Asianet News Hindi

जीजा की काट दी गर्दन और हाथ,पूरे गांव ने देखा कत्लेआम,किसी ने नहीं खोली जुबान, पुलिस को सुनाई कुछ ऐसी कहानी

First Published Mar 12, 2021, 11:42 AM IST
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp

जबलपुर ( Madhya Pradesh) । जीजा की गुरुवार को हत्या करने वाले शख्स ने पुलिस से घटना की पूरी जानकारी दी। वहीं, पुलिस ने जांच पड़ताल भी पुरी कर ली है। बताते हैं कि आरोपी धीरज ने जीजा विजेत (40) को 500 मीटर दौड़कर धारदार हंसिया से 15-16 वार किया था। खेतों के मेड़ पर गिरते ही हाथ और उसने सिर को अलग कर दिया था। बता दें कि विजेत ने अपनी उम्र से 21 साल छोटी पूजा से भगाकर शादी की थी। आरोप था कि उसे मारता-पीटता था, जिससे वो उसे छोड़कर मायके आ गई थी। लेकिन, दो दिन से वो घर के पास ही आता और मिलने की कोशिश कर रहा था। वहीं, घटना की जानकारी मिलने पर पूजा ने भी फांसी लगाकर आत्महत्या कर लिया था। यह घटना तिलवारा इलाके की है। 

भइया मुझे ले चलो,...बस मेरी शादी मत करना
आरोपी ने पुलिस को बताया कि रविवार रात एक बजे पूजा ने अपने चाचा ससुर के मोबाइल से फोन किया था। उसने भाई से कहा कि भइया मुझे ले चलो, अब मैं नहीं रहना चाहती हूं। मुझे जैसे रखोगे, रह लेंगे, बस मेरी शादी मत करना। आने के बाद बेटी ने बताया कि कैसे उसकी ननद और पति टार्चर करते थे। बुधवार रात 8.30 बजे भी विजेत पीछे झाड़ी से टॉर्च मार रहा था। गुरुवार सुबह भी वह गांव में आया था।

भइया मुझे ले चलो,...बस मेरी शादी मत करना
आरोपी ने पुलिस को बताया कि रविवार रात एक बजे पूजा ने अपने चाचा ससुर के मोबाइल से फोन किया था। उसने भाई से कहा कि भइया मुझे ले चलो, अब मैं नहीं रहना चाहती हूं। मुझे जैसे रखोगे, रह लेंगे, बस मेरी शादी मत करना। आने के बाद बेटी ने बताया कि कैसे उसकी ननद और पति टार्चर करते थे। बुधवार रात 8.30 बजे भी विजेत पीछे झाड़ी से टॉर्च मार रहा था। गुरुवार सुबह भी वह गांव में आया था।

झाड़ियों में खड़ा था जीजा
पुलिस के मुताबिक आरोपी ने बताया कि 11 मार्च की सुबह विजेत गांव की ओर आया है। आरोपी ने छत से देखा तो घर के पीछे की झाड़ियों में विजेत को खड़ा पाया। इसके बाद उसने झाड़ी काटने वाली बड़ी हंसिया उठाई और उसे दौड़ा लिया।

झाड़ियों में खड़ा था जीजा
पुलिस के मुताबिक आरोपी ने बताया कि 11 मार्च की सुबह विजेत गांव की ओर आया है। आरोपी ने छत से देखा तो घर के पीछे की झाड़ियों में विजेत को खड़ा पाया। इसके बाद उसने झाड़ी काटने वाली बड़ी हंसिया उठाई और उसे दौड़ा लिया।

पूरे गांव ने देखा कत्लेआम
बताते हैं कि विजेत लगभग 500 मीटर ही भाग पाया होगा और खेतों के बीच मेड़ पर बेर के पेड के पास गिर गया। इसके बाद धीरज ने उस पर ताबड़तोड़ 15 से 16 वार कर काम तमाम कर दिया। इस हत्याकांड को पूरे गांव वालों ने देखा, लेकिन किसी ने पुलिस के सामने जुबान नहीं खोली। खुद आरोपी धीरज ने कबूलनामे में पुलिस को यह बताया है।
 

पूरे गांव ने देखा कत्लेआम
बताते हैं कि विजेत लगभग 500 मीटर ही भाग पाया होगा और खेतों के बीच मेड़ पर बेर के पेड के पास गिर गया। इसके बाद धीरज ने उस पर ताबड़तोड़ 15 से 16 वार कर काम तमाम कर दिया। इस हत्याकांड को पूरे गांव वालों ने देखा, लेकिन किसी ने पुलिस के सामने जुबान नहीं खोली। खुद आरोपी धीरज ने कबूलनामे में पुलिस को यह बताया है।
 

बहन से बोला-अब तुम्हें "वह' कभी परेशान नहीं करेगा
विजेत की हत्या के बाद खून से सना धीरज घर पहुंचा। उस समय कमरे में उसकी बहन पूजा (19) झाड़ू लगा रही थी। उसी ने दरवाजा खोला। भाई को खून से सना देख सन्न रह गई। मुंह से बोल नहीं फूटे। तभी, धीरज ने उसे अपना मोबाइल और पर्स दिया और बोला कि अब तुम्हें "वह' कभी परेशान नहीं करेगा। 
 

बहन से बोला-अब तुम्हें "वह' कभी परेशान नहीं करेगा
विजेत की हत्या के बाद खून से सना धीरज घर पहुंचा। उस समय कमरे में उसकी बहन पूजा (19) झाड़ू लगा रही थी। उसी ने दरवाजा खोला। भाई को खून से सना देख सन्न रह गई। मुंह से बोल नहीं फूटे। तभी, धीरज ने उसे अपना मोबाइल और पर्स दिया और बोला कि अब तुम्हें "वह' कभी परेशान नहीं करेगा। 
 

क्या कर दिए भइया?..फिर लगा ली फांसी
पूजा ने पूछा कि क्या कर दिए भइया? पर वह बिना कुछ बोले बाइक स्टार्ट की और बोरी में सिर लेकर खुद ही तिलवारा थाने पहुंच गया। इधर, कुछ देर बाद ही मायके में रह रही उसकी बहन पूजा ने पंखे में चुनरी का फंदा लगाकर जान दे दी।

क्या कर दिए भइया?..फिर लगा ली फांसी
पूजा ने पूछा कि क्या कर दिए भइया? पर वह बिना कुछ बोले बाइक स्टार्ट की और बोरी में सिर लेकर खुद ही तिलवारा थाने पहुंच गया। इधर, कुछ देर बाद ही मायके में रह रही उसकी बहन पूजा ने पंखे में चुनरी का फंदा लगाकर जान दे दी।

Follow Us:
Download App:
  • android
  • ios