Asianet News Hindi

Weight loss Story: देसी घी-मक्खन खाकर इस लड़के ने घटाया 18 kg वजन, 80 किलो के बाद एब्स देख दंग रह गए लोग

First Published Feb 28, 2021, 3:22 PM IST
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp

हेल्थ डेस्क. Weight loss Story: लॉकडाउन और वर्क फ्रॉम होम में लोगों को मोटापे की समस्या ज्यादा बढ़ गई है। मोटापे और इम्यूनिटी को लेकर लोग फिटनेस के लिए अब न्यू नॉर्मल के साथ सीरियस भी होने लगे हैं। पर दुबले-पतले लोग खाने के मामले में एकदम बेफिक्र रहते हैं। दुबले-पतले पूरा दिन फास्ट फूड खाएं तो भी मोटापा उनसे दूर रहता है। ऐसे ही एक लड़का अपने लीन बॉडी के कारण खूब खाता-पीता था। एक जमाने में 45 किलो के हिमांशु व्‍यास (himanshu vyas) बेफिक्र हो कर खूब जंक फूड खाया करते थे। हिमांशु की इस अनहेल्‍दी आदत से उनका वजन 45 किलो से बढ़कर 80 किलो तक पहुंच गया। दोस्‍त के टोकने पर जब हिमांशु एहसास हुआ तब इन्‍होंने खुद को ट्रांसफॉर्म करने का फैसला लिया। आज हिमांशु का ट्रांसफॉर्मेशन किसी को शॉक कर देता है। वेट लॉस स्टोरी में आइए जानते हैं वो कैसे फैट टू फिट हो गए-

फास्ट फूड खाकर हिमांशु का वजन 80 किलो पहुंच गया। फिर एक दोस्त के कहने पर उन्होंने वेट लॉस का फैसला किया। अपने बढ़े हुए वजन को हिमांशु ने एक चैलेंज के रूप में लिया और मात्र 3 महीने में 18 किलो तक वजन घटया। Times of India की एक स्टोरी के मुताबिक, हिमांशु के लिए ये दिन किसी कठिन परीक्षा से कम नहीं थे। इन्‍होंने अपनी डाइट में वह हर चीज शामिल की जो इनके शरीर के लिए जरूरी थी।

फास्ट फूड खाकर हिमांशु का वजन 80 किलो पहुंच गया। फिर एक दोस्त के कहने पर उन्होंने वेट लॉस का फैसला किया। अपने बढ़े हुए वजन को हिमांशु ने एक चैलेंज के रूप में लिया और मात्र 3 महीने में 18 किलो तक वजन घटया। Times of India की एक स्टोरी के मुताबिक, हिमांशु के लिए ये दिन किसी कठिन परीक्षा से कम नहीं थे। इन्‍होंने अपनी डाइट में वह हर चीज शामिल की जो इनके शरीर के लिए जरूरी थी।

फास्ट फूड खाकर हिमांशु का वजन 80 किलो पहुंच गया। फिर एक दोस्त के कहने पर उन्होंने वेट लॉस का फैसला किया। अपने बढ़े हुए वजन को हिमांशु ने एक चैलेंज के रूप में लिया और मात्र 3 महीने में 18 किलो तक वजन घटया। हिमांशु के लिए ये दिन किसी कठिन परीक्षा से कम नहीं थे। इन्‍होंने अपनी डाइट में वह हर चीज शामिल की जो इनके शरीर के लिए जरूरी थी।

फास्ट फूड खाकर हिमांशु का वजन 80 किलो पहुंच गया। फिर एक दोस्त के कहने पर उन्होंने वेट लॉस का फैसला किया। अपने बढ़े हुए वजन को हिमांशु ने एक चैलेंज के रूप में लिया और मात्र 3 महीने में 18 किलो तक वजन घटया। हिमांशु के लिए ये दिन किसी कठिन परीक्षा से कम नहीं थे। इन्‍होंने अपनी डाइट में वह हर चीज शामिल की जो इनके शरीर के लिए जरूरी थी।

23 साल के हिमांशु ने अपना मोटापा घटाना प्रॉपर डायट फॉलो की। हिमांशु ने weight loss जर्नी के लिए डाइट में कई जरूरी बदलाव किए। वो लिमिटेड खाना खाते थे। पिज्जा-बर्गर खाने वाला लड़का अब दाल सब्जियों पर आ गया था। लेकिन हिमांशु ने घी-मक्खन खाना नहीं छोड़ा था।

 

23 साल के हिमांशु ने अपना मोटापा घटाना प्रॉपर डायट फॉलो की। हिमांशु ने weight loss जर्नी के लिए डाइट में कई जरूरी बदलाव किए। वो लिमिटेड खाना खाते थे। पिज्जा-बर्गर खाने वाला लड़का अब दाल सब्जियों पर आ गया था। लेकिन हिमांशु ने घी-मक्खन खाना नहीं छोड़ा था।

 

ब्रेकफास्‍ट: नारियल तेल या देसी घी में पकाई गई हरी सब्‍जियां और एग वाइट या पनीर।

लंच: वाइट राइस, आलू, राजमा, दही, दाल और ढेर सारा सलाद।

इवनिंग स्‍नैक: ब्‍लैक कॉफी, चिकन ब्रेस्‍ट या एग वाइट।

ब्रेकफास्‍ट: नारियल तेल या देसी घी में पकाई गई हरी सब्‍जियां और एग वाइट या पनीर।

लंच: वाइट राइस, आलू, राजमा, दही, दाल और ढेर सारा सलाद।

इवनिंग स्‍नैक: ब्‍लैक कॉफी, चिकन ब्रेस्‍ट या एग वाइट।

डिनर: वाइट राइस, पनीर, राजमा और सोया चंक।

चीट मील: हिमांशु बताते हैं कि हफ्तेभर कठिन डाइट लेने के बाद संडे की शाम को डोसा और बिस्‍कुट के साथ चाय पीते थे।

डिनर: वाइट राइस, पनीर, राजमा और सोया चंक।

चीट मील: हिमांशु बताते हैं कि हफ्तेभर कठिन डाइट लेने के बाद संडे की शाम को डोसा और बिस्‍कुट के साथ चाय पीते थे।

हिमांशु का वर्कआउट:

 

अपना वजन कम करने के लिए हिमांशु हफ्ते में 6 दिन वर्कआउट करते थे। इस दौरान वह इन्‍टेंस वेट ट्रेनिंग करते थे जो कि 2 घंटे तक चलती थी। कभी कभार वो HIIT भी करते थे।

हिमांशु का वर्कआउट:

 

अपना वजन कम करने के लिए हिमांशु हफ्ते में 6 दिन वर्कआउट करते थे। इस दौरान वह इन्‍टेंस वेट ट्रेनिंग करते थे जो कि 2 घंटे तक चलती थी। कभी कभार वो HIIT भी करते थे।

फिटनेस सीक्रेट:

 

हिंमाशु अपनी बॉडी के हिसाब से डाइट लेते थे। उदाहरण के तौर पर अगर इन्‍हें ग्‍लूटन से एलर्जी है तो वो रोटी न खा कर चावल का सेवन करते थे। इन्‍होंने जंक फूड खाना बंद कर दिया था। बॉडी को हाइड्रेट रखने के लिए ढेर सारा पानी पीते थे। इसके अलावा खाने में प्रोटीन डाइट ज्‍यादा लेते थे।

 

फिटनेस सीक्रेट:

 

हिंमाशु अपनी बॉडी के हिसाब से डाइट लेते थे। उदाहरण के तौर पर अगर इन्‍हें ग्‍लूटन से एलर्जी है तो वो रोटी न खा कर चावल का सेवन करते थे। इन्‍होंने जंक फूड खाना बंद कर दिया था। बॉडी को हाइड्रेट रखने के लिए ढेर सारा पानी पीते थे। इसके अलावा खाने में प्रोटीन डाइट ज्‍यादा लेते थे।

 

लाइफस्‍टाइल में बदलाव:

 

अपने मोटापे को मात देने के लिए हिमांशु रोज सुबह 4 बजे उठ जाते थे। अपनी डाइट से फास्‍ट फूड को बिल्‍कुल हटा दिया। हिमांशु बताते हैं कि अगर उन्‍हें फास्‍ट फूड खाने का मन भी करता था तो 3 महीने में कभी एक बार ही खाते हैं। अगर आप भी मोटापे से परेशान हैं तो फिटनेस के लिए हिमांशु की स्टोरी से इंस्पायर होकर अपनी वेट लॉस जर्नी शुरू कर सकते हैं।

 

लाइफस्‍टाइल में बदलाव:

 

अपने मोटापे को मात देने के लिए हिमांशु रोज सुबह 4 बजे उठ जाते थे। अपनी डाइट से फास्‍ट फूड को बिल्‍कुल हटा दिया। हिमांशु बताते हैं कि अगर उन्‍हें फास्‍ट फूड खाने का मन भी करता था तो 3 महीने में कभी एक बार ही खाते हैं। अगर आप भी मोटापे से परेशान हैं तो फिटनेस के लिए हिमांशु की स्टोरी से इंस्पायर होकर अपनी वेट लॉस जर्नी शुरू कर सकते हैं।

 

Follow Us:
Download App:
  • android
  • ios