफ की जाए, उतनी कम है। राजस्थान के जोधपुर में पैदा हुआ ये खिलाड़ी कड़ी मेहनत के बाद आज इस मुकाम पर पहुंचा हैं।

मजदूरी कर बनाई क्रिकेट पिच
उन खिलाड़ियों का खेल हमें और ज्यादा प्रभावित करता है, जो कम संसाधन और कड़ी मेहनत कर क्रिकेट में अपनी जगह बनाते हैं। कुछ ऐसा ही कारनामा करके दिखाया है, पंजाब किंग्स के युवा गेंदबाज रवि बिश्नोई ने। राजस्थान के जोधपुर जिले में 5 सितंबर 2000 को जन्में रवि बचपन से क्रिकेट को लेकर काफी जुनूनी थे। लेकिन परिवार की आर्थिक स्थिति देख वह महंगी क्रिकेट कोचिंग नहीं ले पाए। पैसों की कमी के चलते उन्होंने खुद मजदूरी करके पिच तैयार कर प्रैक्टिस की। वह खुद सीमेंट की बोरियां उठाकर एकेडमी पहुंचाते थे और पत्थर तोड़ते थे ताकि मजदूरी का खर्च बचाया जा सकें। बचे हुए पैसे से उन्होंने एक्सपर्ट्स को बुलाकर पिच तैयार की थी।

मजदूरी कर बनाई क्रिकेट पिच
उन खिलाड़ियों का खेल हमें और ज्यादा प्रभावित करता है, जो कम संसाधन और कड़ी मेहनत कर क्रिकेट में अपनी जगह बनाते हैं। कुछ ऐसा ही कारनामा करके दिखाया है, पंजाब किंग्स के युवा गेंदबाज रवि बिश्नोई ने। राजस्थान के जोधपुर जिले में 5 सितंबर 2000 को जन्में रवि बचपन से क्रिकेट को लेकर काफी जुनूनी थे। लेकिन परिवार की आर्थिक स्थिति देख वह महंगी क्रिकेट कोचिंग नहीं ले पाए। पैसों की कमी के चलते उन्होंने खुद मजदूरी करके पिच तैयार कर प्रैक्टिस की। वह खुद सीमेंट की बोरियां उठाकर एकेडमी पहुंचाते थे और पत्थर तोड़ते थे ताकि मजदूरी का खर्च बचाया जा सकें। बचे हुए पैसे से उन्होंने एक्सपर्ट्स को बुलाकर पिच तैयार की थी।

मां गृहिणी और पिता हैं शिक्षक
जोधपुर तहसील के बिरामी गांव में रहने वाले रवि के पिता मांगीलाल बिश्नोई शिक्षक हैं। वहीं, उनकी मां शिवरी देवी गृहिणी हैं। उनकी दो बहनें अनिता और रिंकू हैं। उनके पिता चाहते थे कि उनका बेटा क्रिकेट का जुनून छोड़कर पढ़ाई में ध्यान दे।

मां गृहिणी और पिता हैं शिक्षक
जोधपुर तहसील के बिरामी गांव में रहने वाले रवि के पिता मांगीलाल बिश्नोई शिक्षक हैं। वहीं, उनकी मां शिवरी देवी गृहिणी हैं। उनकी दो बहनें अनिता और रिंकू हैं। उनके पिता चाहते थे कि उनका बेटा क्रिकेट का जुनून छोड़कर पढ़ाई में ध्यान दे।

क्रिकेट के लिए छोड़ी बोर्ड परीक्षा
जब बिश्नोई बोर्ड की परीक्षा का तैयारी कर रहे थे, तो उन्हें राजस्थान रॉयल्स टीम के लिए नेट पर गेंदबाजी करने का मौका मिला। वह ये अवसर हाथ से जाने नहीं देना चाहते थे, इसलिए उन्होंने बोर्ड परीक्षा तक नहीं दी और अपना करियर क्रिकेट बनाने के लिए आगे बढ़ गए।

क्रिकेट के लिए छोड़ी बोर्ड परीक्षा
जब बिश्नोई बोर्ड की परीक्षा का तैयारी कर रहे थे, तो उन्हें राजस्थान रॉयल्स टीम के लिए नेट पर गेंदबाजी करने का मौका मिला। वह ये अवसर हाथ से जाने नहीं देना चाहते थे, इसलिए उन्होंने बोर्ड परीक्षा तक नहीं दी और अपना करियर क्रिकेट बनाने के लिए आगे बढ़ गए।

अंडर-19 टीम में किया शानदार प्रदर्शन
साल 2019 में बिश्नोई को अंडर-19 वर्ल्ड कप में खेलने का मौका मिला। जिसमें उन्होंने जापान के खिलाफ 8 ओवर में 5 रन देखकर 4 विकेट चटकाए थे। इस मैच में भारत की 10 विकेट से जीत हुई।  बिश्नोई को शानदार गेंदबाजी के चलते मैच में मैन ऑफ द मैच चुना गया। वह इस सीरीज में सबसे ज्यादा विकेट लेने वाले खिलाड़ी बने थे।

अंडर-19 टीम में किया शानदार प्रदर्शन
साल 2019 में बिश्नोई को अंडर-19 वर्ल्ड कप में खेलने का मौका मिला। जिसमें उन्होंने जापान के खिलाफ 8 ओवर में 5 रन देखकर 4 विकेट चटकाए थे। इस मैच में भारत की 10 विकेट से जीत हुई।  बिश्नोई को शानदार गेंदबाजी के चलते मैच में मैन ऑफ द मैच चुना गया। वह इस सीरीज में सबसे ज्यादा विकेट लेने वाले खिलाड़ी बने थे।

2020 में 2 करोड़ में बिका ये खिलाड़ी
भारतीय क्रिकेट टीम में जगह बनाने के 15 दिन बाद ही रवि विश्नोई को पिछले साल पंजाब किंग्स ने दो करोड़ में खरीदा था। आईपीएल के 13वें सीजन में उन्होंने 16 मैचों में 14 विकेट अपने नाम किए थे। इस साल 2 मैचों में वह 2 विकेट ले चुके हैं।

2020 में 2 करोड़ में बिका ये खिलाड़ी
भारतीय क्रिकेट टीम में जगह बनाने के 15 दिन बाद ही रवि विश्नोई को पिछले साल पंजाब किंग्स ने दो करोड़ में खरीदा था। आईपीएल के 13वें सीजन में उन्होंने 16 मैचों में 14 विकेट अपने नाम किए थे। इस साल 2 मैचों में वह 2 विकेट ले चुके हैं।

फील्डिंग में छाया ये खिलाड़ी
अपनी लेग स्पिन से पंजाब किंग्स में जगह बनाने वाले रवि बिश्नोई ने सोमवार को हुए मैच में अपनी फील्डिंग से सभी को प्रभावित कर दिया। दूसरे ओवर में अर्शदीप की आखिरी गेंद पर सुनील नारायण ने छक्का मारने की कोशिश की, लेकिन इस युवा खिलाड़ी ने भागते हुए डीप मिडविकेट पर उनका कैच लपक लिया और सुनील बिना खाता खोले ही पवेलियन लौट गए। 

फील्डिंग में छाया ये खिलाड़ी
अपनी लेग स्पिन से पंजाब किंग्स में जगह बनाने वाले रवि बिश्नोई ने सोमवार को हुए मैच में अपनी फील्डिंग से सभी को प्रभावित कर दिया। दूसरे ओवर में अर्शदीप की आखिरी गेंद पर सुनील नारायण ने छक्का मारने की कोशिश की, लेकिन इस युवा खिलाड़ी ने भागते हुए डीप मिडविकेट पर उनका कैच लपक लिया और सुनील बिना खाता खोले ही पवेलियन लौट गए। 

बेस्ट कैच ऑफ द मैच बनें रवि
सोमवार को हुए मैच में भले ही पंजाब किंग्स को हार का सामना करना पड़ा हो, लेकिन रवि बिश्नोई को उनके शानदार कैच के लिए बेस्ट कैच ऑफ द मैच का खिताब दिया गया। बता दें कि रवि ने युवा लगभग 25 मीटर की दूरी से दौड़ लगाकर हवा में डाइव मारकर सुनील नारायण का कैच पकड़ा था।

बेस्ट कैच ऑफ द मैच बनें रवि
सोमवार को हुए मैच में भले ही पंजाब किंग्स को हार का सामना करना पड़ा हो, लेकिन रवि बिश्नोई को उनके शानदार कैच के लिए बेस्ट कैच ऑफ द मैच का खिताब दिया गया। बता दें कि रवि ने युवा लगभग 25 मीटर की दूरी से दौड़ लगाकर हवा में डाइव मारकर सुनील नारायण का कैच पकड़ा था।

Follow Us:
Download App:
  • android
  • ios