Asianet News Hindi

कोहली के कारण अनिल कुंबले ने छोड़ा था कोच का पद, ड्रेसिंग रूम से लेकर मैदान की तानशाही से खफा थे विराट

First Published Oct 16, 2020, 3:48 PM IST
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp

स्पोर्ट्स डेस्क : भारतीय क्रिकेट टीम के पूर्व कोच और किंग्स इलेवन पंजाब के मेंटर अनिल कुंबले (Anil Kumble) 17 अक्टूबर को 50 साल के होने वाले हैं। अपने खेल से लेकर पर्सनल लाइफ तक वह काफी सुर्खियों में रहे हैं। इनमें से ही एक था भारतीय क्रिकेट का कोच बनना। उन्होंने इंडियन क्रिकेट के कोच के रूप में ज्यादा समय तो नहीं बिताया, पर उनका जाना काफी विवादित था। दरअसल, भारत के कप्तान विराट कोहली (Virat kohli) कुंबले के टीम मैंनेजमेंट के तरीके से खुश नहीं थे और यही उनके जाने के पीछे का मुख्य कारण बन गया। एक साल के अंदर ही ऐसा क्या हुआ कि कुंबले को अपने पद से इस्तीफा देना पड़ा, आइए आपको बताते हैं।

भारतीय क्रिकेट टीम के पूर्व स्पिनर अनिल कुंबले 2016 से 2017 तक एक साल टीम इंडिया के कोच रहे थे। इस दौरान टीम ने 17 में से 12 टेस्ट जीते, सिर्फ 1 मैच हारा, वहीं  4 मैच ड्रॉ रहे थे। 2017 में ही टीम चैम्पियंस ट्रॉफी (champions trophy 2017) में उपविजेता बनी थी।

भारतीय क्रिकेट टीम के पूर्व स्पिनर अनिल कुंबले 2016 से 2017 तक एक साल टीम इंडिया के कोच रहे थे। इस दौरान टीम ने 17 में से 12 टेस्ट जीते, सिर्फ 1 मैच हारा, वहीं  4 मैच ड्रॉ रहे थे। 2017 में ही टीम चैम्पियंस ट्रॉफी (champions trophy 2017) में उपविजेता बनी थी।

उनकी कोंचिग में टीम शानदार प्रदर्शन कर रही थी। वह भी टीम के कोच बनकर काफी खुश थे। फिर अचनाक ऐसा कुछ हुआ कि उन्हें अपने पद से इस्तीफा देना पड़ा। 

उनकी कोंचिग में टीम शानदार प्रदर्शन कर रही थी। वह भी टीम के कोच बनकर काफी खुश थे। फिर अचनाक ऐसा कुछ हुआ कि उन्हें अपने पद से इस्तीफा देना पड़ा। 

दरअसल, इंडियन क्रिकेट टीम के कैप्टन विराट कोहली अनिल कुंबले के टीम मैनेजमेंट के तरीके से खुश नहीं थे। कई बार दोनों के बीच मतभेद खुलकर सामने आया था। वह उनके नेचर से जरा भी खुश नहीं थे।

दरअसल, इंडियन क्रिकेट टीम के कैप्टन विराट कोहली अनिल कुंबले के टीम मैनेजमेंट के तरीके से खुश नहीं थे। कई बार दोनों के बीच मतभेद खुलकर सामने आया था। वह उनके नेचर से जरा भी खुश नहीं थे।

2017 में जब भारतीय टीम चैम्पियंस ट्रॉफी में उपविजेता बनी थी, उसके तुरंत बाद 20 जून 2017 कुंबले ने पद छोड़ दिया था। ऐसा माना जाता है कि उस टूर्नामेंट से विराट कोहली ने बीसीसीआई को बताया था कि खिलाड़ी कुंबले के साथ कंफर्टेबल नहीं हैं। 
 

2017 में जब भारतीय टीम चैम्पियंस ट्रॉफी में उपविजेता बनी थी, उसके तुरंत बाद 20 जून 2017 कुंबले ने पद छोड़ दिया था। ऐसा माना जाता है कि उस टूर्नामेंट से विराट कोहली ने बीसीसीआई को बताया था कि खिलाड़ी कुंबले के साथ कंफर्टेबल नहीं हैं। 
 

हालांकि कई मौकों पर कुंबले कह चुके हैं कि वह टीम के कोच बनकर काफी खुश थे। एक इंटव्यू के दौरान उन्होंने कहा था कि कोच पद से विदाई बेहतर तरीके से हो सकती थी, लेकिन अब उसका पछतावा नहीं है।

हालांकि कई मौकों पर कुंबले कह चुके हैं कि वह टीम के कोच बनकर काफी खुश थे। एक इंटव्यू के दौरान उन्होंने कहा था कि कोच पद से विदाई बेहतर तरीके से हो सकती थी, लेकिन अब उसका पछतावा नहीं है।

बता दें कि कुंबले फिलहाल यूएई में है और किंग्स इलेवन पंजाब के बॉलिंग कोच है। वे आईसीसी क्रिकेट समिति के अध्यक्ष भी हैं। इनकी अध्यक्षता वाली समिति ने कोरोना के बीच क्रिकेट शुरू करने में बॉल पर थूक लगाने पर रोक लगाई थी। 

बता दें कि कुंबले फिलहाल यूएई में है और किंग्स इलेवन पंजाब के बॉलिंग कोच है। वे आईसीसी क्रिकेट समिति के अध्यक्ष भी हैं। इनकी अध्यक्षता वाली समिति ने कोरोना के बीच क्रिकेट शुरू करने में बॉल पर थूक लगाने पर रोक लगाई थी। 

अनिल कुंबले क्रिकेट करियर भी बेहद शानदार रहा था। वे पाकिस्तान के खिलाफ टेस्ट मैच की एक पारी में पूरे 10 विकेट लेने वाले पहले गेंदबाज बनें। इसके साथ ही उन्होंने 132 टेस्ट मैच में 619 विकेट लिए थे। वहीं, 265 एकदिवसीय मैच में 337 विकेट लेने का रिकार्ड भी उनके नाम है। उन्होंने 2012 में क्रिकेट से संन्यास लिया था।

अनिल कुंबले क्रिकेट करियर भी बेहद शानदार रहा था। वे पाकिस्तान के खिलाफ टेस्ट मैच की एक पारी में पूरे 10 विकेट लेने वाले पहले गेंदबाज बनें। इसके साथ ही उन्होंने 132 टेस्ट मैच में 619 विकेट लिए थे। वहीं, 265 एकदिवसीय मैच में 337 विकेट लेने का रिकार्ड भी उनके नाम है। उन्होंने 2012 में क्रिकेट से संन्यास लिया था।

Follow Us:
Download App:
  • android
  • ios