Asianet News Hindi

शादी का लाल जोड़ा पहनकर वीरांगना ने किया जाबांज पति को विदा, 8 महीने पहले ही हुई थी शादी

First Published Jun 19, 2020, 6:09 PM IST
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp

भोपाल, मध्य प्रदेश. लद्दाख की गालवन घाटी में चीनी सेना के साथ हुई हिंसक झड़प में शहीद हुए रीवा जिले के रहने वाले दीपक का शुक्रवार को सैन्य सम्मान के साथ अंतिम संस्कार कर दिया गया। इस दौरान हजारों लोग भारत मात के जयकारे लगाते रहे। 21 साल के दीपक की 8 महीने पहले ही शादी हुई थी। वे होली मनाकर ड्यूटी पर लौटे थे। उनकी पत्नी ने शादी के लाल जोड़े में अपने बहादुर पति को विदा किया। इस मौके पर मप्र के मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान भी मौजूद थे। मुख्यमंत्री ने शहीद की अर्थी को कंधा दिया। उनके साथ प्रदेश भाजपा अध्यक्ष वीडी शर्मा भी थे। होली पर जब वो घर आए थे, तब अपनी दुल्हन से वादा करके गए थे कि जल्द फिर मुलाकात होगी। लेकिन अब तिरंगे में लिपटा उनका पार्थिव शरीर घर पहुंचा। उनका पार्थिव शरीर लेह से रीवा और फिर वहां से उनके मनगवां इलाके के गांव फरेहदा लाया जाएगा। बता दें कि  'हिंदी-चीनी भाई-भाई' की मर्यादा और रिश्तों को भुलाकर चीनी सैनिकों ने लद्दाख बॉर्डर पर जो खूनी खेल रचा..वो बेहद शर्मनाक है। चीनी सैनिकों की कायरतापूर्ण हरकतों का जवाब देते हुए भारतीय सेना ने अपने 20 जवान खो दिए। इसमें 40 से ज्यादा चीनी सैनिकों की मौत की भी खबर है। जानिए एक बहादुर शहीद की कहानी..

जब शिवराज सिंह चौहान शहीद के घर पहुंचे, तो वीरांगना का साहस देखकर उनकी आंखें नम हो गईं। उन्होंने कहा कि जब तक देश में ऐसे वीर हैं, दुश्मन सिर उठाकर नहीं देख सकता। प्रदेश सरकार ने शहीद के परिजनों को एक करोड़ की आर्थिक सहायता और उनकी पत्नी को सरकारी सेवा में लेने की घोषणा की। 

जब शिवराज सिंह चौहान शहीद के घर पहुंचे, तो वीरांगना का साहस देखकर उनकी आंखें नम हो गईं। उन्होंने कहा कि जब तक देश में ऐसे वीर हैं, दुश्मन सिर उठाकर नहीं देख सकता। प्रदेश सरकार ने शहीद के परिजनों को एक करोड़ की आर्थिक सहायता और उनकी पत्नी को सरकारी सेवा में लेने की घोषणा की। 

 मुख्यमंत्री ने ऐलान किया कि शहीद की स्मृति में गांव में उनकी प्रतिमा लगाई जाएगी। एक सड़क का नाम उन पर किया जाएगा। आगे पढ़िए वीर की कहानी..

 मुख्यमंत्री ने ऐलान किया कि शहीद की स्मृति में गांव में उनकी प्रतिमा लगाई जाएगी। एक सड़क का नाम उन पर किया जाएगा। आगे पढ़िए वीर की कहानी..

दीपक की शादी नवंबर, 2019 में हुई थी। वे अंतिम बार होली पर घर आए थे। उनक शहादत की खबर सुनकर पत्नी के आंसू नहीं रुक रहे।

दीपक की शादी नवंबर, 2019 में हुई थी। वे अंतिम बार होली पर घर आए थे। उनक शहादत की खबर सुनकर पत्नी के आंसू नहीं रुक रहे।

दीपक के पिता गजराज सिंह ने बताया कि दीपक का बड़ा भाई प्रकाश सिंह भी सेना में है। उसी से प्रेरित होकर दीपक ने आर्मी ज्वाइन की थी। पिता की आंखों में आंसू थे, लेकिन यह भी कहा कि उन्हें अपने बेटे पर गर्व है।

दीपक के पिता गजराज सिंह ने बताया कि दीपक का बड़ा भाई प्रकाश सिंह भी सेना में है। उसी से प्रेरित होकर दीपक ने आर्मी ज्वाइन की थी। पिता की आंखों में आंसू थे, लेकिन यह भी कहा कि उन्हें अपने बेटे पर गर्व है।

दीपक के शहीद होने की सूचना बिहार रेजीमेंट ने एसपी रीवा को दी। इसके बाद पुलिस कंट्रोल रूम के जरिये इसकी खबर दीपक के घरवालों को दी गई। (अपने साथी के साथ दीपक)

दीपक के शहीद होने की सूचना बिहार रेजीमेंट ने एसपी रीवा को दी। इसके बाद पुलिस कंट्रोल रूम के जरिये इसकी खबर दीपक के घरवालों को दी गई। (अपने साथी के साथ दीपक)

Follow Us:
Download App:
  • android
  • ios