Asianet News Hindi

क्या जूस-दूध की चाय के साथ आप भी खाते हैं दवाई? बीमारी ठीक करने की जगह जान ले सकती है ये गलती

First Published Mar 21, 2021, 9:21 AM IST
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp

हेल्थ डेस्क:  आपने फिल्मों में अक्सर देखा होगा कि एक्टर्स जूस या चाय के साथ दवाई लेते हैं। इसे देखने के बाद कई लोग अब दवाइयों को जूस या चाय के साथ ही लेने लगे हैं। कई लोग आज भी पानी के साथ दवाइयां खाते हैं लेकिन कुछ लोग जो जूस और चाय के साथ दवाई खाते हैं उनके लिए बुरी खबर है। रिसर्च में ये बात सामने आई है कि जो ऐसी गलती करते हैं, उनकी जान को भी खतरा हो सकता है। आइये आपको बताते हैं आखिर ऐसा करने से बॉडी पर कैसे दुष्प्रभाव पड़ते हैं... 

फिल्मों का ट्रेंड देखकर अब कई लोग जूस और चाय के साथ अपनी दवाइयां खा लेते हैं। अगर आप भी उन्हीं लोगों में से हैं, तो आपको बता दें कि ये आपके लिए खतरे की घंटी हो सकती है। 

फिल्मों का ट्रेंड देखकर अब कई लोग जूस और चाय के साथ अपनी दवाइयां खा लेते हैं। अगर आप भी उन्हीं लोगों में से हैं, तो आपको बता दें कि ये आपके लिए खतरे की घंटी हो सकती है। 

इंडियन मेडिकल एसोसिएशन द्वारा करवाए एक रिसर्च में ये बात साबित हो चुकी है कि चाय और जूस के  साथ दवाई का सेवन जानलेवा है। ऐसा कभी नहीं करना चाहिए। इससे दवाई फायदा पहुंचाने की जगह आपकी बॉडी को नुकसान पहुंचाती है।  

इंडियन मेडिकल एसोसिएशन द्वारा करवाए एक रिसर्च में ये बात साबित हो चुकी है कि चाय और जूस के  साथ दवाई का सेवन जानलेवा है। ऐसा कभी नहीं करना चाहिए। इससे दवाई फायदा पहुंचाने की जगह आपकी बॉडी को नुकसान पहुंचाती है।  

सबसे पहले बात करते हैं चाय के साथ दवाई लेने पर होने वाले नुकसान की। जब चाय और दवाई को एक साथ कंज्यूम किया जाता है तब दवाई बेअसर हो जाती है। 

सबसे पहले बात करते हैं चाय के साथ दवाई लेने पर होने वाले नुकसान की। जब चाय और दवाई को एक साथ कंज्यूम किया जाता है तब दवाई बेअसर हो जाती है। 

दरअसल, चाय में टैनिन होता है। ऐसे में जब दवाई के साथ इसे खाया जाता है तो उसमें केमिकल रिएक्शन होता है। चाय या कॉफ़ी के साथ ली गई दवा का असर असर खत्म हो जाता है या ये बेअसर हो जाती है। 

दरअसल, चाय में टैनिन होता है। ऐसे में जब दवाई के साथ इसे खाया जाता है तो उसमें केमिकल रिएक्शन होता है। चाय या कॉफ़ी के साथ ली गई दवा का असर असर खत्म हो जाता है या ये बेअसर हो जाती है। 

वहीं जब दवाइयों को जूस के साथ लिया जाता है तो रिकवरी की प्रक्रिया स्लो हो जाती है। खट्टे फलों का जूस दवा के असर को कम कर देता है। साथ ही जूस के साथ दवा लेने पर बॉडी जूस को कम सोख पाती है। 
 

वहीं जब दवाइयों को जूस के साथ लिया जाता है तो रिकवरी की प्रक्रिया स्लो हो जाती है। खट्टे फलों का जूस दवा के असर को कम कर देता है। साथ ही जूस के साथ दवा लेने पर बॉडी जूस को कम सोख पाती है। 
 

ऐसे में हमेशा कोशिश करनी चाहिए कि दवाइयों को गुनगुने पानी के साथ ही लिया जाए। दूध के साथ भी दवाई का सेवन फायदेमंद रहता है। लेकिन चाय और जूस के साथ इसे अवॉयड ही करना चाहिए। 

ऐसे में हमेशा कोशिश करनी चाहिए कि दवाइयों को गुनगुने पानी के साथ ही लिया जाए। दूध के साथ भी दवाई का सेवन फायदेमंद रहता है। लेकिन चाय और जूस के साथ इसे अवॉयड ही करना चाहिए। 

Follow Us:
Download App:
  • android
  • ios