Asianet News Hindi

झारखंड के CM हेमंत सोरेन ने भावुक होकर अपनी पत्नी कल्पना के बारे में कही यह बात और छुए मां-पिता के पैर..

First Published Feb 7, 2020, 6:10 PM IST
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp

रांची, झारखंड.  दूसरी बार झारखंड के मुख्यमंत्री बने हेमंत सोरेन अपनी साधारण जीवनशैली के लिए जाने जाते हैं। उनकी दूसरी खूबी, जनता के लिए सहज-सरल और उपलब्ध। हाल में मुख्यमंत्री पद की शपथ लेने वाले हेमंत सोरेन 8 फरवरी को अपनी शादी की 14वीं सालगिरह मनाएंगे। वे शुक्रवार को हेलिकॉप्टर से पत्नी कल्पना के संग वाराणसी पहुंचे। यहां वे काशी विश्वनाथ मंदिर में दर्शन करेंगे। वहीं गंगा आरती में भी शामिल होंगे। शनिवार को सोरेने मिर्जापुर जाएंगे। यहां मां विंध्यवासनी के दर्शन करके शाम 4 बजे झारखंड लौट आएंगे। इस बीच सोरेन ने अपने ट्वीटर पर पत्नी के संग फोटो शेयर किया है। उन्होंने लिखा है कि ‘आज हमारे विवाह को 14 वर्ष हो गए। राजनीतिक जीवन में आने के बाद मेरे उतार-चढ़ाव भरे संघर्षपूर्ण सफर में हमजोली रही मेरी धर्मपत्नी कल्पना, आज की मेरी सफलता में अहम योगदान रखती है।’ हेमंत ने अपने पिता और झारखंड के पूर्व मुख्यमंत्री शिबू सोरेन और मां रूपी से आशीर्वाद लेते फोटो भी शेयर किए हैं।

बता दें कि ओडिशा के मयूरभंज की रहने वालीं कल्पना के साथ शिबू सोरेने के बेटे हेमंत सोरेने की शादी हुई थी। यह अरेंज्ड मैरिज है। कल्पना रांची में एक प्ले स्कूल चलाती हैं। वे सामाजिक कार्यों में भी बढ़-चढ़कर हिस्सा लेती हैं। मिलनसार और हंसमुख स्वभाव वाली कल्पना बेशक राजनीति से दूर रहती हैं, लेकिन अपने राजनीतिक परिवार को एक सूत्र में बांधे रखने में निपुण हैं।

बता दें कि ओडिशा के मयूरभंज की रहने वालीं कल्पना के साथ शिबू सोरेने के बेटे हेमंत सोरेने की शादी हुई थी। यह अरेंज्ड मैरिज है। कल्पना रांची में एक प्ले स्कूल चलाती हैं। वे सामाजिक कार्यों में भी बढ़-चढ़कर हिस्सा लेती हैं। मिलनसार और हंसमुख स्वभाव वाली कल्पना बेशक राजनीति से दूर रहती हैं, लेकिन अपने राजनीतिक परिवार को एक सूत्र में बांधे रखने में निपुण हैं।

जब हेमंत सोरेन दूसरी बार झारखंड के मुख्यमंत्री बने, तब कल्पना उनके साथ कंधे से कंधा मिलाकर देखी गईं। हालांकि अभी वे राजनीति से दूर ही रहना चाहती हैं। इस कपल के दो बेटे हैं।

जब हेमंत सोरेन दूसरी बार झारखंड के मुख्यमंत्री बने, तब कल्पना उनके साथ कंधे से कंधा मिलाकर देखी गईं। हालांकि अभी वे राजनीति से दूर ही रहना चाहती हैं। इस कपल के दो बेटे हैं।

रामगढ़ जिले के नेमरा गांव में 10 अगस्त, 1975 को हेमंत सोरेन का जन्म हुआ था। इनके पिता शिबू सोरेन ने 1970 के दशक में आदिवासियों के हित में राजनीति में कदम रखा था। उन्हें गुरुजी के नाम से भी जाना जाता है।

रामगढ़ जिले के नेमरा गांव में 10 अगस्त, 1975 को हेमंत सोरेन का जन्म हुआ था। इनके पिता शिबू सोरेन ने 1970 के दशक में आदिवासियों के हित में राजनीति में कदम रखा था। उन्हें गुरुजी के नाम से भी जाना जाता है।

हेमंत के दो भाई थे। एक भाई दुर्गा की बीमारी के चलते मौत हो गई थी। छोटा भाई बसंत और बहन अंजली राजनीति में सक्रिय हैं।

हेमंत के दो भाई थे। एक भाई दुर्गा की बीमारी के चलते मौत हो गई थी। छोटा भाई बसंत और बहन अंजली राजनीति में सक्रिय हैं।

हेमंत सोरेन पहली बार 15 जुलाई, 2013 को झारखंड के मुख्यमंत्री बने थे। हालांकि वे 2014 तक ही इस पद पर रह सके। अब दुबारा मुख्यमंत्री बने हैं। हेमंत ने अपना राजनीति करियर 2009 में शुरू किया था। वे राज्यसभा के लिए नामांकित हुए थे।

हेमंत सोरेन पहली बार 15 जुलाई, 2013 को झारखंड के मुख्यमंत्री बने थे। हालांकि वे 2014 तक ही इस पद पर रह सके। अब दुबारा मुख्यमंत्री बने हैं। हेमंत ने अपना राजनीति करियर 2009 में शुरू किया था। वे राज्यसभा के लिए नामांकित हुए थे।

हेमंत हमेशा यंग सोच को जीते हैं। वे जींस में खुद को कम्फर्ट महसूस करते हैं। यानी ज्यादातर समय वे जींस-शर्ट और सैंडल में देखे जा सकते हैं।

हेमंत हमेशा यंग सोच को जीते हैं। वे जींस में खुद को कम्फर्ट महसूस करते हैं। यानी ज्यादातर समय वे जींस-शर्ट और सैंडल में देखे जा सकते हैं।

हेमंत सोरेन को संगीत और ड्राइविंग का शौक है। उन्हें खानपान की भी शौक है। अकसर वे किचन में भी दिखाई दे जाते हैं।

हेमंत सोरेन को संगीत और ड्राइविंग का शौक है। उन्हें खानपान की भी शौक है। अकसर वे किचन में भी दिखाई दे जाते हैं।

Follow Us:
Download App:
  • android
  • ios