Asianet News Hindi

महामारी से देवी बनी कोरोना, इस तरह की पूजा करने से खत्म होगा संक्रमण..जानिए 9 नंबर का कनेक्शन?

First Published Jun 6, 2020, 1:37 PM IST
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp

रांची. कोरोना वायरस ने पूरी दुनिया में तबाही मचाकर रखी हुई है। विश्वभर के सभी विज्ञानिक और डॉक्टर इसकी दवा को खोजने में लगे हुए हैं। वहीं भारत सरकार से लेकर राज्य की सरकारें भी इस महामारी के प्रति लोगो को जागरूक कर रही हैं। साथ ही इसके बचने के उपाय भी बता रहे हैं। लेकिन, वहीं देश के कुछ हिस्सों से इस महामारी को लेकर अंधविश्वास की खबरें भी सामने आ रही हैं। जहां लोग कोरोना को देवी मानकर उसकी पूजा कर रहे हैं।

कोरोना महामारी के बढ़ते कहर के बीच अंधविश्वास की यह तस्वीर झारखंड से सामने आई है। जहां महिलाएं कोरोना को देवी मानकर पूजा कर रही हैं। इस पूजा का नियम है कि जो भी चढाया जाता है उसकी संख्या 9 होती है। यानी 9 लड्डू, 9 लौंग, 9 अड़हुल फूल, जल, अगरबत्ती आदि। 

कोरोना महामारी के बढ़ते कहर के बीच अंधविश्वास की यह तस्वीर झारखंड से सामने आई है। जहां महिलाएं कोरोना को देवी मानकर पूजा कर रही हैं। इस पूजा का नियम है कि जो भी चढाया जाता है उसकी संख्या 9 होती है। यानी 9 लड्डू, 9 लौंग, 9 अड़हुल फूल, जल, अगरबत्ती आदि। 

बता दें कि यह ऐसी जीमन पर कोरोना देवी की पूजा करती हैं, जहां कभी कुदाल नहीं चली हो। वह खुद अपने हाथ से जमीन को खोदती हैं, फिर गड्डे में पूजन की सामग्री डाल कर पूजा करती हैं।
 

बता दें कि यह ऐसी जीमन पर कोरोना देवी की पूजा करती हैं, जहां कभी कुदाल नहीं चली हो। वह खुद अपने हाथ से जमीन को खोदती हैं, फिर गड्डे में पूजन की सामग्री डाल कर पूजा करती हैं।
 

इस पूजो को लेकर ऐसी अफवाहें उड़ाई जा रही हैं कि इन महिलाओं कुछ दिन पहले खेत में एक गाय मिली थी। अचानक उस गाय ने एक बूढ़ी महिला का रूप रख लिया। जिसको देखकर महिलाएं भागने लगी तो वह बूढ़ी महिला बोली- डरो मत वह कोरना माई है, अगर कोई मेरी इस विधि से पूजा करेगा तो उसके घर कोरोना का संक्रमण नहीं पहुंचेगा।
 

इस पूजो को लेकर ऐसी अफवाहें उड़ाई जा रही हैं कि इन महिलाओं कुछ दिन पहले खेत में एक गाय मिली थी। अचानक उस गाय ने एक बूढ़ी महिला का रूप रख लिया। जिसको देखकर महिलाएं भागने लगी तो वह बूढ़ी महिला बोली- डरो मत वह कोरना माई है, अगर कोई मेरी इस विधि से पूजा करेगा तो उसके घर कोरोना का संक्रमण नहीं पहुंचेगा।
 


यह महिलाओं का कहना है कि कोरोना माई नाराज हैं, इसलिए ही महामारी का प्रकोप बढ़ता जा रहा है। उनको प्रसन्न करने के लिए पूजा की जा रही है। ताकि उनका गुस्सा कम हो जाए और वह  अपने स्थान पर वापस चली जाएं।
 


यह महिलाओं का कहना है कि कोरोना माई नाराज हैं, इसलिए ही महामारी का प्रकोप बढ़ता जा रहा है। उनको प्रसन्न करने के लिए पूजा की जा रही है। ताकि उनका गुस्सा कम हो जाए और वह  अपने स्थान पर वापस चली जाएं।
 


यह तस्वीर झारखंड की है, जहां पत्थर पर एक चित्र उकेरा है। कहा- यदि आस्था से कोरोना ठीक हो जाता है इसमें क्या बुराई है।


यह तस्वीर झारखंड की है, जहां पत्थर पर एक चित्र उकेरा है। कहा- यदि आस्था से कोरोना ठीक हो जाता है इसमें क्या बुराई है।

Follow Us:
Download App:
  • android
  • ios