मां की मौत के बाद तस्वीर लेकर CM निवास पहुंचा मासूम बेटा, मुख्यमंत्री को बताना चाहता है अपना दर्द

First Published 17, Jun 2020, 3:25 PM

भोपाल. कोरोना के कहर ने कई परिवारों को तबाह कर दिया है। महामारी ने ऐसे दिन दिखा दिए हैं, जिसकी किसी ने कल्पना तक नहीं की थी। लाखों लोगों की रोजी रोटी छिन गई है। लॉकडाउन के दौरान देश से कई मार्मिक तस्वीरें देखने को मिल रही हैं। ऐसी एक दिल को छू लेने वाली तस्वीर मध्य प्रदेश से सामने आई है। 
 

<p>दरअसल, कुछ दिन पहले कोरोना काल में ड्यूटी के दौरान शिवपुरी में फॉर्मासिस्ट के पद पर पदस्थ महिला की मौत हो गई थी। मृतक महिला का परिवार कोरोना वॉरियर को दी जाने वाली आर्थिक सहायता के लिए सीएम शिवराज से मुलाकात के लिए सीएम हाउस के चक्कर लगा रहा है। दो दिन बीत हो जान के बाद भी अभी मुलाकात नहीं हो पाई है। </p>

दरअसल, कुछ दिन पहले कोरोना काल में ड्यूटी के दौरान शिवपुरी में फॉर्मासिस्ट के पद पर पदस्थ महिला की मौत हो गई थी। मृतक महिला का परिवार कोरोना वॉरियर को दी जाने वाली आर्थिक सहायता के लिए सीएम शिवराज से मुलाकात के लिए सीएम हाउस के चक्कर लगा रहा है। दो दिन बीत हो जान के बाद भी अभी मुलाकात नहीं हो पाई है। 

<p>मृतक महिला का पांच साल का बेटा उदित भी पिता, दादी और परिवार के दूसरे सदस्यों के साथ भोपाल आया हुआ है। मासूम अपने हाथों में मां की तस्वीर लिए हुए मुख्यमंत्री निवास के बाहर खड़ा हुआ है। <br />
 </p>

मृतक महिला का पांच साल का बेटा उदित भी पिता, दादी और परिवार के दूसरे सदस्यों के साथ भोपाल आया हुआ है। मासूम अपने हाथों में मां की तस्वीर लिए हुए मुख्यमंत्री निवास के बाहर खड़ा हुआ है। 
 

<p><br />
वंदना के पति लोकेन्द्र शर्मा कहना है कि वह ग्वालियर से भोपाल इस उम्मीद के साथ आए हैं कि सीएम शिवराज उसके परिवार को कोरोना वॉरियर्स को मिलने वाली आर्थिक सहायता देने की कृपा करें।ताकि उसके परिवार का पालन पोषण हो सके।<br />
 </p>


वंदना के पति लोकेन्द्र शर्मा कहना है कि वह ग्वालियर से भोपाल इस उम्मीद के साथ आए हैं कि सीएम शिवराज उसके परिवार को कोरोना वॉरियर्स को मिलने वाली आर्थिक सहायता देने की कृपा करें।ताकि उसके परिवार का पालन पोषण हो सके।
 

<p><br />
बता दें कि वंदना की 31 मार्च को अचानक ड्यूटी के दौरान ही तबीयत बिगड़ गई थी जिसके बाद उन्हें 1 अप्रैल को परिजन ने ग्वालियर के अस्पताल में भर्ती कराया था जहां जांच के बाद पता चला कि वंदना को ब्रेन हेमरेज हुआ है और यहीं पर करीब हफ्तेभर बाद उसकी इलाज के दौरान मौत हो गई थी।</p>


बता दें कि वंदना की 31 मार्च को अचानक ड्यूटी के दौरान ही तबीयत बिगड़ गई थी जिसके बाद उन्हें 1 अप्रैल को परिजन ने ग्वालियर के अस्पताल में भर्ती कराया था जहां जांच के बाद पता चला कि वंदना को ब्रेन हेमरेज हुआ है और यहीं पर करीब हफ्तेभर बाद उसकी इलाज के दौरान मौत हो गई थी।

loader