Asianet News Hindi

हर दिन शाम को घड़ी में इतने बजे से ही शुरू करें रोना, बिना डायटिंग-एक्सरसाइज के कम हो जाएगी पेट की चर्बी

First Published Feb 22, 2021, 12:09 PM IST
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp

हेल्थ डेस्क: खबर की हैडिंग पढ़कर आपको लग रहा होगा कि हमारा दिमाग खराब हो गया है। भला रोने से पेट की चर्बी का  क्या कनेक्शन? लेकिन हम ना झूठ बोल रहे हैं ना मजाक कर रहे हैं। हाल ही में हुए एक सर्वे में ये बात सामने आई है कि अगर दिन के एक ख़ास वक्त पर रोया जाए, तो पेट की चर्बी तेजी से कम होती है। रोना आपके हेल्थ के लिए फायदेमंद है। अगर हर दिन एक ख़ास समय पर ख़ास टाइमिंग के लिए रोया जाए, तो ये आपके पेट के जिद्दी चर्बी को गलाने का काम करता है। इससे आपका वजन भी तेजी से कम होता है। इस समय रोएं और चर्बी गलाएँ... 
 

अगर आप भी उन लोगों में से हैं, जो बेहद इमोशनल हैं और बात-बात पर रो देते हैं तो ये आपके लिए गुड न्यूज है। रोने से आपकी पेट की वो जिद्दी चर्बी गलती है जिसे हटाने के लिए घंटों जिम में पसीना बहाना पड़ता है। जी हां, रोने से बेली फैट कम होता है। 

अगर आप भी उन लोगों में से हैं, जो बेहद इमोशनल हैं और बात-बात पर रो देते हैं तो ये आपके लिए गुड न्यूज है। रोने से आपकी पेट की वो जिद्दी चर्बी गलती है जिसे हटाने के लिए घंटों जिम में पसीना बहाना पड़ता है। जी हां, रोने से बेली फैट कम होता है। 

ये बात तुक्के से नहीं, बल्कि रिसर्च पर आधारित है। एशियावन नाम के जर्नल में छपी रिपोर्ट के मुताबिक़, शोधकर्ताओं ने रोने का बॉडी पर होने वाले प्रभाव का गहन अध्ययन किया है। इस स्टडी में पाया गया कि अगर लोग दिन में एक ख़ास समय पर रोते हैं, तो उनका बॉडी वेट कम होता है।  

ये बात तुक्के से नहीं, बल्कि रिसर्च पर आधारित है। एशियावन नाम के जर्नल में छपी रिपोर्ट के मुताबिक़, शोधकर्ताओं ने रोने का बॉडी पर होने वाले प्रभाव का गहन अध्ययन किया है। इस स्टडी में पाया गया कि अगर लोग दिन में एक ख़ास समय पर रोते हैं, तो उनका बॉडी वेट कम होता है।  

स्टडी में पाया गया कि इमोशनल होने से बॉडी में कोर्टिसोल का स्तर बढ़ता है। इससे आपके रोने से ये हार्मोन लेवल बढ़ जाता है। ये हार्मोन बेली फैट को काटने का काम करता है। जितना हार्मोन बढ़ेगा, आपकी पेट की चर्बी उतनी गलेगी। 

स्टडी में पाया गया कि इमोशनल होने से बॉडी में कोर्टिसोल का स्तर बढ़ता है। इससे आपके रोने से ये हार्मोन लेवल बढ़ जाता है। ये हार्मोन बेली फैट को काटने का काम करता है। जितना हार्मोन बढ़ेगा, आपकी पेट की चर्बी उतनी गलेगी। 

साथ ही रोने से आंख के जरिये आंसुओं के साथ कई जहरीले पदार्थ बॉडी से बाहर निकल जाते हैं। इससे बॉडी के टॉक्सिन बाहर आते हैं और आपकी बॉडी ग्लो करती है। साथ ही इससे स्ट्रेस कम होता है जो वेट लॉस में मदद करता है। 

साथ ही रोने से आंख के जरिये आंसुओं के साथ कई जहरीले पदार्थ बॉडी से बाहर निकल जाते हैं। इससे बॉडी के टॉक्सिन बाहर आते हैं और आपकी बॉडी ग्लो करती है। साथ ही इससे स्ट्रेस कम होता है जो वेट लॉस में मदद करता है। 

इस रिसर्च में दावा किया गया है कि अगर आप शाम को 7 बजे से 10 बजे तक रोएंगे तो आपका वजन ज्यादा जल्दी घटेगा। इसलिए अगर रोने के जरिये आप अपना वजन कम करना चाहते हैं तो हर दिन घड़ी में सात बजते ही रोने लगे। 
 

इस रिसर्च में दावा किया गया है कि अगर आप शाम को 7 बजे से 10 बजे तक रोएंगे तो आपका वजन ज्यादा जल्दी घटेगा। इसलिए अगर रोने के जरिये आप अपना वजन कम करना चाहते हैं तो हर दिन घड़ी में सात बजते ही रोने लगे। 
 

रिसर्चर्स के मुताबिक, जब आंसू बहाए जाते हैं तबं शरीर फैट स्टोर नहीं कर पाता। इससे बॉडी  में जो स्ट्रेस हार्मोन्स होते हैं वो आंसू के जरिये बाहर निकल जाते हैं। इससे आपका वजन नहीं बढ़ता है।  
 

रिसर्चर्स के मुताबिक, जब आंसू बहाए जाते हैं तबं शरीर फैट स्टोर नहीं कर पाता। इससे बॉडी  में जो स्ट्रेस हार्मोन्स होते हैं वो आंसू के जरिये बाहर निकल जाते हैं। इससे आपका वजन नहीं बढ़ता है।  
 

लेकिन यहां एक बात का ध्यान रखना है कि आपको झूठ के आंसू नहीं बहाने हैं। आपकी फीलिंग्स सच्ची होनी चाहिए। अगर आप बेवजह रोएंगे तो इसका बेली फैट पर असर नहीं होगा। आपको सच्ची भावनाओं के साथ रोना है, तभी बेली फैट कम होगा। 
 

लेकिन यहां एक बात का ध्यान रखना है कि आपको झूठ के आंसू नहीं बहाने हैं। आपकी फीलिंग्स सच्ची होनी चाहिए। अगर आप बेवजह रोएंगे तो इसका बेली फैट पर असर नहीं होगा। आपको सच्ची भावनाओं के साथ रोना है, तभी बेली फैट कम होगा। 
 

Follow Us:
Download App:
  • android
  • ios