Asianet News Hindi

कोरोना से डरिए..इतना नहीं: पत‍ि की मौत तो पत्नी ने लगा ली फांसी..कहती रही उन्हें बचा लो मैं कुछ कर लूंगी

First Published Apr 29, 2021, 2:32 PM IST
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp

कोबरा/इंदौर (मध्य प्रदेश). कोरोना अपने चरम पर पहुंच चुका है, जिसकी चपेट में आने से कई हसंते-खेलते परिवार उजड़ रहे हैं। लेकिन महामारी के खिलाफ चल रही यह जंग तनाव में आकर नहीं, बल्कि सावधानी और हिम्मत से जीती जाती है। ना कि परिवार के किसी सदस्य के जाने के बाद आप भी दुनिया छोड़ दो। मध्य प्रदेश के इंदौर से ऐसी ही एक दिल को झकझोर देने वाली खबर सामने आई है। जहां पति की कोरोना की वजह से मौत हो गई। अपने पति के स्वस्थ होने का इंतजार कर रही पत्नी का सब्र का बांध टूट गया और उसने फांसी लगाकर अपनी जान दे दी। आइए जानते हैं यह मार्मिक कहानी..कैसे 18 साल की लव स्टोरी का कोरोना से हुआ दुखद अंत...


दरअसल, कोरोना की लड़ाई लड़ रहे 36 साल के पवन पवार की बुधवार शाम इंदौर के भंवरकुआं इलाके की एक निजी अस्पताल में मौत हो गई। जैसे ही इस घटना की जानकारी मृतक की पत्नी नेहा पवार को पता चली तो उसने भी ढाई घंटे बाद अपने फ्लैट में फांसी लगा ली। इस घटना के बाद पति-पत्नी के परिवारों में मातम पसर गया। हर कोई यही कह रहा था कि नेहा तो समझदार थी, वह आखिर कैसे इतना बड़ा कदम उठा सकती है। लेकिन अब ऐसी बातें करने से कोई मतलब नहीं, क्योंकि वो इस दुनिया में रही ही नहीं।


दरअसल, कोरोना की लड़ाई लड़ रहे 36 साल के पवन पवार की बुधवार शाम इंदौर के भंवरकुआं इलाके की एक निजी अस्पताल में मौत हो गई। जैसे ही इस घटना की जानकारी मृतक की पत्नी नेहा पवार को पता चली तो उसने भी ढाई घंटे बाद अपने फ्लैट में फांसी लगा ली। इस घटना के बाद पति-पत्नी के परिवारों में मातम पसर गया। हर कोई यही कह रहा था कि नेहा तो समझदार थी, वह आखिर कैसे इतना बड़ा कदम उठा सकती है। लेकिन अब ऐसी बातें करने से कोई मतलब नहीं, क्योंकि वो इस दुनिया में रही ही नहीं।


बता दें कि  पवन पवार संक्रमित होने के बाद 15 अप्रैल को भर्ती हुए थे। लेकिन कोरोना के कहर में पवन की हालत लगातार बिगड़ती जा रही थी। पति की हालत देख पत्नी नेहा बार-बार यही कहा करती कि उनको बचा लीजिए, नहीं तो मैं उनके बिना नहीं जी पाऊंगी। वह ही मेरी सांसे हैं, अगर उन्हें कुछ हुआ तो मेरी सांसे भी थम जाएंगी। आखिरकार नेहा ने किया भी कुछ ऐसा ही। (मृतक पवन पवार)


बता दें कि  पवन पवार संक्रमित होने के बाद 15 अप्रैल को भर्ती हुए थे। लेकिन कोरोना के कहर में पवन की हालत लगातार बिगड़ती जा रही थी। पति की हालत देख पत्नी नेहा बार-बार यही कहा करती कि उनको बचा लीजिए, नहीं तो मैं उनके बिना नहीं जी पाऊंगी। वह ही मेरी सांसे हैं, अगर उन्हें कुछ हुआ तो मेरी सांसे भी थम जाएंगी। आखिरकार नेहा ने किया भी कुछ ऐसा ही। (मृतक पवन पवार)


पवन का हाल ही में पीएससी के जरिए रेंजर पद के लिए चयन हुआ था। वह ट्रेनिंग के लिए देहरादून जाने वाले थे, लेकिन कोरोना के संक्रमण के चलते उन्होंने इसे टाल दिया था। इसी बीच वह संकमित हो गए। वहीं नेहा भी निजी कॉलेज में असिस्टेंट प्रोफेसर थीं। दोनों इंदौर में किराए के घर में रहते थे।


पवन का हाल ही में पीएससी के जरिए रेंजर पद के लिए चयन हुआ था। वह ट्रेनिंग के लिए देहरादून जाने वाले थे, लेकिन कोरोना के संक्रमण के चलते उन्होंने इसे टाल दिया था। इसी बीच वह संकमित हो गए। वहीं नेहा भी निजी कॉलेज में असिस्टेंट प्रोफेसर थीं। दोनों इंदौर में किराए के घर में रहते थे।


बता दें कि नेहा और पवन का यह रिश्ता करीब 18 साल पुराना था, उनकी लव स्टोरी 18 वर्ष पहले छत्तीसगढ़ के कोरबा से शुरू हुई थी। 5 साल पहले दोनों परिवारवालों की अनुमति के बाद लव मैरिज की थी। जिसका अब दुखद अंत हो गया।
 


बता दें कि नेहा और पवन का यह रिश्ता करीब 18 साल पुराना था, उनकी लव स्टोरी 18 वर्ष पहले छत्तीसगढ़ के कोरबा से शुरू हुई थी। 5 साल पहले दोनों परिवारवालों की अनुमति के बाद लव मैरिज की थी। जिसका अब दुखद अंत हो गया।
 


पवन के परिजन बड़वानी तो नेहा के परिजन कोबरा से शव लेने के लिए इंदौर पहुंचे हुए हैं। पवन के पिता ने कहा कि मातम कि हम अस्पताल में ही थे, किसी तरह नेहा को दिलासा दे रहे थे। इस बीच नेहा ने कहा- मुझे फ्लैट से कुछ कपड़े लाना है। वह भाई अनुराग को लेकर फ्लैट पहुंची। भाई को नीचे रोककर अकेली ऊपर गई। कुछ देर बाद ही उसने पंखे से लटक फांसी लगा ली। भाई ने जब फोन लगाया तो कोई जवाब नहीं आया। इसके बाद वह फ्लैट में गया तो  नेहा फंदे पर झूलती नजर आई। 

 

Asianet News का विनम्र अनुरोधः आइए साथ मिलकर कोरोना को हराएं, जिंदगी को जिताएं...। जब भी घर से बाहर निकलें माॅस्क जरूर पहनें, हाथों को सैनिटाइज करते रहें, सोशल डिस्टेंसिंग का पालन करें। वैक्सीन लगवाएं। हमसब मिलकर कोरोना के खिलाफ जंग जीतेंगे और कोविड चेन को तोडेंगे। #ANCares #IndiaFightsCorona


पवन के परिजन बड़वानी तो नेहा के परिजन कोबरा से शव लेने के लिए इंदौर पहुंचे हुए हैं। पवन के पिता ने कहा कि मातम कि हम अस्पताल में ही थे, किसी तरह नेहा को दिलासा दे रहे थे। इस बीच नेहा ने कहा- मुझे फ्लैट से कुछ कपड़े लाना है। वह भाई अनुराग को लेकर फ्लैट पहुंची। भाई को नीचे रोककर अकेली ऊपर गई। कुछ देर बाद ही उसने पंखे से लटक फांसी लगा ली। भाई ने जब फोन लगाया तो कोई जवाब नहीं आया। इसके बाद वह फ्लैट में गया तो  नेहा फंदे पर झूलती नजर आई। 

 

Asianet News का विनम्र अनुरोधः आइए साथ मिलकर कोरोना को हराएं, जिंदगी को जिताएं...। जब भी घर से बाहर निकलें माॅस्क जरूर पहनें, हाथों को सैनिटाइज करते रहें, सोशल डिस्टेंसिंग का पालन करें। वैक्सीन लगवाएं। हमसब मिलकर कोरोना के खिलाफ जंग जीतेंगे और कोविड चेन को तोडेंगे। #ANCares #IndiaFightsCorona

Follow Us:
Download App:
  • android
  • ios