Asianet News Hindi

इंजीनियरिंग छात्रा ने चुनी भयानक मौत: आरा मशीन से काटी गर्दन, बहन बाथरूम से चीखते हुए भागी..डरावना था सीन

First Published Mar 27, 2021, 10:13 AM IST
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp

इंदौर. मध्य प्रदेश के इंदौर शहर से एक दिल दहला देने वाला मामला सामने आया है, जहां एक इंजीनियरिंग छात्रा ने अपने लिए इतनी भयानक मौत चुनी की देखने वालों के भी रोंगटे खड़े हो गए। युवती ने फर्नीचर काटने वाली आरा मशीन से खुद का गला काट लिया। घटना के वक्त मृतका की बहन नहा रही थी, जैसे ही वह बाथरुम से बाहर निकली तो दीवारों और फर्श पर खून देखकर चौंक गई। जानिए होश उड़ा देने वाला पूरा मामला...

<p><br />
दरअसल, यह घटना इंदौर के संस्कृति पार्क भंवरकुआं थाने इलाके की है, जहां डॉली जायसवाल (24) नाम की लड़की ने यह खौफनाक कदम उठाया। पुलिस शुरूआती जांच में मामले को आत्महत्या मान रही है। जब पुलिस पहुंची तो &nbsp;छात्रा खून से लथपथ मिली और गला कटा हुआ था। जबकि मौके पर फर्नीचर रिपेयर करने वाले कटर पड़ा था। हालांकि अभी तक यह पता नहीं चल पाया है कि छात्रा ने सुसाइड क्यों किया।</p>


दरअसल, यह घटना इंदौर के संस्कृति पार्क भंवरकुआं थाने इलाके की है, जहां डॉली जायसवाल (24) नाम की लड़की ने यह खौफनाक कदम उठाया। पुलिस शुरूआती जांच में मामले को आत्महत्या मान रही है। जब पुलिस पहुंची तो  छात्रा खून से लथपथ मिली और गला कटा हुआ था। जबकि मौके पर फर्नीचर रिपेयर करने वाले कटर पड़ा था। हालांकि अभी तक यह पता नहीं चल पाया है कि छात्रा ने सुसाइड क्यों किया।

<p><br />
मृतका की बहन मोनिका ने बताया कि जैसे ही मैंने यह भयानक मंजर देखा तो चीखती हुई बाहर दौड़ी। पिता को कॉल कर बुलाया, वह पापा से कुछ कहना चाहती थी, लेकिन गला कटने से उसकी आवाज ही नहीं निकली। चारों तरफ खून ही खून था उसके पास कटर रखा था, तार प्लग में लगा था। किसी तरह हम डॉली को डॉक्टर के पास लेकर गए, लेकिन डॉक्टरों ने उसे मृत घोषित कर दिया।</p>


मृतका की बहन मोनिका ने बताया कि जैसे ही मैंने यह भयानक मंजर देखा तो चीखती हुई बाहर दौड़ी। पिता को कॉल कर बुलाया, वह पापा से कुछ कहना चाहती थी, लेकिन गला कटने से उसकी आवाज ही नहीं निकली। चारों तरफ खून ही खून था उसके पास कटर रखा था, तार प्लग में लगा था। किसी तरह हम डॉली को डॉक्टर के पास लेकर गए, लेकिन डॉक्टरों ने उसे मृत घोषित कर दिया।

<p><br />
बता दें कि डॉली के पिता ओमप्रकाश जो कि एक एसी रिपेयरिंग और इंस्टालेशन का काम करते हैं। उन्होंने बताया कि घर का फर्नीचर रिपेयर करने के लिए एक कारीगर को बुलाया था। जो सामान रखकर मजदूर लेने के लिए गया था। में भी साइट पर काम करने के लिए गया हुआ था। इतना ही नहीं मैं जब घर से निकला, तब डॉली ने ही मुझे चाय पिलाई थी। घटना के वक्त बड़ी बेटी मोनिका नहा रही थी। मैं साइट पर पहुंचा, तभी 30 मिनट बाद मोनिका का फोन आया। कहा- डॉली कट गई है। पिता ने बताया कि मुझे लगता है कि गलती से कटर पर मेरी बेटी का पैर पड़ा और बटन चालू हो गई। जिससे मशीन घूमी और वह दो-तीन जगह कट गई।</p>


बता दें कि डॉली के पिता ओमप्रकाश जो कि एक एसी रिपेयरिंग और इंस्टालेशन का काम करते हैं। उन्होंने बताया कि घर का फर्नीचर रिपेयर करने के लिए एक कारीगर को बुलाया था। जो सामान रखकर मजदूर लेने के लिए गया था। में भी साइट पर काम करने के लिए गया हुआ था। इतना ही नहीं मैं जब घर से निकला, तब डॉली ने ही मुझे चाय पिलाई थी। घटना के वक्त बड़ी बेटी मोनिका नहा रही थी। मैं साइट पर पहुंचा, तभी 30 मिनट बाद मोनिका का फोन आया। कहा- डॉली कट गई है। पिता ने बताया कि मुझे लगता है कि गलती से कटर पर मेरी बेटी का पैर पड़ा और बटन चालू हो गई। जिससे मशीन घूमी और वह दो-तीन जगह कट गई।

<p><br />
आसपास के लोगों और रिश्तेदारों ने बताया कि डॉली को कुछ समय पहले &nbsp;माइग्रेन की शिकायत हुई थी। जिसके लेकर वह तनाव में रहने लगी थी। वह&nbsp;प्राइवेट फॉर्म भरकर सिविल इंजीनियर की पढ़ाई कर रही थी। बचपन में ही डॉली की मां यानि ओमप्रकाश की पत्नी की मौत हो गई थी। ऐसे में सारी जिम्मेदारी पिता के कंधों पर थी। लेकिन डॉली का आत्महत्या करना समझ से परे लग रहा है।</p>


आसपास के लोगों और रिश्तेदारों ने बताया कि डॉली को कुछ समय पहले  माइग्रेन की शिकायत हुई थी। जिसके लेकर वह तनाव में रहने लगी थी। वह प्राइवेट फॉर्म भरकर सिविल इंजीनियर की पढ़ाई कर रही थी। बचपन में ही डॉली की मां यानि ओमप्रकाश की पत्नी की मौत हो गई थी। ऐसे में सारी जिम्मेदारी पिता के कंधों पर थी। लेकिन डॉली का आत्महत्या करना समझ से परे लग रहा है।

undefined
Follow Us:
Download App:
  • android
  • ios