Asianet News Hindi

हौसलों को सलाम: पिता को देखते ही बेटी की आंख से छलके खुशी के आंसू, बोली मुझे आप पर गर्व है पापा...

First Published Apr 12, 2020, 4:18 PM IST
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp

भोपाल. पूरे देश में कोरोना रोज कोरोना वायरस के मामले लगातार बढ़ते जा रहे हैं। वहीं इस महामारी से मरने वालों का आंकड़ा 300 के पार पहुंच गया है। लेकिन, इन सबके बीच राहत भरी खबरे सामने आ रही हैं। जहां संक्रमित लोग कोरोना को मात देकर  पूरी तरह से स्वस्थ घर लौट रहे हैं। इसी बीच भोपाल से भी एक गुड न्यूज आई है। जहां एक रेलवे का गार्ड ठीक होकर अपने घर पहुंचा।
 

बता दें कि कुछ दिन पहले  रेलवे गार्ड आरएस धाकड़ की कोरोना रिपोर्ट पॉजिटिव पाई गई थी। जहां उनको अस्पताल में भर्ती कर दिया था। लेकिन उसके परिवारवाले इतने दिनों तक मायूस और दुखी होकर दिन काट रहे थे। शनिवार को जब वह कोरोना को हराकर पूरी तरह से स्वस्थ घर पहुंचे तो उनकी पत्नी मधु, बेटा आदित्य और बेटी ने उनका ताली बजाकर स्वागत किया। बेटी पापा को देखते ही इमोशनल हो गई और कहने लगी पापा मुझे आपके आत्मविश्वास पर गर्व है, आपने साबित कर दिखाया।

बता दें कि कुछ दिन पहले रेलवे गार्ड आरएस धाकड़ की कोरोना रिपोर्ट पॉजिटिव पाई गई थी। जहां उनको अस्पताल में भर्ती कर दिया था। लेकिन उसके परिवारवाले इतने दिनों तक मायूस और दुखी होकर दिन काट रहे थे। शनिवार को जब वह कोरोना को हराकर पूरी तरह से स्वस्थ घर पहुंचे तो उनकी पत्नी मधु, बेटा आदित्य और बेटी ने उनका ताली बजाकर स्वागत किया। बेटी पापा को देखते ही इमोशनल हो गई और कहने लगी पापा मुझे आपके आत्मविश्वास पर गर्व है, आपने साबित कर दिखाया।

बता दें कि  रेलवे गार्ड आरएस धाकड़ के बाद उनके परिवार के अन्य सदस्यों को जांच रिपोर्ट आने से पहले भी आउटसोलेटेड किया गया था। जांच रिपोर्ट निगेटिव आने के बाद बाहर किया गया था।

बता दें कि रेलवे गार्ड आरएस धाकड़ के बाद उनके परिवार के अन्य सदस्यों को जांच रिपोर्ट आने से पहले भी आउटसोलेटेड किया गया था। जांच रिपोर्ट निगेटिव आने के बाद बाहर किया गया था।

रेलवे गार्ड आरएस धाकड़ भोपाल के सेमरा कॉलोनी में रहते हैं। उनको शनिवार को एम्स अस्पताल से डिस्चार्ज कर है। लेकिन, उनको14 दिन तक होम क्वारैंटाइन रहना पड़ेगा।

रेलवे गार्ड आरएस धाकड़ भोपाल के सेमरा कॉलोनी में रहते हैं। उनको शनिवार को एम्स अस्पताल से डिस्चार्ज कर है। लेकिन, उनको14 दिन तक होम क्वारैंटाइन रहना पड़ेगा।

रेलवे गार्ड आरएस धाकड़  एम्स के डॉक्टर और मेडिकल स्टाफ को धन्यवाद देते हुए कहा-मैं आपकी बदौलत ही ठीक हो सका हूं। इसलिए में आप लोगों को दिल से सलाम करता हूं। उन्होंने कहा-सच में आप हिम्मत मत बनाए रखिए बाकी का काम तो हमारे डॉक्टर करते ही हैं। अगर आप हौसला बनाए रखेंगे तो इस लड़ा को जीत लेंगे।

रेलवे गार्ड आरएस धाकड़ एम्स के डॉक्टर और मेडिकल स्टाफ को धन्यवाद देते हुए कहा-मैं आपकी बदौलत ही ठीक हो सका हूं। इसलिए में आप लोगों को दिल से सलाम करता हूं। उन्होंने कहा-सच में आप हिम्मत मत बनाए रखिए बाकी का काम तो हमारे डॉक्टर करते ही हैं। अगर आप हौसला बनाए रखेंगे तो इस लड़ा को जीत लेंगे।

भोपाल एम्स से ठीक होकर घर पहुंचने वाले धाकड़ तीसरे तीसरे मरीज है जो स्वस्थ घर पहुचे है। इसके पहले एम्स  से 2 मरीज पिता और बेटी पत्रकार केके सक्सेना और उनकी बेटी गुंजन सक्सेना भी स्वस्थ होकर घर पहुंचे थे।

भोपाल एम्स से ठीक होकर घर पहुंचने वाले धाकड़ तीसरे तीसरे मरीज है जो स्वस्थ घर पहुचे है। इसके पहले एम्स से 2 मरीज पिता और बेटी पत्रकार केके सक्सेना और उनकी बेटी गुंजन सक्सेना भी स्वस्थ होकर घर पहुंचे थे।

Follow Us:
Download App:
  • android
  • ios