Asianet News Hindi

बस एक गलती ने तबाह कर दिया इस सुपर बॉलर का करियर

First Published Feb 9, 2020, 6:54 PM IST
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp

नई दिल्ली. IPL में जब डेल स्टेन और जहीर खान जैसे तेज गेंदबाज शुरुआती ओवरों में गेंदबाजी करने से कतराते थे। ऐसे समय में राजस्थान की टीम ने एक स्पिनर से पारी का पहला ओवर फेकने को कहा। क्रिकेट के ज्ञाता टीम के इस फैसले से हैरान थे, पर 2008 में टूर्नामेंट जीतने वाली टीम से ऐसे एक्सपेरीमेंट की उम्मीद की जा सकती थी। जिस गेंदबाज ने पावर प्ले में पहला ओवर डाला उसका नाम था अजीत चंदीला। सिर्फ एक ही ओवर नहीं बल्कि अजीत हर मैच में पावर प्ले के अंदर तीन-तीन ओवर निकालने लगे। यह गेंदबाज बहुत ज्यादा विकेट नहीं लेता था, पर पावर प्ले में अच्छी इकॉनमी के साथ ओवर निकालने में माहिर था। इसके बाद अचानक ही स्पॉट फिक्सिंग में तीन खिलाड़ियों का नाम आया और अजीत चंदीला इस तिकड़ी के अगुवा थे। यहीं से उनका करियर खत्म हो गया।

स्पॉट फिक्सिंग में नाम आने के बाद BCCI ने इन खिलाड़ियों पर हर तरह की क्रिकेट से बैन लगा दिया और चंदीला को इस मामले में जेल की हवा भी खानी पड़ी।

स्पॉट फिक्सिंग में नाम आने के बाद BCCI ने इन खिलाड़ियों पर हर तरह की क्रिकेट से बैन लगा दिया और चंदीला को इस मामले में जेल की हवा भी खानी पड़ी।

बाद में सबूतों के अभाव में अदालत ने इन खिलाड़ियों को बरी कर दिया, पर तब तक इनका करियर खत्म हो चुका था।

बाद में सबूतों के अभाव में अदालत ने इन खिलाड़ियों को बरी कर दिया, पर तब तक इनका करियर खत्म हो चुका था।

अजीत चंदीला के साथ जो दो और खिलाड़ी इस मामले में फंसे थे। उनका नाम था एस श्रीसंथ और अंकित चव्हाण।

अजीत चंदीला के साथ जो दो और खिलाड़ी इस मामले में फंसे थे। उनका नाम था एस श्रीसंथ और अंकित चव्हाण।

अजीत चंदीला ने साल 2012 में हैट्रिक ली थी। उन्होंने पुणे वारियर्स इंडिया के खिलाफ जयपुर में यह कारनामा किया था।

अजीत चंदीला ने साल 2012 में हैट्रिक ली थी। उन्होंने पुणे वारियर्स इंडिया के खिलाफ जयपुर में यह कारनामा किया था।

चंदीला राजस्थान के लिए हैट्रिक लेने वाले पहले गेंदबाज थे। उनके बाद 4 और गेंदबाज यह कारनामा कर चुके हैं।

चंदीला राजस्थान के लिए हैट्रिक लेने वाले पहले गेंदबाज थे। उनके बाद 4 और गेंदबाज यह कारनामा कर चुके हैं।

BCCI की अनुशासन कमेटी ने चंदीला पर आजीवन बैन लगाया है। यह खिलाड़ी किसी भी मान्यता प्राप्त टूर्नामेंट में भाग नहीं ले सकता है।

BCCI की अनुशासन कमेटी ने चंदीला पर आजीवन बैन लगाया है। यह खिलाड़ी किसी भी मान्यता प्राप्त टूर्नामेंट में भाग नहीं ले सकता है।

बैन लगने के बाद साल 2019 में उनके ऊपर धोखाधड़ी का आरोप भी लगा था।

बैन लगने के बाद साल 2019 में उनके ऊपर धोखाधड़ी का आरोप भी लगा था।

एक फल व्यापारी ने आरोप लगाया था कि चंदीला ने उसके बेटे का सेलेक्सन कराने के नाम पर साढ़े सात लाख रुपये ले लिए और सेलेक्शन भी नहीं कराया।

एक फल व्यापारी ने आरोप लगाया था कि चंदीला ने उसके बेटे का सेलेक्सन कराने के नाम पर साढ़े सात लाख रुपये ले लिए और सेलेक्शन भी नहीं कराया।

इसके बाद जब व्यापारी ने पैसे वापस मांगे तो उन्होंने चेक थमा दिया। बैंक जाने पर यह चेक भी बाउंस हो गया।

इसके बाद जब व्यापारी ने पैसे वापस मांगे तो उन्होंने चेक थमा दिया। बैंक जाने पर यह चेक भी बाउंस हो गया।

चंदीला एक T-20 बॉलर के रूप में खुद को स्थापित कर चुके थे, पर 2013 में हुई घटना ने उनके करियर को पूरी तरह तबाह कर दिया।

चंदीला एक T-20 बॉलर के रूप में खुद को स्थापित कर चुके थे, पर 2013 में हुई घटना ने उनके करियर को पूरी तरह तबाह कर दिया।

Follow Us:
Download App:
  • android
  • ios